बिहार : एक दिन में रिकॉर्ड 159 कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वस्थ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 29 मई 2020

बिहार : एक दिन में रिकॉर्ड 159 कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वस्थ

159-corona-affected-recoverd-in-bihar
पटना,29 मई (आर्यावर्त संवाददाता) । प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि बिहार में आज एक दिन में रिकॉर्ड 159 कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वस्थ हुए हैं । बिहार में अभी तक कुल 1209 मरीज हो स्वस्थ हो चुके है। उन्होंने सभी कोरोना विजेताओं को शुभकामनाएं दी है। मगर स्वास्थ्य मंत्री ने एक दिन में दो लोगों की रिकॉड मौत का जिक्र नहीं किए। अभी तक 18 लोगों की मौत हो गयी है।कुल 3276 पॉजिटिव हैं। यह जब से कहना शुरू किया गया कि अब कोरोना के साथ जीना सीखना पड़ेगा। वहीं कोरोना का प्रसार व मिलने वाले मरीजों की संख्या बढ़ जाने से वैसे-वैसे देश और प्रदेश के लोगों के बीच में कोरोना के प्रति डर कम होता जा रहा है। कम से कम बिहार में तो यह देखने के बाद यह अनुभव हो रहा है। बिहार में प्रारंभिक काल में कोरोना शुरू होने वक्त उस समय  कंप्लीट लॉकडाउन,सोशल डिस्टेंसिंग सब दिखता था।लोकल पुलिस भी सक्रिय रही। लेकिन अब तो सामान्य दिनों की तरह लोगों की दिनचर्या हो गयी।जबकि मरीजों की संख्या  3276 हो गयी है। देश के टॉप 10 राज्य की श्रेणी में बिहार है। बढ़ती संख्या में तो लॉकडाउन की धज्जिया नेता जी और लोग उड़ाने लगे हैं। नेताओं के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग नाम को पालन नहीं कर रहे हैं। शहरों में अर्धकचरे शिक्षित कुछ लोग अवश्य आपको मास्क पहने या गमछा लपेटे देखने को मिल सकते हैं लेकिन गांवों में लोगों ने कोरोना को धता बता रखा है। ऐसा लगता है कि कोरोना को यहां औकात पता चल गया होगा।वह उच्च वर्गीय और अर्धकचरे शिक्षित मध्य वर्गीय लोगों को तो डराने में तो कुछ हद तक सफल हुआ था लेकिन गरीबों ने उसे जरा भी भाव नहीं दिया। उन्होंने उसे चुनौती दिया। सड़कों पर उतर पड़े। बसों में, ट्रक,बस , टेम्पो या फिर पैदल ही झुंड के झुंड मीलों सफर कर कोरोना को उसकी औकात बता दी। उनमें से कुछ तो संक्रमित अवस्था में ही मीलों सफर पुरी की और अन्ततः कोरोना को हराने में भी सफल हुए।अब तो ऐसे वीर बांकुड़ों को देख कर हम जैसे अधकचरे शिक्षित मध्य वर्गीय भी कोरोना से कम डरने लगे हैं। अब तो सरकारें भी मानने लगी हैं कि कोरोना-वोरोना ऐसे ही चलेगा।तभी तो लाक डाउन खोल रही है। डिस्चार्ज पॉलिसी बदल रही है।क्वारंटाइन पॉलिसी में रोज बदलाव हो रहा है। बिहार में शुक्रवार को दो और कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई। इसके साथ ही प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण से अब तक मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 18 हो गया है। सीवान और भागलपुर में कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत हो गई है। सीवान के बुजुर्ग मरीज की मौत राजधानी पटना के एनएमसीएच में इलाज के दौरान हुई। सीवान के निवासी 62 वर्षीय बुजुर्ग को पिछले दिनों कोरोना संक्रमित होने के बाद इलाज के लिए एनएमसीएच में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि इस बुजुर्ग को और भी कई गंभीर बीमारियां थीं।  वहीं भागलपुर के जगदीशपुर प्रखंड में एक अधेड़ की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। ईद मनाने के एक दिन पूर्व आठ लोग बोलेरो से एक साथ मुंबई से भागलपुर पहुंचे थे। 41 साल के अधेड़ बिना किसी जांच पड़ताल कराये या बिना क्वारेंटाइन सेंटर में रहे सीधे अपने घर जाकर चोरी छिपे रह रहे थे। तबीयत खराब होने पर परिजन उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी ही कर रहे थे कि रास्ते में उनकी मौत हो गई। कोरोना लक्षण मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गुरुवार को मृतक का सैम्पल लेकर जांच के लिए भेजा था।  इस संबंध में जगदीशपुर के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ, ब्रजभूषण मंडल ने बताया की 41 वर्षीय मृतक की जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। उन्होंने बताया कि वरीय अधिकारियों के कहने पर मृतक के संपर्क में आये लोगों की पहचान की जा रही है। वहीं इस सबंध में जिला स्तर पर पुष्टि के लिए भागलपुर के सीएस से खबर लिखे जाने तक संपर्क नहीं हो पाया। 

कोई टिप्पणी नहीं: