‘नित्योत्सव कवि’ निसार अहमद का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 मई 2020

‘नित्योत्सव कवि’ निसार अहमद का निधन

poet-nisar-ahmad-passes-away
बेंगलुरु, तीन मई, कन्नड़ भाषा के विख्यात कवि और पद्मश्री से सम्मानित के एस निसार अहमद का रविवार को 84 साल की उम्र में निधन हो गया।  सूत्रों के अनुसार “नित्योत्सव कवि” कहे जाने वाले अहमद का शहर में स्थित उनके आवास पर निधन हो गया।  अहमद कैंसर से जूझ रहे थे, जिसके कारण कुछ समय के लिए उन्हें अस्पताल में भर्ती भी कराया गया था।  उनके पुत्र का भी हाल ही में कैंसर से निधन हो गया था।  अपनी नित्योत्सव कविता से अहमद घर-घर में प्रसिद्ध हो गए थे।  उनकी रचना बाद में एक लोकप्रिय गीत बन गई थी।  बेंगलुरु ग्रामीण के देवनहल्ली में जन्मे अहमद पेशे से भूगर्भशास्त्री थे।  उन्होंने भूगर्भशास्त्र के व्याख्याता के तौर पर बेंगलुरु और शिवमोगा के कॉलेजों में अध्यापन भी किया था।  अहमद को पद्मश्री, कन्नड़ साहित्य अकादमी पुरस्कार समेत कई पुरस्कार मिले थे।  उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कहा कि कन्नड़ साहित्य जगत और राज्य के लिए यह अपूरणीय क्षति है।

कोई टिप्पणी नहीं: