बिहार : अब कुछ ही देर में देश के लिए प्रार्थना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 31 मई 2020

बिहार : अब कुछ ही देर में देश के लिए प्रार्थना

prayer-for-nation
पटना,31 मई . यूनाइटेड क्रिश्चियन फोरम ने मिलकर अपने राष्ट्र के लिए एक साथ प्रार्थना करने का फैसला किया है. इसे ईसा मसीह के पुनर्जीवित होने के 50वें दिन पेन्तेकोस्त का पर्व दिन 31 मई को 12 बजे दिन से मनाने का फैसला किया है.पेन्तेकोस्त का पर्व रविवार को है.यह ईसाई समुदाय का महत्वपूर्ण पर्वों में एक है.  मुंबई के आर्कबिशप कार्डिनल ओस्वाल्ड ग्रेशस ने कहा कि राष्ट्र्ीय स्तर पर पेन्तेकोस्त का पर्व के अवसर पर अपने देश के लिए प्रार्थना करेंगे. इस प्रार्थना को कोरोना के इस महामारी के दौर में 31 मई को दिन के 12 बजे से भारत के सभी चर्चों द्वारा संयुक्त रूप से विशेष प्रार्थना ‘आशा की प्रार्थना‘ का आयोजन किया गया है. कार्डिनल ने कहा कि जबकि इस समय देश-विदेश-प्रदेश मुश्किल की दौर से गुजर रहे है.तब इस संकट के दौर में विशेष प्रार्थना करने की जरूरत है.महाराष्ट्र् के मुख्यमंत्री ने भी ईसाई समुदाय से प्रार्थना करने का आग्रह कर चुके हैं. उन्होंने कहा कि नेशनल लेबल पर देश में विभिन्न तरह के चर्च हैं. सभी ने मिलकर संयुक्त रूप से प्रार्थना करने पर सहमत हो गये हैं. वैश्विक कोरोना संक्रमित टाॅप 10 देशों में भारत की 9 वीं स्थान है. जो चिंतादायक स्थिति पर पहुंचना शुरू कर दिया है. कोरोना काल के लाॅकडाउन 4 के अंतिम दिन 31 मई को 12 बजे से देश के लिए प्रार्थना समर्पित करनी हैं.  इन्दौर धर्मप्रांत के बिशप चाको थोट्टुमारिकल एस वी डी ने सभी चर्चों से आग्रह किया है कि हम सभी को इस महामारी के समय एकजुट होकर कोरोना-मुक्त एक बेहतर कल के लिए प्रार्थना करें.उन्होंने कहा कि हमारे देश के सभी चर्चों ने मिलकर भारत के लिए प्रार्थना करने का निर्णय किया है.हम देश के नियमों को मानते हुए अपनी आवाज, अपनी प्रार्थना और चर्च की घंटीयों को एक साथ बजाते हुए आशा के स्वर को देश के हर कोने में (स्थानीय नियमों को मानते हुए) गुंजा देंगे. इस प्रार्थना के समय हम हमारे आज के उन अनगिनत नायक/नायिकाओं जिनमें डाक्टर, नर्सें, स्वास्थ्य-चिकित्सा विशेषज्ञ, पुलिस और अन्य सुरक्षा कर्मचारी, सफाई कर्मचारी, राशन बाँटने में अपना सहयोग देने वालों, ड्राईवरों, कृषकों, बिजली, पानी और अन्य जरूरी सामानों की पूर्ति करने वालों के लिए अपनी प्रार्थना ईश्वर को समर्पित करेंगे. पटना महाधर्मप्रांत के बेतिया धर्मप्रांत के बिशप पीटर सेबेस्टियन गोवियास ने जानकारी दी है कि देश के लिए प्रार्थना करने की तैयारी कर ली गयी है. इनके साथ आग्नेस फेलिक्स, सुनील डिक्रूज, फादर हेनरी फर्नान्डो, अमित डेनिस, मेरियन वाल्टर, फादर सुशील साह, रंजीत केरोबिन, फादर आनंद पास्कल, पास्टर, फादर विमल मिंज ने देश के लिए प्रार्थना करने की अपील की है. आसनसोल धर्मप्रांत के संत जोंस चर्च के पल्ली पुरोहित फादर डोल्फी, फादर माइकल,पीटरसन,बंटी थोमस,प्रदीप माइकल,रफायल साह,विक्टर साह, आश्विन फेलिक्स, प्रतीक राय, डोरोथी शिखा, क्रिस्टीन देसना,जैसमीन साह, माइकल शर्मा और सिस्टर नीता ने मिलकर कहा है कि चलो हमलोग मिलकर प्रार्थना करते हैं अपने देश के लिए, वैश्विक कोरोना के कलह से कहराने वाले देश के लिए, अपने देश के प्रवासी श्रमिकों के लिए, भूख व बीमारी से मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए, मृतकों के परिजनों को तत्काल मुआवजा मिलने के लिए, कोरोना काल में बेरोजगार लोगों के लिए.. चलो मिलकर गाना गाते हैं..यह आयोजन किसी खास धर्म के लिए नहीं है..वरण भारत रूपी बगीया में रहने वालों के लिए है... चलो घंटी बजाएं.. जो जहां है वहां पर रहकर घंटी बजाएं...जी हां कल ही प्रार्थना दिवस है देश के लिए घंटी बजाएं, गीत गाएं और प्रार्थना करे. सामाजिक कार्यकर्ता विक्टर फ्रांसिस ने कार्यक्रम के बारे में कहा कि 31 मई, 2020 दोपहर 12.00 बजे से सभी चर्चों की घंटी को बजाना है. जो जहां भी है वहां से चुने हुए गीतों का गायन करेंगे.गाने के बाद देश के लिए प्रार्थना करेंगे.राष्ट्रीय गीत के साथ समापन होगा. कुर्जी चर्च के प्रधान पल्ली पुरोहित फादर पीयुस माइकल ओस्ता ने कहा कि चर्च बंद है. देश के लिए प्रार्थना के समय घंटी बजाएंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: