रेलवे ने पहले से बीमार लोगों, गर्भवती महिलाओं से यात्रा नहीं करने की अपील की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 मई 2020

रेलवे ने पहले से बीमार लोगों, गर्भवती महिलाओं से यात्रा नहीं करने की अपील की

railway-appeal-for-shrmik-express
नयी दिल्ली, 29 मई, श्रमिक विशेष ट्रेनों में लोगों की मौत की खबरों के मद्देनजर भारतीय रेलवे ने शुक्रवार को लोगों से अपील की कि यदि वे पहले से ही स्वास्थ्य संबंधी किसी समस्या से जूझ रहे हैं, तो वे इन ट्रनों में यात्रा नहीं करें। इन ट्रेनों में 48 घंटे में कम से कम नौ यात्रियों की मौत की खबरें 27 मई को सामने आई थीं। रेलवे का कहना है कि ये सभी लोग पहले से बीमार थे। रेलवे यह सुनिश्चित करने के लिए एक मई से रोजाना श्रमिक विशेष ट्रेनें चला रही है ताकि प्रवासी श्रमिक अपने घर पहुंच सकें। रेलवे ने एक बयान में कहा, ‘‘ऐसा देखा गया है कि पहले से ही किसी बीमारी से जूझ रहे कुछ लोग श्रमिक ट्रेनों में यात्रा कर रहे हैं, जिससे कोविड-19 संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। पहले से ही किसी बीमारी से जूझ रहे लोगों की श्रमिक ट्रेनों में मौत के कुछ दुर्भाग्यपूर्ण मामले सामने आए हैं।’’  उसने कहा, ‘‘रेलवे मंत्रालय कोविड-19 से लोगों को बचाने के लिए अपील करता है कि पहले से (उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोगों, कैंसर, रोग प्रतिरोधी क्षमता कम होने जैसी) बीमारियों से ग्रस्त लोग, गर्भवती महिलाएं, 10 साल से कम आयु के बच्चे और 65 साल से अधिक आयु के बुजुर्ग रेल यात्रा करने से बचें और अत्यावश्यक होने पर ही यात्रा करें।’’  बयान में कहा गया है कि रेलवे परिवार देश के उन सभी नागरिकों को रेल सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहा है, जिन्हें यात्रा करने की आवश्यकता है। उसने कहा, ‘‘हम इस संबंध में सभी नागरिकों का सहयोग चाहते हैं। कृपया किसी भी परेशानी या आपात स्थिति में अपने रेलवे परिवार से संपर्क करने में न हिचकिचाएं। हम हमेशा की तरह आपसी सहायता करेंगे (हेल्पलाइन नंबर- 139 एवं 138)।’’ 

कोई टिप्पणी नहीं: