सोशल साइट पर ऑनलाइन ब्यूटी कंपटीशन, आदिवासी युवक-युवतियों का दिखा जलवा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 8 जून 2020

सोशल साइट पर ऑनलाइन ब्यूटी कंपटीशन, आदिवासी युवक-युवतियों का दिखा जलवा

सोशल साइट फेसबुक ग्रुप में इंडिजिनियस मॉडल आदिवासी समुदायों के युवाओं के लिए ऑनलाइन ब्यूटी कंपटीशन का दौर चल रहा है. भारत के कई हिस्सों से युवक-युवतियों ने इसमें हिस्सा लिया. जहां आदिवासी युवक-युवतियों का जलवा दिखा.
tribel-online-beauty-compitition
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  इस लॉकडाउन में सोशल साइट फेसबुक ग्रुप में (इंडिजिनियस मॉडल) आदिवासी समुदायों के युवाओं के लिए ऑनलाइन ब्यूटी प्रतियोगिता (मिस्टर/मिस समर किंग/क्वीन) का आयोजन किया गया है. जिसमें भारत के कई हिस्सों जैसे झारखंड, बिहार, ओडिशा, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, राजस्थान, मढ़ीपुर,चेन्नई और बेंगलुरु जैसे 25 राज्यों से 76 आदिवासी युवक-युवती ने हिस्सा लिया. हिस्सा लेने वालों में आदिवासी अलग-अलग समुदाय जैसे हो, मुंडा, संथाल, उरांव, गोंड भील और अन्य ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया. इनके जूरी मेंबर्स में रांची से मॉडल और एक चैनल की एंकर अंशु शिखा लकड़ा, पुणे से मॉडल और संथाली कलाकार, रांची से फैशन डिजाइनर और ट्राइब ट्री के फाउंडर सुमंगल नाग, फोटोग्राफर और ग्रुप इंडिजिनियस मॉडल एडमिन मनोज सुंडी (मन्नू ) हैं. दो चरणों में चल रहे इस प्रतियोगिता का पहला चरण के बाद 15 लड़के और 20 लड़कियों का वोटिंग और जूरी मेंबर्स की ओर से तस्वीरों और वीडियो को देखकर पॉइंट दिया जाएगा. विजेता की घोषणा 3 जनवरी को किया जाएगा. विजेता को ई सर्टिफिकेट, ट्राइबल टी शर्ट और ट्राइब ट्री संस्था में फ्री ग्रूमिंग क्लास, प्रोडक्ट शूट और साथ ही इंडिजिनियस मॉडल के अगले कैलेंडर में जगह दी जाएगी. चार साल पहले इस ग्रुप को बनाया गया. जिसमें वर्तमान में 71 हजार मेंबर्स से अधिक और 84 देशों के लोग ग्रुप का हिस्सा हैं. इस आदिवसी ग्रुप को बनाने मकसद है आपसी एकता बनाए रखना और युवाओं को मोटिवेट करते रहना. ऐसे आदिवासी युवा जो समाज में अपना नाम बना चुके, जो युथ आइकॉन हैं, उनको इस प्लेटफार्म के जरिए उजागर करना, उनको एक प्लेटफार्म देना है. इस कार्यक्रम का आयोजन करने वाले झारखंड के पश्चिम सिंहभूम के झीकपानी के रहने वाले मनोज सुंडी हो जनजाति से आते हैं. वर्तमान में वे अपनी बहन की शिक्षा-दिक्षा के लिए जमशेदपुर में रह रहे हैं. पढ़ाई उन्होंने भूवनेश्वर से कंप्यूटर हार्डवेयर नेटवर्किंग में डिप्लोमा की है और प्रोफेशनल फोटोग्राफर के साथ-साथ समाजिक गतिविधियों में भाग लेते रहते हैं. उनका उद्देश्य यह है कि आने वाले समय में आदिवासी ब्यूटी कांटेस्ट/ टैलेंट शो करवाना, जिसमें इंडिया के अलग-अलग राज्यों के युवाओं को मंच में लाना और उनको बड़े मंच में मौका दिलवाना, ताकि एक आदिवासी भी उस मंच का हिस्सा बने जिसे सिर्फ वो देखते हैं और सोचते हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...