बिहार : ऐपवा ने कर्ज माफी के सवाल पर कई जिला मुख्यालयों पर किया प्रदर्शन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 11 जुलाई 2020

बिहार : ऐपवा ने कर्ज माफी के सवाल पर कई जिला मुख्यालयों पर किया प्रदर्शन

aipwa-protest-bihar
पटना,10 जुलाई।फिलहाल सूबे के कई जिलों में कोरोना के तेवर देखते हुए जिलाधिकारी ने  लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। बावजूद इसके ऐपवा ने अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार दर्जन भर से अधिक जिलों में स्वयं सहायता समूह संघर्ष समिति के बैनर तले स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के कर्ज माफी के सवाल पर जिले के मुख्यालयों पर  प्रदर्शन किया गया। ऐपवा की राज्य अध्यक्ष सरोज चौबे ने कहा कि समूह की महिलाओं के कर्ज माफी , उन्हें रोजगार मुहैया कराने ,जीविका का मानदेय ₹15000 करने , महिलाओं को बिना ब्याज कर्ज देने, माइक्रोफाइनेंस कंपनियों को सरकार द्वारा पैसा मुहैया कराने आदि सवालों पर जिलों पर प्रदर्शन करके ज्ञापन सौंपा गया। उन्होंने कहा कि पटना में वाट्सअप के जरिए ज्ञापन सौंपा गया। सिवान में सोहिला गुप्ता ,गोपालगंज में रीना सिंह, मोतिहारी में सलेकुन्निसा,  रोहतास में अरुण सिंह, जमुई  में हेमा झा  , गया में रीता गुप्ता, सहरसा  में बीना देवी , मुजफ्फरपुर में निर्मला सिंह, दरभंगा में साधना देवी व शनीचरी देवी ने कार्यक्रम का नेतृत्व किया एवं ज्ञापन सौंपा । आगे ऐपवा की राज्य अध्यक्ष सरोज चौबे व स्वयं सहायता समूह संघर्ष समिति की इंचार्ज रीता गुप्ता ने  कहा कि यदि सरकार स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के मांगों को पूरा नहीं करती है तो आगे  आंदोलन तेज किया जाएगा । जब सरकार लॉक डाउन का फायदा उठा कर के देश को तहस नहस करने के  बड़े-बड़े निर्णय कर रही है , बड़े पूंजीपतियों के कर्ज माफ कर रही है तो जो समूह की महिलाएं सरकारी कार्यक्रमों को लागू करने में रीढ का काम करती हैं ,  उनका का कर्ज क्यों नहीं माफ कर सकती। आज जब उनके घर में खाने तक को नहीं है तो वे कर्ज  अदायगी कहां से करेंगी।

कोई टिप्पणी नहीं: