हरियाणा करेगा चौथे खेलो इंडिया युवा खेलों की मेजबानी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 जुलाई 2020

हरियाणा करेगा चौथे खेलो इंडिया युवा खेलों की मेजबानी

haryana-will-host-khelo-india
नयी दिल्ली, 25 जुलाई, भारत में खेलों की ताकत समझे जाने वाला हरियाणा खेलो इंडिया युवा खेलों के चौथे संस्करण की मेजबानी 2021 में करेगा। इन खेलों का आयोजन हरियाणा के पंचकूला में होगा। केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शनिवार को यह घोषणा की। रिजिजू और खट्टर ने कहा कि हरियाणा चौथे खेलो इंडिया युवा खेलों की मेजबानी करेगा और इनका आयोजन अगले साल टोक्यो ओलम्पिक के बाद होगा। ये खेल हरियाणा के पंचकूला में होंगे। यह घोषणा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये की गयी। इस अवसर पर हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह, खेल सचिव रवि मित्तल और भारतीय खेल प्राधिकरण के महानिदेशक संदीप प्रधान मौजूद थे।पहले खेलो इंडिया युवा खेलों का आयोजन 2018 में दिल्ली में हुआ था जबकि दूसरे खेलो इंडिया युवा खेलों का आयोजन 2019 में महाराष्ट्र के पुणे में हुआ था। तीसरे खेलो इंडिया युवा खेलों का आयोजन 2020 में जनवरी में असम के गुवाहाटी में हुआ था। हरियाणा पहले खेलों में चैंपियन रहा था जबकि दूसरे और तीसरे खेलों में उसे दूसरा स्थान मिला था। अब तक इन खेलों का आयोजन साल के शुरू में जनवरी-फरवरी में होता आया था लेकिन कोरोना के कारण अगले वर्ष इनका आयोजन टोक्यो ओलम्पिक के बाद निर्धारित किया गया है।  रिजिजू ने खेलो इंडिया युवा खेलों के चौथे संस्करण की मेजबानी हरियाणा के करने को लेकर कहा, “मैं यह घोषणा करते हुये बहुत खुश हूं कि हरियाणा खेलो इंडिया युवा खेलों के चौथे संस्करण का मेजबान राज्य होगा। हमारे प्रधानमंत्री की सोच पर आधारित खेलाे इंडिया गेम्स देश भर में जमीन से जुड़ी प्रतिभा की पहचान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह खेल का महाकुंभ है।” रिजिजू ने कहा, “आमतौर पर खेलो इंडिया यूथ गेम्स हर वर्ष जनवरी में होता है लेकिन इस बार महामारी के कारण हम जनवरी में इसके आयोजन को स्थगित करने जा रहे हैं। मैं आश्वस्त हूं कि जब तक हम खेलो इंडिया युवा खेलों की मेजबानी करेंगे तब तक महामारी समाप्त हो चुकी होगी और हम पहले की तरह ही इसमें सभी राज्यों और 10,000 से अधिक प्रतिभागियों की भागीदारी के साथ बड़े स्तर पर इसकी मेजबानी करने में सक्षम होंगे।”

रिजिजू ने कहा, “हरियाणा में पहले से ही मजबूत खेल संस्कृति है और इसने देश को बेहतरीन एथलीट दिये हैं। मैं आश्वस्त हूं कि हरियाणा में खेलो इंडिया युवा खेलों की मेजबानी करने से हरियाणा के अधिक से अधिक आकांक्षी एथलीट खेल में हिस्सा लेने के लिए प्रेरित होंगे। ” खट्टर ने घोषणा के दौरान कहा, “एक राज्य के रूप में हरियाणा ने हमेशा खेलों को बड़े स्तर पर बढ़ावा दिया है और अपने एथलीट का समर्थन किया है। हरियाणा में खेलो इंडिया युवा खेलों के आयोजन से खेल का एक मजबूत वातावरण तैयार करने की हमारी प्रतिबद्धता को और बल मिलेगा। हरियाणा ने खेलो इंडिया युवा खेलों के पिछले संस्करणों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है और हमारे कई एथलीट खेलो इंडिया योजना के तहत पहले से ही प्रशिक्षण ले रहे हैं।” हरियाणा ने 2020 संस्करण में कुल 200 पदक, 2019 में कुल 178 पदक और 2018 के पहले संस्करण में 38 स्वर्ण सहित 102 पदक जीते थे। हरियाणा ने देश को कई दिग्गज खिलाड़ी दिए हैं जिसमें पहलवान योगेश्वर दत्त, बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट, पैरा-एथलीट दीपा मलिक, एथलीट नीरज चोपड़ा, मुक्केबाज अमित पंघल और निशानेबाज संजीव राजपूत, मनु भाकर, अनीश भनवाला शामिल हैं। खट्टर ने कहा, “मुझे विश्वास है कि खेलो इंडिया युवा खेलों के आगामी संस्करण का आयोजन बड़े स्तर पर होगा और मैं आप सभी का खेलो इंडिया युवा खेलों के लिए हरियाणा में स्वागत करता हूं। पंचकूला के पास खेलो इंडिया युवा खेलों जैसे बड़े स्तर के खेल कार्यक्रम की मेजबानी के लिए सर्वश्रेष्ठ अवसंरचना है और इसके साथ ही वहां बड़ी संख्या में भाग लेने वाले प्रतिभागियों के लिए पर्याप्त आवास सुविधाएं भी हैं। पहले की तरह इस बार भी स्टार स्पोर्ट्स खेलो इंडिया युवा खेलों के चौथे संस्करण के प्रसारण का आधिकारिक भागीदार होगा। रिजिजू ने इसे लेकर कहा, “स्टार स्पोर्ट्स ने देश के खेलों के कैलेंडर में खेलो इंडिया युवा खेलों को एक वार्षिक कार्यक्रम के रूप में प्रस्तुत किया है। जब एक युवा एथलीट खुद को राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल पर देखता है तो वह प्रेरित होता है और साथ ही चैनल देख रहे अन्य युवाओं को भी खेल में अपना करियर बनाने के लिए प्रेरणा मिलती है। मैं बहुत खुश हूं कि यह साझेदारी जारी है।”

कोई टिप्पणी नहीं: