कुसुम ठाकुर ने रोटरी क्लब ऑफ़ जमशेदपुर मिड टाउन के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 जुलाई 2020

कुसुम ठाकुर ने रोटरी क्लब ऑफ़ जमशेदपुर मिड टाउन के अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाला

1 जुलाई , आर्यावर्त संवाददाता जमशेदपुर , आर्यावर्त की मुख्य संपादिका श्री मति कुसुम ठाकुर ने आज रोटरी क्लब ऑफ़ जमशेदपुर की अध्यक्ष पद का कार्य भार संभाला। कुसुम ठाकुर ने कहा उन्हें आज एक बड़ी जिम्मेदारी का एहसास हो रहा है . जिसे वे अच्छी तरह निभाने की हर संभव प्रयास करेंगी। 1 जुलाई रोटरी के नए सत्र की शुरुआत होती है. रोटरी में इसे चेंज ओवर भी कहते हैं . १ जुलाई को शुरू होने वाले सत्र की शुरुआत जिस प्रोजेक्ट से की जाती है उसे किक ऑफ कहते हैं. रोटरी क्लब ऑफ़ जमशेदपुर मिड टाउन ने अपना किक ऑफ प्रोजेक्ट ठक्कर बापा स्कूल में वृक्षारोपण से की . स्कूल परिसर में करीब 25 फल और अशोक के पेड़ लगाए गए . इस अवसर पर क्लब के सेक्रेटरी अमित, ट्रेसरर मोईन खान, आशीष दस, शिवा रमा राव तथा क्लब के सभी सदस्य उपस्थित थे. प्रेसिडेंट कुसुम ठाकुर ने कहा वो वंचितों और जरूरत मंदों के लिए जहाँ तक हो सकेगा कार्य अवश्य करेंगी खासकर जरूरतमंद बच्चियों और औरतों में जागरूकता लाने की जरूरत है .बच्चियों के लिए और ठक्कर बापा के स्कूल के लड़कों के लिए भी एक कंप्यूटर कोर्स शुरू की जाएगी। सबसे जरूरी लड़कियों के लिए अलग शौचालय की जरूरत है. उन्होंने कहा वे कोशिश करेंगी और परिस्थिति ने साथ दिया तो इसी सत्र में लड़कियों के लिए क्लब शौचालय का निर्माण  अवश्य करवाएगी। दूसरे सर्विस प्रोजेक्ट के तहत डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर को सम्मानित किया गया साथ ही कोविद योद्धाओं के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण बाँटे गए. आज की परिस्थिति में हमारे डॉक्टर सबसे बड़े योद्धा हैं और आज डॉक्टर दिवस भी है क्लब की तरफ से डॉक्टरों को बाराद्वारी के अपेक्स हॉस्पिटल में सम्मानित किया गया .  

कुसुम ठाकुर ने कहा हमे अपने विचारों में बदलाव लाने की जरूरत है आज भी हरिजन बस्ती हैं  जबतक बस्ती के साथ धर्म जाति का नाम होगा हमारे विचारों में बदलाव नहीं आ सकता। 


कोई टिप्पणी नहीं: