मधुबनी : समानांतर क्रिकेट संघ के सचिव ने जिला संघ का दामन थामा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 जुलाई 2020

मधुबनी : समानांतर क्रिकेट संघ के सचिव ने जिला संघ का दामन थामा

rikki-join-mdca-maadhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) जिला क्रिकेट संघ के कार्यालय बिना कुंज पर श्री राकेश कुमार सिंह "रिक्की" जी का स्वागत संघ के अध्यक्ष प्रोफेसर विमल कुमार सिंह के द्वारा माला पहना कर किया गया। इस मौके पर संघ के सचिव कालीचरण, उपाध्यक्ष अशोक कुमार, संयोजक नवीन गुप्ता, संयुक्त सचिव पंकज राठौर और विनोद दत्ता सहित कोषाध्यक्ष अजीत कुमार चौधरी तथा बहुत खेल प्रेमी मौजूद थे।  ज्ञात हो कि राकेश कुमार सिंह "रिक्की" जी मधुबनी में चल रहे समानांतर जिला संघ जो 2015 में स्थापित हुआ के सचिव रहे हैं और उन्होंने लिखित रूप में संघ को विगठित करके पुराने मधुबनी जिला क्रिकेट संघ जो 1978 से बिहार क्रिकेट संघ से संबंध है में विलय कर लिया। श्री सिंह ने कहा की समानांतर संगठन का गठन 2015 में उस समय के अध्यक्ष श्री अब्दुल बारी सिद्दीकी के द्वारा की गई थी जिसमें सचिव ये (रिक्की) और स्वर्गीय हेमेंद्र नारायण अध्यक्ष तथा कोषाध्यक्ष के रूप में सुरेश बैरोलिया थे। श्री सिंह ने कहा कालांतर में वह महसूस करने लगे की इस संघ की स्थापना खेल को बढ़ावा देने की जगह सिर्फ राजनीतिक कारणों से की गई थी और इससे मधुबनी जिला के क्रिकेट खिलाड़ियों का अहित हो रहा था। इस संघ में कभी भी ना कोई स्थाई क्लब था और ना ही खिलाड़ी। तब मैंने और इस क्रिकेट संघ से जुड़े मेरे साथियों ने सोच समझकर और मधुबनी जिले के क्रिकेट खिलाड़ियों के हित में अपने सचिव वाले संघ को तत्काल भंग करते हुए 1978 में स्थापित मधुबनी जिला क्रिकेट संघ जिसके वर्तमान अध्यक्ष प्रोफेसर विमल कुमार सिंह तथा सचिव कालीचरण है में बिना शर्त विलय करने का निर्णय लिया। मैं और मेरे साथी  सभी संघ के पदाधिकारियों के कंधे से कंधा मिलाकर मधुबनी जिला क्रिकेट संघ तथा यहां के खिलाड़ियों के हित में एकजुट होकर कार्य करने का संकल्प लिया। मैं और मेरे सहयोगी जिले के क्रिकेट संघ और क्रिकेट खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं और हर तरह से सहयोग करने को तैयार हूं। श्री सिंह ने कहा की समाचार पत्र के माध्यम से उन्हें ज्ञात हुआ है कि उनको सचिव पद से विमुक्त कर दिया गया इस पर उनका कहना था कि आज तक उन्हें कोई कारण बताओ सूचना प्राप्त नहीं हुआ तथा उन्हें यह पूछना था कि कुछ दिन पहले श्री प्रेम रंजन पटेल द्वारा आयोजित एक मीटिंग में किस आधार पर रवि रंजन ने सचिव के रूप में हस्ताक्षर किया। श्री सिंह ने बताया कि मधुबनी में खेल के पीछे जो राजनीति हो रही है उसमें बीसीए के कुछ पूर्व पदाधिकारी दिशा निर्देश दे रहे हैं। श्री सिंह का कहना था कि जब 2 जुलाई को ही उनकी सचिव वाली संस्था पुराने संस्था में विलय कर चुकी है तो फिर किस आधार पर यह जीएम और एजीएम उन लोगों ने आयोजित किया। इस मौके पर मधुबनी जिला क्रिकेट संघ के अध्यक्ष श्री विमल कुमार सिंह ने कहा की श्री रिक्की सिंह के आने से जिला संघ में खेल और खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ेगा क्योंकि श्री सिंह खुद एक बहुत अच्छे खिलाड़ी रह चुके हैं और खेल भावना का हमेशा उन्होंने अनुसरण किया है। सचिव कालीचरण ने कहा यह जिला संघ के लिए सौभाग्य की बात है जो श्री रिक्की सिंह जैसे खिलाड़ी और पदाधिकारी हम लोगों के संघ के साथ जुड़े हैं क्योंकि वह खिलाड़ी रहे हैं और खिलाड़ियों का दुख, दर्द, संवेदना वह समझ सकते हैं। जिस को समझते हुए उन्होंने संघ को विलय किया इसके लिए उनको धन्यवाद। इसी प्रकार उपाध्यक्ष श्री अशोक कुमार, संयुक्त सचिव पंकज राठौर, कोषाध्यक्ष अजीत कुमार चौधरी सभी ने श्री रिक्की सिंह का दिल से आभार व्यक्त किया और स्वागत किया। संयोजक नवीन कुमार गुप्ता ने श्री सिंह  को बधाई देते हुए कहा की सही खिलाड़ी  और पदाधिकारी ही एक खिलाड़ी का दर्द समझ सकता है जिस को समझते हुए रिक्की भैया हम लोगों के साथ जुड़े इसके लिए उनको बहुत बहुत आभार धन्यवाद।  मौके पर उपस्थित श्री जितेंद्र कुमार उर्फ मास्टर साहब ने कहा कि रिकी भैया जैसे व्यक्ति का इस संघ से जुड़ना बहुत ही खुशी की बात है और अब आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की जिला का खेल का स्तर इन लोगों के सानिध्य में जरूर तरक्की करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: