सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 14 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 जुलाई 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 14 जुलाई

पॉजीटिव 1 व्यक्ति की भोपाल में उपचार के दौरान हुई मृत्यु, जिले में कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की मृत्यु संख्या 3 हुई, 4 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाजीटिव प्राप्त हुई

सीहोर 14 जुलाई,2020, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि अहमदपुर निवासी कोरोना पॉजीटिव व्यक्ति की कल देर रात भोपाल में उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। स्वास्थ्य खराब होने पर उसे परिजनों द्वारा उपचार के लिए 29 जून को भोपाल के हमिदिया अस्पताल में भर्ती किया गया था वहां उसका 30 जून को कोरोना सैम्पल लिया गया था  जिसकी कोरोना पॉजीटिव रिपोर्ट 2 जुलाई को भोपाल में आई थी। सीहोर जिले के पोर्टल पर उक्त व्यक्ति की रिपोर्ट 5 जून को पॉजीटिव प्रदर्षित हुई थी। उक्त व्यक्ति की कल देर रात उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। कल देर रात हुई 01 मृत्यु के साथ ही जिले में कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों के मृत्यु की संख्या 3 हो गई है। जिसमें एक महिला की मृत्यु भोपाल में एक पुरूष की मृत्यु इंदौर में उपचार के दौरान तथा कल रात 1 पुरूष की मृत्यु भोपाल में उपचार के दौरान  हुई है। आज 5 व्यक्तियों की द्वित्तीय कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त होने पर कोविड केयर सेंटर सीहोर से उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है,वे सभी स्वस्थ है तथा डिस्चार्ज होने के उपरांत 14 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहेंगे। डिस्चार्ज हुए 5 व्यक्तियों में इछावर की 1 महिला, आष्टा का 1 बालक व  2 बालिका तथा आष्टा की 1 युवती शामिल है। जिले में कोरोना को मात देकर तथा संक्रमण के उपरांत स्वस्थ होकर डिस्चार्ज होने वाले व्यक्तियों की अब संख्या 17 हो गई है। जिलेे में अब एक्टिव/ पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 41 है। आज 4 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव प्राप्त हुई है। जिसमें बुदनी के बेरखेडी निवासी 1 व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजीटिव आई है। नसरूल्लागंज के भाईलाल कालोनी निवासी 01 व्यक्ति, सीहोर के दुर्गा काॅलोनी निवासी 1 व्यक्ति तथा आष्टा के कालोनी चैराहा निवासी 1 व्यक्ति की कोरोना जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव आई है। प्राप्त पाजीटिव रिपोर्ट में 1 महिला तथा 3 पुरूष शामिल है। कोविड केयर सेंटर में उपचार के लिए भर्ती 5 व्यक्तियों की द्वित्तीय कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त होने से उन्हें डिस्चार्ज कर घर भेज दिया गया। वे सभी स्वस्थ है तथा 14 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहेंगे। जिले में अब कुल एक्टिव/ पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 41 है। सैम्पलः- 104 कोरोना जांच हेतु सैम्पल लिए गए है। जिसमें नसरूल्लागंज क्षेत्र से 48, आष्टा के 10, बुदनी से 6,  इछावर से 5 तथा  सीहोर के 35 सैम्पल शामिल है। आज पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के निवास वाले क्षेत्र को कंटेनमंेट बनाए जाने की प्रक्रिया प्रषासनिक स्तर पर प्रारंभ कर दी गई है। पाॅजीटिव रिपोर्ट प्राप्त होते ही उपरोक्त सभी एरिया में स्वास्थ्य सर्वे दलों द्वारा वहां के निवासियोें का स्वास्थ्य फाॅलोअप प्रारंभ कर दिया गया है। कंटेनमेंट एरिया दोराहा, वासुदेव, आष्टा के ईदगाह अलीपुर सहित गुडभेला,  वार्ड नंबर 5 इछावर में स्वास्थ्य दलों का सघन सर्वेक्षण चल रहा है।  कस्बा के दीवान बाग मे बनाए गए कंटेनमेंट एरिया में 40 घरों का स्वास्थ्य सर्वे कर 212 व्यक्तियों के स्वास्थ्य का फॉलोअप लिया गया। वहीं बफर जोन में 48 घरों का सर्वे कर 227 व्यक्तियों के स्वास्थ्य का फाॅलोअप लिया गया। वहीं सीहोर के वार्ड नंबर 14 करोली वाली माता मंदिर एरिया में 2 स्वास्थ्य दलों द्वारा 51 घरों का सर्वे कर 279 व्यक्तियों का स्वास्थ्य फॉलोअप लिया गया वहीं बफर जोन में 118 घरों का स्वास्थ्य सर्वे कर 477 व्यक्तियो के स्वास्थ्य का फॉलोअप लिया गया। सीहोर मंडी क्षेत्र के वार्ड नंबर 23 कंटेनमेंट एरिया में आज 17 घरों का सर्वे कर 113 व्यक्तियों के स्वास्थ का  फॉलोअप लिया गया वहीं बफर एरिया में 48 घरों का सर्वे कर 303 व्यक्तियों के स्वास्थ्य का फॉलोअप लिया गया। आष्टा के वार्ड नंबर 1 जैन मंदिर क्षेत्र कंटेनमेंट एरिया में आज स्वास्थ्य सर्वे दलों द्वारा 66 घरों का सर्वे कर 358  व्यक्तियों के स्वास्थ का फाॅलोअप लिय गया वहीं बफर जोन में 11 घरों का सर्वे कर 64 व्यक्तियों का स्वास्थ्य फॉलोअप लिया गया। वहीं  आष्टा के अलीपुर वार्ड नंबर 2 कंटेनेमेंट एरिया में आज सर्वे दल द्वारा 23 घरों का सर्वे कर 117 व्यक्तियों के स्वास्थ्य का परीक्षण किया तथा फॉलोअप लिया। इछावर षहरी क्षेत्र के कंटेमेंट एरिया वार्ड नंबर 6 में आज दो सर्वे दलों द्वारा 25 घरों का सर्वे कर 103 व्यक्तियांे के स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की गई वही श्यामपुर विकासखण्ड के अहमपुर कंटेनमेंट एरिया में 84 घरों का स्वास्थ्य सर्वे कर 359 व्यक्तियों का स्वास्थ्य फॉलोअप लिया गया है। जिले में अन्य देशों से सीहोर पहुंचे कुल व्यक्तियों की संख्या 232 है जिनमें से 184 लोगों की अब तक स्क्रीनिंग स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों के दौरान एक भी ऐसे व्यक्ति की पहचान नहीं की गई जो अन्य राज्यों और अन्य जिलों से लौटे थे। जिले में अब तक होम कोरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की संख्या 43913 है। डॉ. डेहरिया ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान ऐसे व्यक्ति जो विदेश से सीहोर जिले में नहीं लौटे थे परंतु अन्य जिलों एवं राज्यों से लौटे थे और विभागीय अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा घर-घर सर्वे के दौरान चिन्हित किए गए। अब तक कुल 43913 व्यक्तियों का होम कोरेंटाइन पूर्ण किया जा चुका है। जिले से अब तक कुल 2070 सेम्पल जांच के लिए भेजे गए थे जिनमें से 1786 सेंपलों की रिपोर्ट अब तक निगेटिव प्राप्त हुई है। अभी तक हास्पिटल आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की कुल संख्या 14 है। 193 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 29 है। वहीं विदेश से आए यात्री जो गृह जिला या निवासरत जिला में वापस नहीं आए उनकी संख्या 48 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काॅल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104  नंबर पर ई-परामर्ष सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.inकराया जा सकता है। कलेक्टेªट कार्यालय सीहोर में भी जिला स्तरीय काॅल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोषनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्ष मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःषुल्क प्राप्त कर सकते है।   

साहब हमें नहीं दे रहे है प्रधानमंत्री आवास नयाखेड़ा की महिलाओं ने की शिकायत

sehore news
सीहोर। ग्राम नयाखेड़ा की महिलाओं ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर डिप्टी कलेक्टर प्रगति वर्मा को बताया की गांव में सभी को प्रधानमंत्री आवास दिया जा रहा है लेकिन हमें आपात्र कर दिया है जबकी हम भी गरीब है विश्वास नही हो तो जांच करा लीजिए महिलाओं ने कहा की हमें वर्षो से कच्चे मकानों में रह रहे है बारिश में जीना भी मुश्किल हो जाता है। ग्राम की राजकुमारी बाई, सरीता बाई, अनीता बाई, सुनीता बाई, शिवानी बाई, आरती बाई, भुरिया बाई, दौलत बाई, कमला बाई आदि ने प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाने की मांग प्रशासन से की है।

कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थल को कलेक्टर ने किया कंटेंटमेंट क्षेत्र घोषित

sehore news
जिले में कोरोना संक्रमित पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थल को कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 71 के तहत कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है। कलेक्टर श्री गुप्ता द्वारा जारी आदेश अनुसार कोरोना पॉजिटिव पाए गए व्यक्तियों के निवास स्थान नगरीय क्षेत्र आष्टा के वार्ड क्रमांक 1 ईदगाह कॉलोनी अलीपुर को उत्तर में मुन्ने के मकान से दक्षिण में वहीद के मकान तक, वहीद के मकान से पूर्व में फईम के मकान तक, फईम के मकान से उत्तर में मेमूना बी के मकान तक, मेमूना बी के मकान से पश्चिम में मुन्ने के मकान तक, ग्राम दोराहा मैन रोड वार्ड क्रमांक 11 बाजार के मध्य हनुमान मंदिर के पास, पिंजारा मोहल्ला मकान क्रमांक 502 को गुड्डा इलेट्रिकल्स की दुकान से लेकर दक्षिण की ओर सईद की सीमेन्ट की दुकान तक इनके पीछे वाले भाग में वाहन कलार उत्तर पश्चिम के कोने से लेकर दक्षिण पश्चिम के आंगनवाड़ी तक एवं सड़क के दूसरी ओर की लाईन में भगवतसिंह की दुकान से लेकर कमलेश राठौर की किराना दुकान तक तक कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया गया है। कंटेनमेंट एरिया के अन्तर्गत पूर्ण रूप से आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कंटेनमेंट एरिया के समस्त निवासियों का होम कोरोनटाईन में रहना उचित होगा। कंटेनमेंट एरिया के अंदर भी आवागमन पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा।  

मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों के लिए होगा "रोको-टोको" कार्यक्रम

सरकार अब मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों के लिए "रोको-टोको" कार्यक्रम चलाएगी। सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का प्रयोग करना अनिवार्य है। सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों को चयनित स्वयंसेवी संस्थाए मास्क उपलब्ध कराँएगी और संबंधित से 20 रूपये प्रति मास्क की दर से राशि वसूल करेगी।  कलेक्टर इस कार्य के लिए जिले में बेहतर कार्य कर रहीं स्वयंसेवी संस्थानों का चयन करेंगे। चयन करते समय संस्थान में उपलब्ध व्यक्तियों की संख्या, संस्थान की विश्वसनीयता और कार्यक्षमता को ध्यान में रखा जायेगा। ऐसी संस्थानों का पंजीकरण जिला नोडल अधिकारी पोर्टल <www.mask.upmp.mp.gov.in >  पर करेंगे।  कलेक्टर ऐसे सार्वजनिक स्थलों, जहाँ पुलिस द्वारा चौकियाँ लगाई जाती हैं, का चयन करेंगे। इन स्थलों पर चयनित संस्थानों को मास्क के प्रचार-प्रसार के लिए स्थान उपलब्ध कराया जायेगा। चयनित संस्थाओं को ष्जीवन शक्ति योजनाष् में निर्मित 100 मास्क क्रेडिट पर उपलब्ध कराये जायेंगे। मास्क के विक्रय होने पर संस्था सम्बंधित नगरीय निकाय  के नोडल अधिकारी को 11 रूपए प्रति मास्क की दर से भुगतान करेगी। किसी भी समय संस्थान के पास एक समय में 100 मास्क क्रेडिट के रूप में रखे जा सकेंगे।        
फसलों में खरपतवार एवं कीटव्याधियों के लिए कृषि विभाग ने कृषकों को दी आवश्यक सलाह

किसान कल्याण तथा कृषि विकास उपसंचालक श्री शिव सिंह राजपूत ने जानकारी देते हुए बुताया कि इस वर्ष खरीफ मौसम में बोई जाने वाली फसलों का लक्ष्य 398610 हेक्टर रखा गया है, जिसके विरुद्ध अभी तक 376110 हेक्टर में बोनी हो चुकी है जो लक्ष्य का 94 प्रतिशत है। बोई गई फसल में धान 18600, ज्वार 100, मक्का 14500, अरहर 2300, उड़द 2100, मूंग 3200, सोयाबीन 335000, मूंगफली 270 एवं तिल 40 हेक्टर में बोई गई है। बुदनी क्षेत्र में बासमती धान का रकबा शेष है क्षेत्र में रोपा लगाने का कार्य जारी है। उन्होंने बताया कि सोयाबीन की फसल 20 से 25 दिन की हो चुकी है। इस मुख्य फसल को खरपतवार एवं कीटव्याधि से मुक्त रखने के लिए खरपतवार को डोरा, कुल्पा, हाथ की निंदाई कर नष्‍ट करें। रासायनिक दवाओं में क्विजेलोफॉस इथाइल या इमेझेथापायर खरपतवारनाशकों का 18-21 दिन की अवस्था में छिड़काव करें। जहां कहीं सोयाबीन में चक्रभंग प्रारंभ होने की संभावना हो या इसके खेत में लक्ष्ण दिखते ही इसके प्रभावी नियंत्रण के लिए थाईक्लोप्रीड 21.7 एस.सी (750 मिली प्रति हेक्टर) या प्रोफेनोफॉस 50. ई.सी (1250 मिली प्रति हे.) या पूर्व मिश्रित बीटासायफ्लूथ्रिन + इमिडाक्लोप्रीड (350 मिली प्रति हेक्टेयर) या पूर्व मिश्रित थायोमिथाक्सम + लेम्बड़ा सायहेलोथ्रिन (125 मिली प्रति हेक्टेयर) का छिड़काव करें। मक्का फसल में फाल आर्मी वर्म के नियंत्रण के लिए एमामेटिन बेन्जाएट एस.जी.5 प्रतिशत 60 ग्राम प्रति एकड़ के मान से छिड़काव करें। कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए।

मास्क न पहने वाले लोगों पर किया गया जुर्माना

कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देशानुसार मंगलवार को कोरोना महामारी को दृष्टिगत रखते हुए अनुविभागीय  अधिकारी श्री आदित्य जैन के  मार्गदर्शन में  नायब  तहसीलदार  एवं नगरपालिका के अमले द्वारा मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध कार्यवाही कर  5100 रुपये  का  जुर्माना  किया  गया।  साथ ही लोगों को समझाईश दी गई कि कोरोना वायरस के फलाव को ध्यान रखते हुए हमेशा मास्क का उपयोग करें।

विधानसभा सत्र के दौरान कोरोना से बचाव के लिए होंगे व्यापक सुरक्षा प्रबंध संभागायुक्त ने दिए निर्देश

विधानसभा सत्र के दौरान कोरोना से बचाव के लिए व्यापक सुरक्षा प्रबंध किये जायेंगे विधानसभा सत्र आगामी 20 से 24 जुलाई तक होगा। संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत ने विधानसभा में कोरोना से बचाव और सैनिटाईजेशन की तैयारियों के संबंध में समीक्षा बैठक ली। उन्होंने विधानसभा मुख्य भवन और परिसर के सैनिटाईजेशन, चिकित्सीय सुविधाएं, प्रवेश द्वारों पर थर्मल स्क्रीनिंग आदि के संबंध में आवश्यक निर्देश दिये। संभागायुक्त श्री कियावत ने कहा कि सत्र के दौरान थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइजेशन की व्यापक व्यवस्थाएं की जाए। बताया गया कि विधानसभा के मुख्य भवन के अंदर सीपीए और बाहर के परिसर का सैनिटाईजेशन नगर निगम द्वारा किया जाएगा। इसके अतिरिक्त विधायक विश्राम गृह परिसरों का भी नगर निगम सैनिटाईजेशन करेंगा। मुख्य भवन के अंदर प्रवेश द्वार, शौचालय, कॉरीडोर में पैडल डिस्पेंशर सैनिटाईजेशन मशीन रखी जाएगी। विधानसभा के सभी प्रवेश द्वारों पर चिकित्सीय टीम द्वारा थर्मल थर्मामीटर और पल्स ऑक्सीमीटर से सभी लोगों की स्क्रीनिंग की जाएगी। मुख्य द्वार, व्हीआईपी गेट सहित सभी प्रवेश द्वारों पर कोरोना से बचाव एवं जागरूकता संबंधी पोस्टर्स, बैनर लगायें। सत्र के दौरान विधानसभा भवन में सभी मॉस्क लगाये रखें यह सुनिश्चित किया जायेगा। अतिरिक्त संख्या में मॉस्क और सैनिटाइजर रखे जायेंगे ताकि आवश्यकता पड़ने पर विधानसभा सदस्यों को उपलब्ध कराया जा सके। विधानसभा सत्र के शुरू होने से पहले स्वास्थ्य विभाग ड्यूटी पर नियुक्त किये अधिकारी-कर्मचारियों की स्क्रीनिंग करेंगा। जिला-प्रशासन अद्यतन कंटेनमेंट एरिया की सूची विधानसभा को उपलब्ध करायेगा जिसे सूचना पटल पर चस्पा किया जाएगा। इससे कंटेनमेंट एरिया से आने वाले अधिकारी-कर्मचारी की सेवाएं नहीं ली जाएगी। 

वनस्टॉप सेंटर एवं स्वाधार गृह की महिलाओं एवं बालिकाओं का स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य

कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए अब वनस्टॉप सेंटर एवं स्वाधार गृह में अस्थायी अथवा स्थायी रूप से प्रवेश प्राप्त करने वाली सभी महिलाओं एवं बालिकाओं का  स्वास्थ्य  परीक्षण कराना  अनिवार्य होगा। संचालक ,महिला बाल विकास श्रीमती स्वाति मीणा नायक ने सभी जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं सभी जिलों में संचालित वनस्टॉप सेंटर के प्रशासकों को दिशा-निर्देश जारी किये है। निर्देशानुसार वनस्टॉप सेंटर  एवं स्वाधार गृह में अस्थायी अथवा स्थायी रूप से प्रवेश प्राप्त करने वाली सभी महिलाओं एवं बालिकाओं का स्वास्थ्य  परीक्षण किया जायेगा। चिकित्सक द्वारा कोरोना संक्रमित न होने की जानकारी देने पर ही वनस्टॉप सेंटर या स्वाधार गृह में महिला एवं बालिका को प्रवेश दिया जायेगा। कोरोना वायरस की संदिग्ध स्थिति में उन्हें जिले में स्थापित क्वारेंटीन सेंटर में प्रोटोकॉल के अनुरूप रखा जायेगा। कोरोना वायरस संक्रमित महिला, बालिका को पूर्ण स्वस्थ होने पर ही वनस्टॉप सेंटर, स्वाधार गृह में प्रवेश दिया जायेगा। यदि जिले में सुरक्षित क्वारेंटीन सेंटर नहीं है , तो प्रशासन के सहयोग से वनस्टॉप सेंटर, गृह के नज़दीक ही क्वारेंटीन सेंटर की व्यवस्था किये जाने के निर्देश  है। वनस्टॉप सेंटर, स्वाधार गृह में प्रवेश लेने वाली महिलाओं को कुछ दिन  सावधानी के तौर पर पृथक कक्ष  में सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ रखना अनिवार्य होगा।  संक्रमण के बचाव के लिए निवासरत महिलाएं, बालिकाएं तथा समस्त स्टाफ सोशल डिस्टन्सिंग,मास्क का उपयोग ,निरंतर हाथ धोने, सेनिटाइज़र उपयोग के गाइड लाइन का पालन करना होगा। अधीक्षक एवं प्रशासक द्वारा वनस्टॉप सेंटर, स्वाधार गृह की सभी महिलाओं, बालिकाओं को बचाव के लिए मास्क, टिश्यू पेपर, फिनाइल, साबुन, पेपर नैपकिन और अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्य करते हुए संक्रमण से बचाव की संपूर्ण जानकारी से अवगत करना होगा। किसी भी महिला अथवा बालिका को सर्दी जुकाम संक्रमित होने की दिशा में तत्काल चिकित्सकीय परामर्श लिये जाने और आपात स्थिति में उन्हें चिकित्सालय में भर्ती कराये जाने के निर्देश दिये गये है।   

दीपक फास्टनर लिमिटेड कंपनी ने 90 दिनों से नही दिया 116 महिला और 250 पुरुष श्रमिकों को काम
  • फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ बेरोजगार हुई महिला श्रमिकों का फूटा गुस्सा  
  • भीषण संकट में श्रमिकों की जिंदगी, कई परिवारों में भूखे मरने की नौबत  
  • कलेक्ट्रेट पहुंची महिला मजदूर,कंपनी की मनमानी के विरोध में किया प्रदर्शन 
sehore news
सीहोर। श्रमिकों को कोरोना का खौफ दिखाकर दीपक फास्टनर लिमिटेड कंपनी खोकरी मनमानी पर उतर आई है। लॉकडाउन में भी कंपनी में बहारी और कुछ स्थानीय श्रमिकों के साथ उत्पादन जारी रहा है लेकिन कंपनी ने 90 दिनों से कंपनी में कार्यरत स्थाई 116 महिला और 250 पुरुष श्रमिकों को काम नहीं दिया है। जिस के कारण भीषण संकट का सामना श्रमिकों को करना पड़ रहा है। श्रमिकों के कई परिवारों में भूखे मरने की नौबत आ गई है। बेरोजगार हुई श्रमिक महिलाओं का गुस्सा फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ मंगलवार को कलेक्ट्रेट में दिखाई दिया। श्रमिक महिलाओं ने नियमित रूप से काम देने फैक्ट्री में काम कर रहे श्रमिकों का दमन रोकने और लॉकडाउन से अब तक का पूरे वेतन का भुगतान किये जाने,लंबित वार्षिक वेतन वृद्धि प्रदान करने, एरियर का भुगतान करने, कोरोना वायरस से बचाव के लिए फैक्ट्री में काम करते समय  सेनेटाइजर,माक्र्स , एवं जरूरी सुरक्षा सामग्री उपलब्ध कराने, श्रमिकों की सुरक्षा के संपूर्ण इंतजाम किए जाने की मांग को लेकर कलेक्टर अजय गुप्ता के नाम का ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर प्रगति वर्मा को दिया। महिलाओं ने बताया की  28 जून को प्रशासनिक अधिकारी और कंपनी प्रबंधन के अधिकारियों के साथ कंपनी के कर्मचारियों की बैइक हुई थी जिस में कहा गया था कि 15 दिन में सभी कर्मचारियों को काम पर बुला लिया जाएगा। इस के बावजूद सभी कर्मचारियों को नियमित रूप से काम पर नही बुलाया गया। कंपनी के द्वारा कुछ श्रमिकों को  15-15 दिन के लिए ही बुलाया जा रहा है फैक्ट्री पूर्णता चालू है तथा फैक्ट्री में काम चल रहा है इसके बावजूद 116 महिलाओं और 250 पुरुष श्रमिकों को अबतक बुलाया ही नही ंगया है। कुछ कर्मचारी फैक्ट्री में अंदर काम कर रहे हैं उन से दो गुना तीन गुना काम लिया जा रहा है। इधर बेरोजगारी के कारण आर्थिक रूप से कई मजदूर बेहाल हो चुके हैं।  मजदूर महिलाएं अपने बच्चों की जरूरत है पूरी नही करपा रही है। मजदूर दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। अगर हमें कंपनी के द्वारा काम पर नही लिया जाता है तो भूख हड़ताल आंदोलन जैसे कदम उठोने के लिए विवश होंगे। 


कोई टिप्पणी नहीं: