बिहार : 55 साल बनाम 15 साल के कामों के आधार पर चुनाव : सुशील मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 22 अगस्त 2020

बिहार : 55 साल बनाम 15 साल के कामों के आधार पर चुनाव : सुशील मोदी

  • केन्द्र व राज्य दोनों की उपलब्धियाँ होगी विधान सभा चुनाव का मुद्दा
15-years-between-55-years-sushil-modi
पटना : भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की वर्चुअल बैठक को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में एनडीए केन्द्र व राज्य दोनों की उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच जाएगा। इस चुनाव में 40 साल कांग्रेस, 15 साल पति-पत्नी का राज बनाम 15 साल भाजपा-जदयू गठबंधन राज के बीच लड़ाई है। सुशील मोदी ने कहा कि अगर लालू यादव जेल से बाहर आ जाए तो चुनाव हमारे लिए और आसान हो जाएगा। राजद के जंगल राज को याद दिलाने में एनडीए को और ज्यादा सहूलियत होगी। 2010 के चुनाव में लालू यादव जेल से बाहर थे और पूरे चुनाव में धुंआधार प्रचार किया था, इसके बावजूद राजद मात्र 22 पर सिमट गया था। एनडीए को राजद गठबंधन से 2010 के विधान सभा चुनाव में 14 प्रतिशत की बढ़त मिली थी जो 2019 के लोकसभा चुनाव में बढ़ कर 23 प्रतिशत हो गई। एनडीए और राजद गठबंधन के बीच यह गैप इतना ज्यादा है, जिसे पाटना राजद के बूते की बात नहीं है। विपक्ष को चुनौती देते हुए उन्होंने कहा कि अगर उसमें हिम्मत है तो इस चुनाव में बिजली, पानी व सड़क को मुद्दा बनाएं। पिछले हर चुनाव में पानी, बिजली और सड़क को मुद्दा बना कर विपक्षा हमलावर रहता था। घर-घर बिजली, गांव-गांव सड़क और पाइप से पानी पहुंच जाने के बाद अब विपक्ष के पास कोई मुद्दा ही नहीं बचा है। सरकार कोरोना और बाढ़ दोनों से पूरी मजबूती से लड़ रही है। बिहार का कोई ऐसा गरीब परिवार नहीं है जिसे कोरोना संकट के दौरान उसके खाते मंे कम से कम 4 हजार रुपये नहीं गए हैं। केन्द्र और राज्य की सरकार ने बिहार के गरीबों को 25 हजार करोड़ रु. से ज्यादा की की मदद की है जिसमें 13,485 करोड़ का मुफ्त खाद्यान्न भी शामिल है।

कोई टिप्पणी नहीं: