भारत में मृत्युदर घटकर 1.93 फीसदी हुई, 72 फीसदी संक्रमित ठीक हुए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 17 अगस्त 2020

भारत में मृत्युदर घटकर 1.93 फीसदी हुई, 72 फीसदी संक्रमित ठीक हुए

72-percent-people-recoverd-in-india
नयी दिल्ली, 16 अगस्त, कोविड-19 के संबंध में अच्छी खबर आई है कि भारत में इस संक्रमण के कारण होने वाली मृत्युदर रविवार को और घटकर 1.93 फीसदी रह गई। भारत उन देशों में से एक है जहां कोरोना वायरस के कारण मरने वाले लोगों की संख्या सबसे कम है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यह केंद्र, राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के समन्वित प्रयासों का परिणाम है। देश में कोरोना वायरस के कारण अब तक 49,980 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय ने कहा, ‘‘अमेरिका में मृतक संख्या 50,000 के पार पहुंचने में 23 दिन का वक्त लगा, ब्राजील में 95 दिन और मेक्सिको में 141 दिन में मृतक संख्या इससे अधिक हुई। भारत में मृतक संख्या इतनी होने में 156 दिन का वक्त लगा।’’ उसने कहा कि बड़े पैमाने पर जांच, संक्रमितों के संपर्कों का पता लगाने और प्रभावी उपचार के कारण ठीक होने वाले लोगों की संख्या भी बहुत अधिक है। आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक, रविवार तक देश में 18,62,258 लोग संक्रमण से उबर चुके थे। मंत्रालय ने कहा कि आशा कार्यकर्ताओं ने अथक प्रयासों के जरिए निगरानी की और घर पर पृथक-वास कर रहे मरीजों की देखरेख का पूरा खयाल रखा। उसके मुताबिक भारत कोविड-19 की तीन करोड़ जांच पूरी करने की दिशा में बढ़ रहा है। 15 अगस्त तक 2,93,09,703 नमूनों की जांच की जा चुकी थी। भारत में एक दिन में कोविड-19 के 63,490 नये मरीज सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 25,89,682 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार सुबह आठ बजे अद्यतन किए गए आंकड़ों के मुताबिक गत 24 घंटे में 944 संक्रमितों की मौत हुई है, जिन्हें मिलाकर देश में इस महामारी से जान गंवाने वालों की कुल संख्या बढ़कर 49,980 हो गई।

कोई टिप्पणी नहीं: