बिहार : 19 वर्षों के बाद पाकिस्तान से घर लौटे रामचंद्र - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 27 अगस्त 2020

बिहार : 19 वर्षों के बाद पाकिस्तान से घर लौटे रामचंद्र

after-19-years-ramchnadra-return-home-to-pakistan
नवादा : जिले के काशीचक थाना क्षेत्र के भवानी बीघा ग्रामीण रामचंद्र यादव के लंबे अरसे बाद पाकिस्तान से गांव वापस लौटने की खुशी स्वजनों के चेहरे पर साफ झलक रही है । 16 साल पहले पागलपन की हालत में गांव से गायब हुए रामचंद यादव सीमा पार पाकिस्तान पहुँच गए थे । काफी समय बाद 19 अगस्त को पाक रेंजर्स ने उन्हें बीएसएफ की 89 बटालियन को सौंपा था। उक्त बटालियन के हेडक्वार्टर ने काशीचक थानाध्यक्ष राजकुमार से रामचंद्र यादव की डिटेल मंगाई और सुपुर्दगी के लिए परिजनों को भेजने का निर्देश दिया ।  थानाध्यक्ष के निर्देश पर पुत्र मिथलेश यादव , भाई इंद्रदेव यादव व पडोसी कौशल यादव शिकार मछिया हेडक्वार्टर रवाना हो गए। रामचंद्र अपने पीछे पत्नी सकुन्ती देवी , बेटा मिथलेश यादव , अखिलेश यादव और राकेश यादव तथा बेटी बेबी देवी तथा गौरी देवी को छोड़ गए थे । जिसमें चार बच्चों की शादियां हो चुकी है । पत्नी सकुन्ती देवी से उनके बारे में पूछने पर आँखे डबडबा जाती है। बकौल सकुन्ती सन 2004 में वे अचानक पागल की तरह करने लगे । ओझा-गुनी , इलाज़ कराकर थक चुके परिवार ने उन्हें संभालने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी । एक दिन शाम को घर नही लौटे , काफी खोजबीन के बाद भी पता नही चला तो इसे नियति का दंड मानकर आजतक उनके नाम का सिंदूर लगाती रही हूं। बड़ी बेटी बेबी ने बताया कि बाबू जब गायब हुए थे तब मैं करीब आठ साल की थी । हमलोगों के बुरे दिन में चाचा इंद्रदेव यादव और नाना देवशरण यादव ने सहारा दिया । खेती और पशुपालन करके दो जून की रोटी जुटाते दिन कटा । बाबु के घर लौटने की काफी खुशी है।

कोई टिप्पणी नहीं: