अंडमान निकोबार बनेगा ब्ल्यू इकोनॉमी, स्टार्ट अप्स का बड़ा केन्द्र : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 अगस्त 2020

अंडमान निकोबार बनेगा ब्ल्यू इकोनॉमी, स्टार्ट अप्स का बड़ा केन्द्र : मोदी

andaman-nicobar-blue-economy-modi
नयी दिल्ली, 09 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह को भारत की सुरक्षा और समृद्धि की दृष्टि से महत्वपूर्ण बताते हुए आज कहा कि उनकी सरकार द्वीप समूह में कनेक्टिविटी, ढांचागत विकास और शिक्षा एवं चिकित्सा के क्षेत्र में विशेष ध्यान दे रही है जिससे यह पर्यावरण, पर्यटन, ब्ल्यू इकोनॉमी और स्टार्ट अप्स का बड़ा केन्द्र बन सके। श्री मोदी ने आज रविवार को अंडमान निकोबार द्वीप समूह के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया और यहाँ पर विकास के रोडमैप के बारे में बात की। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कार्यकर्ताओं के साथ संवाद के दौरान उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं की बातें सुनीं और कोरोना से जंग में और द्वीप समूह के विकास में उनके योगदान की सराहना भी की। इस अवसर पर भाजपा के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा भी मौजूद थे। श्री मोदी ने कहा कि बीमारी हो या व्यापार-कारोबार, हर समस्या से निपटने के लिए हम जुटे हुए हैं, हमारे वैज्ञानिक प्रयासरत हैं। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हम हर घर और हर परिवार तक संवाद बनाए रखें। सेवा और समर्पण के संस्कारों को हमें समृद्ध करना है, आगे बढ़ाना है। इस मुश्किल समय में हमें सबके काम आना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अंडमान निकोबार देश की आज़ादी के आंदोलन को धार देने वाली, वीर सावरकर और नेताजी सुभाष चंद्र बोस जैसे आज़ादी के महान तपस्वियों से जुड़ी पुण्य स्थली है। उन्होंने कहा, “पिछली बार जब मैं अंडमान निकोबार गया था तो देवस्थली तुल्य सेल्युलर जेल के भी दर्शन किये थे। मुझे पोर्ट ब्लेयर के दक्षिणी छोर पर तिरंगा फहराने का भी सौभाग्य प्राप्त हुआ था। इस दौरान अंडमान-निकोबोर के संपूर्ण और संतुलित विकास से जुड़ी अनेक परियोजनाओं को मंजूरी भी दी गई थी।” श्री मोदी ने कहा कि एक द्वीप से दूसरे द्वीप तक एयर कनेक्टिविटी में सुधार करते हुए देश के बाकी हिस्सों से द्वीपों को एयरवेज से भी जोड़ा जा रहा है। पोर्ट ब्लेयर हवाई अड्डे का बड़े पैमाने पर विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अंडमान निकोबार को अब बाहरी दुनिया से डिजिटल संपर्क में कोई समस्या नहीं आएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि अंडमान निकोबार ने देश की आज़ादी के आंदोलन को ताकत दी है। आत्मनिर्भर भारत तथा नए भारत की रक्षा-सुरक्षा और समृद्धि के लिए भी अंडमान-निकोबार की व्यापक भूमिका है। इसी को समझते हुए 2017 में ही द्वीपीय विकास अधिकरण का गठन किया गया था। ब्लू इकॉनॉमी और कारोबार के लिहाज से अंडमान निकोबार काफी अहम् है। यह चेन्नई, कोलकाता और और बंगलादेश के मंगला बंदरगाह सहित कई अहम बंदरगाहों से अहम् दूरी पर स्थित है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के युवाओं के लिए कई उच्चशिक्षण संस्थान बनाए गए हैं। इनमें अन्कोल कॉलेज, मेडिकल कॉलेज और लॉ कॉलेज शामिल हैं। द्वीप समूह में जनजीवन आसान बनाने और वहां खुशहाली लाने के लिए जो भी ज़रूरी काम है, वो तेज़ी से पूरे किए जा रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: