टीम के सबसे तेज धावक को हराते रहने तक खेलना जारी रखेंगे धोनी : मांजरेकर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 अगस्त 2020

टीम के सबसे तेज धावक को हराते रहने तक खेलना जारी रखेंगे धोनी : मांजरेकर

dhoni-will-be-playing-manjrekar
मुंबई, आठ अगस्त, पूर्व भारतीय बल्लेबाज संजय मांजरेकर ने शनिवार को खुलासा किया कि महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें कहा था कि जब तक वह टीम में सबसे तेज दौड़ने वाले खिलाड़ी को पछाड़ते रहेंगे, तब तक वह खुद को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिये फिट समझेंगे। महशूर कमेंटेटर मांजरेकर ने कहा कि दो बार के विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान के साथ उनकी 2017 में भारतीय कप्तान विराट कोहली की शादी के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके भविष्य को लेकर चर्चा हुई थी। मांजरेकर ने कहा, ‘‘विराट कोहली की शादी के दौरान मेरी उनसे थोड़ी बात हुई थी और उन्होंने कहा था कि जब तक मैं टीम में सबसे तेज दौड़ने वाले खिलाड़ी को हरा रहा हूं, तब तक मैं खुद को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट या उच्च स्तर के क्रिकेट में खेलने के लिये फिट समझूंगा। ’’ उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स के ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ शो में कहा, ‘‘तेंदुलकर और धोनी जैसे लोग चैम्पियन क्रिकेटर हैं। एक बार वे सार्वजनिक मंच पर पहुंच जाते हैं तो, आप कभी भी धोनी को सार्वजनिक मंच जैसे क्रिकेट के मैदान पर, थोड़ा सा भी अनफिट नहीं देखोगे या वह भाग नहीं पा रहा, ऐसा नहीं देखोगे। ’’ धोनी का प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में अंतिम मुकाबला न्यूजीलैंड के खिलाफ 2019 विश्व कप सेमीफाइनल रहा था। धोनी ने रांची में अभ्यास करना शुरू कर दिया था, वह इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में चेन्नई सुपरकिंग्स की कप्तानी की जिम्मेदारी संभालेंगे जिसका आयोजन 19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात में होगा। मांजरेकर ने कहा, ‘‘वह बहुत अच्छा प्रदर्शन करेगा और अंतरराष्ट्रीय स्तर की तुलना में आईपीएल में उसके इतने सफल और निरंतर होने का एक कारण यह भी है कि बतौर बल्लेबाज वह जानता है कि केवल चार से पांच गेंदबाज ही हैं, जिनके खिलाफ सतर्क होकर खेलना होगा। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘आईपीएल में कुछ अच्छे गेंदबाज होते हैं और कुछ ज्यादा अच्छे नहीं होते। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आपके पास पांच बेहतरीन गेंदबाज होते हैं तो वह इनमें से चुनकर उनके खिलाफ आक्रामक खेलने में काफी अच्छा है। ’’

कोई टिप्पणी नहीं: