मोदी का प्रकृति प्रेम, मोर मांगे मोर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 अगस्त 2020

मोदी का प्रकृति प्रेम, मोर मांगे मोर

modi-with-peacock
नयी दिल्ली 23 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रकृति से बहुत लगाव रखते हैं इसका अहसास वह पहले भी कई मौकों पर करा चुके हैं और इसी कड़ी में उनकी नयी बानगी दिल को भाव विभोर करती है। श्री मोदी ने रविवार को अपने इंस्टाग्राम एकाउंट पर एक मिनट 47 सेकेंड का एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें वह एक प्लेट में दाना लेकर बैठे हुए हैं और राष्ट्रीय पक्षी मोर उस प्लेट में बेखौफ बार-बार दाना चुग रहा है। यह वीडियो प्रधानमंत्री आवास सात लोक कल्याण मार्ग का है। यही नहीं वीडियो में श्री मोदी के ईद गिर्द मोर नाचता भी नजर आ रहा है। श्री मोदी ने इसके साथ एक कविता भी शेयर की है..

भोर भयो, बिन शोर,
मन मोर, भयो विभोर,
रग-रग है रंगा, नीला भूरा श्याम सुहाना,
मनमोहक, मोर निराला।
रंग है, पर राग नहीं,
विराग का विश्वास यही,
न चाह, न वाह, न आह,
गूँजे घर-घर आज भी गान,
जिये तो मुरली के साथ
जाये तो मुरलीधर के ताज।
जीवात्मा ही शिवात्मा,
अंतर्मन की अनंत धारा
मन मंदिर में उजियारा सारा,
बिन वाद-विवाद, संवाद
बिन सुर-स्वर, संदेश
मोर चहकता मौन महकता।

प्रधानमंत्री के इंस्टाग्राम एकाउंट पर चार करोड़ 77 लाख फालोअर्स हैं। इस वीडियो को थोड़े ही समय में 923191 लोग देख भी चुके हैं। गौरतलब है कि श्री मोदी पिछले साल तमिलनाडु के महाबलीपुरम गए थे तो वहां सुबह पीएम ने एक समुद्र तट पर जॉगिंग के दौरान साफ-सफाई की थी। श्री मोदी ने इसका वीडियो ट्वीट किया था जिसमें समुद्र तट पर वह कूड़ा-कचरा उठाते हुए दिखाई दिये थे।

कोई टिप्पणी नहीं: