प्रोजेक्ट डॉल्फिन की शुरुआत 15 दिनों में हो जाएगी : जावड़ेकर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 17 अगस्त 2020

प्रोजेक्ट डॉल्फिन की शुरुआत 15 दिनों में हो जाएगी : जावड़ेकर

project-dolphin-starts-soon-javadekar
नयी दिल्ली, 17 अगस्त, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा घोषित गंगा नदी में पाई जाने वाली डॉल्फिन के संरक्षण की महत्वाकांक्षी परियोजना 15 दिनों में शुरू हो जाएगी। यह बात सोमवार को पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कही। प्रधानमंत्री ने 74वें स्वतंत्रता दिवस पर ‘प्रोजेक्ट डॉल्फिन’ की घोषणा करते हुए कहा कि इससे जैव विविधता को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे। जावड़ेकर ने ट्वीट किया, ‘‘74वें स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की घोषणा के अनुरूप देश की नदियों और समुद्रों में डॉल्फिन के संरक्षण और सुरक्षा के लिए 15 दिनों में प्रोजेक्ट डॉल्फिन की शुरुआत की जाएगी।’’ प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त को कहा था कि उनकी सरकार प्रोजेक्ट डॉल्फिन को बढ़ावा देना चाहती है। मोदी ने कहा था, ‘‘हम नदियों और समुद्रों में रहने वाले दोनों तरह के डॉल्फिन पर ध्यान देंगे। इससे जैव विविधता को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे। यह पर्यटन के लिए आकर्षण का केंद्र भी होगा। इसलिए हम इस दिशा में आगे बढ़ने जा रहे हैं।’’ गंगा नदी में पाई जाने वाली डॉल्फिन को 2010 में राष्ट्रीय जलीय जीव प्रजाति घोषित किया गया था। गंगा नदी में पाई जाने वाली डॉल्फिन ताजा जल में रहने वाली प्रजाति है जो मुख्यत: गंगा और ब्रह्मपुत्र एवं इनकी सहायक नदियों में पाई जाती है। ये डॉल्फिन भारत, बांग्लादेश और नेपाल में पाई जाती है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक भारत की नदियों में करीब 3700 गंगा नदी डॉल्फिन हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: