रोहित, विनेश, रानी, मणिका और थंगावेलु की खेल रत्न के लिए सिफारिश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 19 अगस्त 2020

रोहित, विनेश, रानी, मणिका और थंगावेलु की खेल रत्न के लिए सिफारिश

rohit-vinesh-including-for-khel-ratna-award
नयी दिल्ली, 18 अगस्त, भारत के सीमित ओवरों के कप्तान रोहित शर्मा, स्टार महिला पहलवान विनेश फोगाट, टेबल टेनिस स्टार मणिका बत्रा, महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल और रियो पैरालम्पिक के स्वर्ण पदक विजेता एथलीट मरियप्पन थंगावेलु के नाम की देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न के लिए सिफारिश की गयी है। खेल मंत्रालय की 12 सदस्यीय अवार्ड समिति ने खेल रत्न के लिए पहले चार नामों की सिफारिश की थीजिसमें बाद में रानी रामपाल का नाम भी जुड़ गया। इन पर अंतिम फैसला केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू को लेना है। इस समिति के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस मुकुंदकम शर्मा थे। कमेटी के सदस्यों में पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, पूर्व हॉकी कप्तान सरदार सिंह, पैरालम्पिक रजत पदक विजेता दीपा मलिक, पूर्व टेबल-टेनिस खिलाड़ी मोनालिसा बरुआ मेहता और मुक्केबाज वेंकटेशन देवराजन शामिल थे। समिति ने साई के मुख्यालय में बैठक की और इन नामों की सिफारिश की।राष्ट्रीय खेल पुरस्कार नियमों में खेल रत्न के लिए यह नियम है कि केवल ओलम्पिक वर्ष में एक से ज्यादा खिलाड़ियों को खेल रत्न दिया जा सकता है और गैर ओलम्पिक वर्षों में एक खिलाड़ी को खेल रत्न दिया जाना चाहिए। लेकिन पिछले कुछ वर्षों से यह परंपरा चल रही है कि एक से ज्यादा खिलाड़ियों को खेल रत्न दिया जा रहा है। हालांकि यह पहला मौका है जब पांच खिलाड़ियों के नाम की खेल रत्न के लिए सिफारिश की गयी है। इससे पहले 2016 के रियो ओलम्पिक के बाद चार खिलाड़ियों रजत पदक विजेता बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू, कांस्य विजेता महिला पहलवान साक्षी मलिक, चौथे स्थान पर रही जिम्नास्ट दीपा कर्माकर और निशानेबाज जीतू राय को खेल रत्न सम्मान दिया गया था। 2009 में तीन खिलाड़ियों बॉक्सर एमसी मैरीकॉम, विजेंद्र सिंह और पहलवान सुशील कुमार को खेल रत्न दिया गया था। विजेंद्र और सुशील ने 2008 के बीजिंग ओलम्पिक में कांस्य पदक जीते थे जबकि मैरीकॉम चौथी बार विश्व चैंपियन बन चुकी थीं। पांच बार दो खिलाड़ियों को यह सम्मान मिल चुका है। 1997 में वेटलिफ्टर कुंजरानी देवी और टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस को, 2003 में निशानेबाज अंजलि भागवत और एथलीट के बीनामोल को, 2012 में लंदन ओलम्पिक के बाद निशानेबाज विजय कुमार और पहलवान योगेश्वर दत्त को खेल रत्न मिला। 2017 में पैरा एथलीट देवेंद्र झाझरिया और हॉकी खिलाड़ी सरदार सिंह, 2018 में भारोत्तोलक मीराबाई चानू और क्रिकेट कप्तान विराट कोहली तथा 2019 में दीपा मलिक और बजरंग पूनिया को खेल रत्न दिया गया था।कोरोना के कारण पहली बार खेल मंत्रालय ने ऑनलाइन आवेदन मंगाए थे। इस साल राजीव गांधी खेल रत्न के लिए 42 आवेदन आए थे।खेल रत्न के लिए जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर विचार किया गया। सीमित ओवरों के भारतीय क्रिकेट उपकप्तान रोहित ने पिछले साल इंग्लैंड में हुए एकदिवसीय विश्व कप में पांच शतक बनाने का विश्व रिकॉर्ड बनाया था हालांकि वह सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ मात्र एक रन बनाकर आउट हो गए थे। यदि उन्हें खेल रत्न के लिए चुना जाता है तो वह सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली के बाद यह सम्मान पाने वाले चौथे क्रिकेटर होंगे। विनेश ने 2018 में हुए राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीते थे। विनेश ने पिछले साल विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतकर टोक्यो ओलम्पिक के लिए देश को कोटा दिलाया था। मणिका बत्रा ने 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में महिला व्यक्तिगत और टीम स्वर्ण सहित कुल चार पदक जीते थे। उन्होंने 2018 में जकार्ता एशियाई खेलों में मिश्रित युगल में कांस्य पदक जीता था। रानी की कप्तानी में भारत ने अमेरिका को हराकर टोक्यो ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई किया है। पैरा हाई जम्पर थंगावेलु ने 2016 के रियो पैरालम्पिक में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने पिछले वर्ष विश्व पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था। वह 2017 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किये गए थे। स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा, धाविका हिमा दास, बैडमिंटन खिलाड़ी किदाम्बी श्रीकांत और निशानेबाज अपूर्वी चंदेला भी खेल रत्न की होड़ में शामिल थे लेकिन अंत में बाहर हो गए।

कोई टिप्पणी नहीं: