बेंगलुरू : येदियुरप्पा दंगाइयों को थमायेंगे करतूतों का बिल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 17 अगस्त 2020

बेंगलुरू : येदियुरप्पा दंगाइयों को थमायेंगे करतूतों का बिल

yediyurappa-charge-rioters-like-yogi
बेंगलुरु : कर्नाटक की भाजपा नीत येदियुरप्पा सरकार यूपी के सीएम योगी के मॉडल को बेंगलुरु हिंसा के दंगाइयों पर लागू करेंगी। बेंगलुरू में 11 अगस्त, 2020 को देर रात जिहादी मानसिकता वाली उग्र भीड़ ने दलित समाज से ताल्लुक रखने वाले स्थानीय कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर हमला किया। इतना ही नहीं जिहादियों की उन्मादी भीड़ ने की उन्मादी भीड़ ने पुलिस थाने में घुसकर न सिर्फ तोड़फोड़ की बल्कि आग लगा दी। पूरे इलाके में सरकारी संपत्ति को भारी नुकसान पहुंचाया गया। अब इसके लिए कर्नाटक सरकार ने वीडियो फूटेज के आधार पर जुर्माना वसूली की कार्रवाई शुरू कर दी है। हिंसा और आगजनी में 2 की मौत हो गई जबकि 60 पुलिसकर्मीं घायल हुए। हिंसा के बाद दलित विधायक के घर और डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस स्टेशन का मंजर बहुत खौफनाक था। हमलावर विधायक के रिश्तेदार द्वारा उनके धर्म को लेकर एक फेसबुक पोस्ट से गुस्से में थे। भीड़ को पुलिस ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराने को कहा लेकिन वे नहीं माने और खुद फैसला करने निकल पड़े। अब इसी मामले में दंगाइयों को सबक सिखाने और कानून हाथ में लेने के लिए सीएम येदियुरप्पा ने बेंगलुरु में भी यूपी सरकार की तरह जुर्माना वसूली का फैसला किया है। बेगलुरू पुलिस ने वीडियो फुटेज और अन्य साक्ष्यों के आधार पर दंगाइयों को पहले ही चिन्हित कर लिया है। अब इनकी संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई शुरू होने वाली है। जिस दंगाई ने जितना नुकसान किया, उसी हिसाब से उसकी सम्पत्ति जब्त होगी। विदित हो कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ यूपी में दंगा करने वालों को वहां के सीएम योगी ने उनकी करतूतों का ऐसा बिल थमाया कि हिंसा रोकने का उनका उक्त मॉडल देश दुनिया में बेहद चर्चित हुआ। उसके बाद अभी तक किसी ने यूपी में आगजनी-हिंसा करने की किसी ने हिम्मत नहीं की। अब यही मॉडल बेगलुरू में लागू किया जा रहा है, ताकि भविष्य में कोई कानून अपने हाथ में लेकर सामाजिक सौहार्द को न बिगाड़ सके।

कोई टिप्पणी नहीं: