बिहार : और डीजीपी ने वीआरएस के लिए आवेदन दिए ? - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 22 सितंबर 2020

बिहार : और डीजीपी ने वीआरएस के लिए आवेदन दिए ?

बक्सर से एनडीए उम्मीदवार बनाए जा सकते हैं गुप्तेश्वर पांडेय।सूत्रों के मुताबिक तारीखों का ऐलान होते ही वे अपना इस्तीफा दे सकते हैं।वीआरएस के लिए आवेदन दिए...
dgp-gupteshwar-pandey-apply-for-vrs
पटना (आर्यावर्त संवाददाता)  बिहार के लिए आज की सबसे बड़ी खबर है कि डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय अगले कुछ दिनों में अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। वह पुलिस की नौकरी छोड़कर राजनीति में अपनी नई पारी की शुरुआत करेंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चुनाव आयोग की तरफ से बिहार विधानसभा चुनाव की घोषणा होते ही वे सरकार को अपना इस्तीफा सौंप देंगे। विधानसभा चुनाव में गुप्तेश्वर पांडेय को बक्सर या भोजपुर के किसी सीट से एनडीए का उम्मीदवार बनाया जा सकता है। इस बात की प्रबल संभावना है। हालांकि, जब इसको लेकर हमने गुप्तेश्वर पांडेय से संपर्क करने की कोशिश की तो उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया। सूत्रों का दावा है कि वे अपने पद से इस्तीफा देकर विधानसभा का चुनाव हर हाल में लड़ने जा रहे हैं।



5 महीने का बचा है कार्यकाल
गुप्तेश्वर पांडेय 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। 31 जनवरी 2019 को उन्हें बिहार का डीजीपी बनाया गया था। कार्यकाल पूरा होने में करीब 5 महीने का वक्त बचा हुआ है। राज्य के पुलिस महानिदेशक के रूप में गुप्तेश्वर पांडेय का कार्यकाल 28 फरवरी 2021 को पूरा होने वाला है। सूत्रों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक गुप्तेश्वर पांडेय ने चुनावी मैदान में उतरने की पूरी तैयारी कर ली है। बस चुनाव की तारीख ऐलान होने का इंतजार है।​​​​​​​

बेगूसराय और जहानाबाद में अपराधियों का किया था खात्मा
बतौर आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय 33 साल की सर्विस पूरी कर चुके हैं। एसपी से लेकर डीआईजी, आईजी और एडीजी बनने तक के सफर में गुप्तेश्वर पांडेय 26 जिलों में काम कर चुके हैं। 1993-94 में वे बेगूसराय और 1995-96 में जहानाबाद के एसपी रह चुके हैं। दोनों जिलों में अपने कार्यकाल के दौरान अपराधियों का खात्मा कर दिया था। इन्हें कम्यूनिटी पुलिसिंग के लिए भी जाना जाता है।

सुशांत मामले में बेबाक तरीके से रखी थी अपनी बात
मुंबई में हुए एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत के मामले में पटना में एफआईआर दर्ज हुई थी। इसके बाद डीजीपी के निर्देश पर ही बिहार पुलिस की टीम को जांच के लिए वहां भेजा गया था। इस मामले में गुप्तेश्वर पांडेय ने अपनी बातों को बेबाक तरीके से सबके सामने रखा था। कई बार वो खुलकर मीडिया के सामने आए थे। बिहार के युवाओं के बीच इनकी बड़ी फैन फॉलोइंग है।

इस्‍तीफा देकर चुनाव लड़नेे की फैल गई खबर
बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को लेकर रविवार की देर रात खबर फैली कि उन्‍होंने पद से इस्तीफा दे दिया है और आगे वे विधानसभा चुनाव लड़ने वाले हैं। देखते-देखते यह खबर वायरल हो गई। तरह-तरह के कमेंट आने लगे। कई वेब पोर्टल्‍स ने भी इस संबंध में खबरें दीं। स्थिति को देख खुद डीजीपी को तुरंत अपनी बात रखने आगे आना पड़ा। यह अगस्त माह की बात है।

डीजीपी ने बताया अफवाह, कही ये बात
इस बाबत डीजीपी ने अपने ट्वीट में लिखा कि मेरे नौकरी से इस्तीफा देने के बारे में झूठी खबर चलायी जा रही है। इसपर नाराजगी जाहिर करते हुए उन्‍होंने खबर के स्रोत के बारे में सवाल किया।

रिया को लेकर बयान पर भी हुआ था विवाद
विदित हो कि हाल ही में डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय एक और घटना को लेकर सुर्खियों में रहे थे। सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की मुख्‍य आरोपित रिया चक्रवर्ती ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बयान दिया था। इसपर नाराज डीजीपी ने कहा था कि रिया की औकात नहीं कि वह मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ ऐसे बयान दे। उनके इस बयान पर मिली-तुली प्रतिक्रिया आईं थीं। उस मामले में डीजीपी को सफाई देनी पड़ी थी।

कोई टिप्पणी नहीं: