9वीं से 12वीं तक स्कूल खोलने को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 14 सितंबर 2020

9वीं से 12वीं तक स्कूल खोलने को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइन

guidelines-to-open-school-from-9th-to-12th
नई दिल्ली : स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्कूल के संचालन को लेकर नई गाइडलाइन्स जारी की है। केंद्र सरकार ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोलने की खोलने दे दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कौशल प्रशिक्षण संस्थानों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी किया, उच्च शिक्षा संस्थानों ने 21 सितंबर से प्रयोगशाला कार्य की आवश्यकता वाले तकनीकी कार्यक्रमों में पाठ्यक्रम आयोजित किए हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी कि नई गाइडलाइन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के नए गाइडलाइन के अनुसार, कुर्सियों और डेस्क के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी होनी चाहिए । कक्षा में गतिविधियां अलग-अलग समय पर होंगी यानि की शिफ्ट वाइज क्लास को संचालित किया जाएगा। सोशल डिसटेंसिंग का भी पालन किया जाना है। इसके अलावा अकेडिमिक शिड्यूल में क्लासरूम टीचर और ऑनलाइन होने वाली पढ़ाई का मिला-जुला समय निर्धारित होना चाहिए। क्लास के दौरान छात्र मास्क जरुर लगाएं इसकी जिम्मेदारी शिक्षक की होगी। छात्रों के बीच लैपटॉप, नोटबुक, स्टेशनरी जैसी वस्तुओं को साझा करने की अनुमति नहीं है।



21 सितंबर से बुलाया जा सकता स्कूल
मालूम हो कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने 8 सितंबर को कक्षा 9 से 12 वीं के छात्रों के लिए स्वैच्छिक आधार पर मार्गदर्शन लेने के लिए स्कूलों के आंशिक रूप से फिर से खोलने के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की थी।गृह मंत्रालय ने कहा था कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक समय में 50 प्रतिशत तक शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों को 21 सितंबर से ऑनलाइन शिक्षण या टेली-काउंसलिंग और संबंधित कार्य के लिए स्कूलों में बुलाया जा सकता है। इसमें कहा गया है कि कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों को अपने शिक्षकों से मार्गदर्शन लेने के लिए, स्वैच्छिक आधार पर, केवल एक जोन के बाहर के क्षेत्रों में, अपने स्कूलों में जाने की अनुमति दी जा सकती है और यह उनके माता-पिता या अभिभावकों की लिखित सहमति के अधीन होगा। कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक के छात्रों के पास अभिभावक की लिखित अनुमति होनी चाहिए जिसके बाद ही स्टुडेंट शारीरिक रूप से कक्षाओं में भाग ले सकेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: