मलिंगा के अनुभव की कमी खलेगी : रोहित शर्मा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

मलिंगा के अनुभव की कमी खलेगी : रोहित शर्मा

mi-will-miss-malinga-rohit-sharma
अबुधाबी, 17 सितंबर, गत चैम्पियन मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने गुरूवार को स्वीकार किया कि श्रीलंकाई महान तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा की कमी काफी खलेगी जिन्होंने इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) से हटने का फैसला किया है। आईपीएल के सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले 37 साल के मलिंगा ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देकर टूर्नामेंट से हटने का फैसला किया। उन्होंने 170 विकेट हासिल किये हैं और चार बार की चैम्पियन मुंबई इंडियंस के लिये यह करारा झटका है। गत चैम्पियन मुंबई इंडियंस की टीम 19 सितंबर को यहां सत्र के शुरूआती मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स से भिड़ेगी। रोहित ने सत्र पूर्व ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि उनके स्थान को भरना आसान होगा। वह मुंबई के लिये मैच विजेता रहे हैं। मैं यह कई बार कह चुका हूं, जब भी हम खुद को मुश्किल में पाते तो मलिंगा हमेशा हमें इससे बाहर निकालते। ’’ रोहित ने कहा कि पिछले प्रदर्शन को देखते हुए टीम को उनकी काफी कमी खलेगी और उनकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा, ‘‘उनके अनुभव की कमी खलेगी, उन्होंने मुंबई इंडियंस के लिये जो किया है, वह अविश्वसनीय है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वह इस साल टीम का हिस्सा नहीं हैं। ’’ रोहित ने कहा, ‘‘हमारे पास जेम्स पैटिनसन, धवल कुलकर्णी, मोहसिन खान जैसे खिलाड़ी मौजूद हैं और हम मलिंगा की जगह इन्हें खिलायेंगे। लेकिन जाहिर सी बात है कि मलिंगा ने मुंबई के लिये जो कुछ किया है, उसकी तुलना नहीं की जा सकती। ’’ अपनी भूमिका के बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा कि वह पारी का आगाज करना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने पिछले साल पूरे टूर्नामेंट में पारी शुरू की और मैं ऐसा करना जारी रखूंगा। साथ ही मैंने सभी विकल्प खुले रखे हैं, जो भी टीम चाहती है, वैसा करने को तैयार हूं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं भारत के लिये खेलता हूं, तो मेरी तरह से प्रबंधन को हमेशा यही संदेश होता है कि कोई भी दरवाजे बंद नहीं करो, सारे विकल्प खुले रखो और मैं यहां भी ऐसा ही करूंगा। ’’ भारत के सफेद गेंद की टीम के उप कप्तान को यह भी लगता है कि टीम के नतीजों में परिस्थितियों को सही तरह से पढ़ना काफी अहम भूमिका निभायेगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिये चुनौती यहां की परिस्थितियों के अनुरूप ढलने की होगी क्योंकि शायद हममें से कोई भी आदी नहीं हैं क्योंकि हमारे ग्रुप के ज्यादातर क्रिकेटर यहां नहीं खेले हैं। ’’

कोई टिप्पणी नहीं: