मधुबनी : प्रवासी मजदूरों के लिए आए खाद्यान्न की कालाबाजारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 17 सितंबर 2020

मधुबनी : प्रवासी मजदूरों के लिए आए खाद्यान्न की कालाबाजारी

वैश्विक महामारी कोविड -19  लॉकडाउन में प्रवासी  मजदूरों के लिए आए खाद्यान्न की कालाबाजारी की जमिनि स्तर पर खुलासा करने हेतु RTI दायर किया गया SDO जयनगर के समक्ष....
migrant-labour-food-blaack-mrcketing
बासोपट्टी,17 सितम्बर। प्रखंड सचिव भाकपा (माले ) जयनगर के प्रखंड सचिव भूषण सिंह दावा देकर कहते है कि लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों के लिए लाए खाद्यान्नों की कालाबाजारी जोरशोर से किया जा रहा है।वैश्विक महामारी कोविड -19 पीड़ितों के साथ अन्याय किया जा रहा है।इसकी जमीनी हकीकत की जानकारी लेने के लिए सूचना का अधिकार कानून का सहारा लिया गया है। पूर्व एसडीओ शंकर शरण ओमी व आपूर्ति पदाधिकारी के मिलीभगत से जयनगर अनुमंडल के जयनगर,लदनियां व बासोपट्टी  प्रखंड में प्रवासी मजदूरों के लिए लाए खाद्यान्नों की कालाबाजारी किया जा रहा है। भूषण सिंह कहते हैं कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस COVID - 19 के दौरान बाहर से आए प्रवासी मजदूरों को मुफ्त में देने के लिए खाद्यान्न चावल व चना का दाल( प्रति मजदूर 5 किलो चावल व 1 किलो चना का दाल) देना था। लेकिन लॉकडाउन के क्रम में अफसरशाही मजबूत होने के कारण तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी शंकर शरण ओमी के कार्यकाल में अपने चहेते क्षमता विहीन प्रभारी आपूर्ति पदाधिकारी अमित कुमार (कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत जयनगर) और बासोपट्टी प्रखंड के स्वयं आपूर्ति पदाधिकारी बन कर मजदूरों के लिए आए खाद्यान्न को कालाबाजारी करवाने का काम किए हैं। इस गंभीर बातों को देखते हुए जमीनी जानकारी के लिए सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत अनुमंडल पदाधिकारी जयनगर से वैश्विक महामारी  से प्रभावित कितने प्रवासी मजदूरों को राशन मुहैया किया गया है मजदूरों का नाम ,पता ,पिता प्रखंड तथा खाद्यान्नों की विवरण की जानकारी की मांग किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: