नेपोटिज्म पर बहस नहीं होनी चाहिये : नसीरुद्दीन शाह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

नेपोटिज्म पर बहस नहीं होनी चाहिये : नसीरुद्दीन शाह

no-debate-on-nepotism-nasiruddin-shah
मुंबई, 31 अगस्त, बॉलीवुड के जाने-माने अभिनेता नसीरुद्दीन शाह का कहना है नेपोटिज्म (भाई-भतीजावाद) पर बहस नहीं होनी चाहिये।नसीरुद्दीन शाह ने कहा, “मैं इनसाइडर और आउटसाइडर्स पर चल रही बहस को समझ नहीं पा रहा हूं। मेरी नजर में यह सब बकवास है। एक अभिनेता होने के नाते मैं अपने बेटे को खुशहाल जीवन यापन करने के लिए उसी पेशे में जाने के लिए प्रोत्साहित क्यों नहीं करूंगा। क्या कोई उद्योपति और डॉक्टर ऐसा नहीं करता है। हमने देखा है कि कई पीढ़ियों ये चला आ रहा भाई-भतीजावाद आपको शुरुआत में काम दिला सकता है, लेकिन बाद में अपने काम के दम पर अपना मुकाम बनाना पड़ता है।”नसीर ने कहा, “यह कहां का न्याय है कि मेरे बेटों को बॉलीवुड में मौका नहीं मिले क्योंकि वे मेरे बेटे हैं और लोग उन्हें जानते हैं। उनका लोगों के साथ संपर्क हैं। अगर आप उन्हें पसंद कर रहे हैं तो यह कहें कि उन्हें इसलिए काम मिला क्योंकि वे मेरे बेटे हैं तो यह सच्चाई नहीं है। स्टार्स के बच्चों को अपनी एक्टिंग के दम पर भी काम मिल सकता है।”

कोई टिप्पणी नहीं: