राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने प्रणव मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने प्रणव मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी

pm-president-vp-tribute-pranab
नयी दिल्ली 01 सितंबर, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निवास पर जाकर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किये। पूर्व राष्ट्रपति के 10 राजाजी मार्ग स्थित निवास पर सबसे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस और तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने पहुंच कर भारत रत्न श्री मुखर्जी के चित्र पर पुष्पचक्र चढ़ाकर श्रद्धांजलि दी। इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष श्री बिरला ने दिवंगत नेता को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। बाद में प्रधानमंत्री श्री मोदी, उपराष्ट्रपति श्री नायडु और राष्ट्रपति श्री काेविंद ने भी पुष्पचक्र के साथ भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत, भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और गुलाम नबी आज़ाद, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, भाजपा के नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी 10 राजाजी मार्ग पहुंच कर पूर्व राष्ट्रपति को श्रद्धासुमन अर्पित किये। चूंकि श्री मुखर्जी कोविड 19 से संक्रमित थे इसलिए उनके पार्थिव शरीर को अलग रखा गया था और सभी विभूतियों ने उनके चित्र पर पुष्पाजंलि अर्पित की। 

इस मौके पर वहां शारीरिक दूरी एवं कोविड 19 संबंधी अन्य सावधानियां बरतीं गयीं। सैन्य अस्पताल में 21 दिनों तक भर्ती रहने के बाद श्री मुखर्जी का सोमवार शाम को निधन हो गया था। उनका पार्थिव शरीर आज सुबह अस्पताल से उनके निवास पर लाया गया। उनका अंतिम संस्कार पूर्ण सैनिक सम्मान के साथ आज दोपहर बाद लोदी रोड स्थित श्मशान में किया जाएगा। श्री मुखर्जी के निधन पर देश में सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं: