दरभंगा : सिमरी थाने पुलिस की हैवानियत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

दरभंगा : सिमरी थाने पुलिस की हैवानियत

एकबार हैवान भी काँप उठे ऐसी हैवानियत सामने आई है सिमरी थाने पुलिस की।

police-cruel-simri-darbhanga
अरुण कुमार ( बेगूसराय ) एक बार फिर बिहार पुलिस का हैवानी चेहरा सामने आया है।चोरी के आरोप में ऑटो चालक पंकज महातों की पुलिस ने बंदूक के कुंदे से थाने में जमकर पिटाई की थी जिसके वजह से पंकज महतों की मौत हो गई।यह घटना दरभंगा के सिमरी थाने की है। ऐसे भी होये हैं पुलिसकर्मी।

एसएसपी ने कार्रवाई का दिया भरोसा।
मृतक मुजफ्फरपुर के कुढ़नी थाने के गुदरी पेठिया गाँव का रहने वाला था जिसका नाम पंकज महतो बताया गया है।पीएमसीएच में पोस्टमार्टम के बाद गाँव में शव पहुँचते ही कुढ़नी गाँव में कोहराम मच गया।परिजनों ने दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की माँग की है।परिजनों ने मुजफ्फरपुर एसएसपी से मुलाकात कर घटना कि बातों से अवगत कराया।सारी बातों को ध्यान से सुनकर एसएसपी ने कहा कि अगर यह सच है तो दोषियों पर हत्या का केस दर्ज होगा और उसे सजा बजी मिलेगी।



घर से सोते में उठा कर ले गई थी दरभंगा पुलिस।
मृतक पंकज की पत्नी ने बताया कि 24 अगस्त की रात कुढ़नी और सिमरी थाने की पुलिस घर पर आई और पिकअप भान के झूठी चोरी के आरोप में पति को गाली-गलौज के साथ मारते हुए पकड़ कर ले गई।घर के अंदर भी बंदूक के कुंदे से बहुत मारा था।मार-पीट करते हुए घसीट कर गाड़ी में बिठाकर दरभंगा ले गई।पति ने बताया कि वहाँ यानि थाने में भी बड़ी बे-रहमी से मारा था पंकज को।

थानेदार ने मुलाकाती के लिए जबरन लिया 1500 रुपया।
पंकज की पत्नी बताती हैं कि जब 26 अगस्त को परिवार के लोग पंकज से मिलने के लिए थाना पर गए तो थाना के पुलिसकर्मियों ने 1500 रुपए घुस लिया।उसके बाद मिलने दिया।पंकज ने पत्नी को बताया कि पुलिस ने उससे खूब पिटाई की है।इलाज कराओं नहीं तो मैं मर जाऊँगा इतनी बे-रहमी से मारा है इन दरिंदों ने मुझे।पुलिस ने परिवार के लोगों को भी डांट-फटकार के साथ,गाली-गलौज करते हुए यह भी धमकी दिया कि भाग जाओ यहाँ से नहीं तो तुमलोगों को भी जेल में सड़ाकर मार देंगे

कोई टिप्पणी नहीं: