श्लील गीत ही गाए नई पौधः विजया भारती - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 6 सितंबर 2020

श्लील गीत ही गाए नई पौधः विजया भारती

स्वस्थ भारत के कार्यक्रम में नए गायकों से प्रसिद्ध लोकगायिका विजया भारती ने की अपील, अश्लील गीतों से दूरी बनाएं
vijyaa-bhaarti
नई दिल्ली/06 सितम्बर,  प्रसिद्ध लोकगायिका विजया भारती ने नए कलाकारों एवं गायकों से अपील की है कि वे सलील गीत ही गाए। उन्होंने कहा कि जो गायक अश्लील गीत गाता है, वह कलाकार हो ही नहीं सकता। नए गायकों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में लोकगीतों की एक बेहतरीन परंपरा रही है। गायकों को अपनी परंपरा, संस्कृति, संस्कार के अनुरूप गीत गाने चाहिए। स्वस्थ भारत (न्यास) द्वारा स्वस्थ भारत अभियान के पेज पर आयोजित लाइव संगीत प्रस्तुति के दौरान उन्होंने अपनी संगीत-यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें बहुत संघर्ष करना पड़ा है लेकिन वे कभी भी झूकी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि शुरूआती दिनों में उन्हें भी अश्लील गीत गाने के लिए दिए जाते थे लेकिन उन्होंने कभी नहीं गाया। स्टूडियो से वे बिना गीत गाए वापस लौटीं। कई बार तो उन्हें अपमानित भी किया गया। लेकिन लोक-संस्कृति एवं कला का दामन उन्होंने कभी नहीं छोड़ा।



गौरतलब है कि कोरोना काल में लोगों को स्वस्थ-रंजन करने के लिए स्वस्थ भारत द्वारा फेसबुक लाइव के माध्यम से संगीतमय प्रस्तुति का आयोजन किया जा रहा है। इसके पूर्व बॉलीवुड अभिनेता और गायक अमरेन्द्र शर्मा ने अपनी प्रस्तुति दी थी। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ स्वास्थ्य पत्रकार आशुतोष कुमार सिंह ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: