तिरुपति के सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 सितंबर 2020

तिरुपति के सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद का निधन

tirupati-mp-balli-durga-prasad-passes-away
तिरुपति (आंध्र प्रदेश), 16 सितंबर, तिरुपति से लोकसभा सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद राव का बुधवार को यहां एक अस्पताल में निधन हो गया। वह कोरोना वायरस से संक्रमित थे और उनका इलाज चेन्नई के एक अस्पताल में चल रहा था। परिवार के सदस्यों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस के 65 वर्षीय सांसद चेन्नई के अस्पताल में भर्ती थे। तीन सप्ताह पहले उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसद के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राव तिरुपति की सुरक्षित सीट से पहली बार सांसद बने थे। तीन बार के विधायक और पूर्व राज्य मंत्री के परिवार में उनकी पत्नी, दो बेटे और एक बेटी हैं। मोदी ने ट्वीट किया, ' लोकसभा सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद के राव गारू के निधन से दुखी हूं। वह अनुभवी नेता थे, जिन्होंने आंध्र प्रदेश की प्रगति में प्रभावी योगदान दिया था। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति है। ओम शांति।' आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी, उप मुख्यमंत्री के नारायण स्वामी, उद्योग मंत्री मेकापति गौतम रेड्डी और चित्तूर जिले के कई विधायकों ने प्रसाद की मौत पर दुख व्यक्त किया है। रेड्डी ने सांसद के निधन पर गहरा दुख प्रकट किया। उन्होंने कहा, ' पार्टी के लिए नुकसान। उन्होंने विधायक, मंत्री और सांसद के रूप में लोगों के कल्याण के लिए संघर्ष किया।' पेशे से वकील राव ने तेदेपा के सदस्य के रूप में राजनीति करियर की शुरुआत की थी और वह पहली बार 1985 में विधायक बने थे। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वह वाईएसआरसी में शामिल हुए थे। तिरुमला तिरुपति देवास्थनम बोर्ड के अध्यक्ष वाई वी सुब्बा रेड्डी ने भी सांसद के निधन पर शोक व्यक्त किया। अविभाजित आंध्र प्रदेश में 1995-96 में वह चंद्रबाबू नायडू के मंत्रिमंडल में स्कूली शिक्षा मंत्री थे। वह नेल्लोर जिले के गुडूर से 1985,1994 औऱ 2009 में विधायक निर्वाचित हुए।

कोई टिप्पणी नहीं: