टीआरएस कृषि विधेयकों का करेगी विरोध - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 20 सितंबर 2020

टीआरएस कृषि विधेयकों का करेगी विरोध

trs-oppose-agriculture-bill
हैदराबाद, 19 सितंबर, टीआरएस अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने कहा है कि राजग सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयकों से देश के किसानों के साथ अन्याय होगा। उन्होंने अपनी पार्टी के सांसदों से राज्यसभा में विधेयकों के खिलाफ मतदान करने को कहा। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष राव ने कहा कि विधेयकों से किसानों को नुकसान होगा और कारोबारी घरानों को फायदा होगा। उन्होंने टीआरएस संसदीय दल के नेता के. केशव राव से संसद में इसका मुखर विरोध करने को कहा है । मुख्यमंत्री राव ने कहा कि केंद्र द्वारा संसद में पेश किसान और कृषि से जुड़े विधेयकों से देश में कृषि क्षेत्र के साथ बहुत बड़ा अन्याय होगा। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ये विधेयक मीठी गोलियों के समान हैं। हर तरीके से इसका विरोध होना चाहिए।’’ राव ने कहा कि आज की तारीख में मक्का पर 50 प्रतिशत का आयात शुल्क है और केंद्र ने इसे घटाकर 15 प्रतिशत करने का फैसला किया है। राव ने कहा कि केंद्र एक करोड़ टन मक्का आयात करना चाहता है और 70 लाख टन मक्का की खरीदारी पहले ही हो चुकी है। उन्होंने सवाल किया, ‘‘किसके फायदे के लिए आयात शुल्क में 35 प्रतिशत की कमी की गयी? जब देश आर्थिक संकट से गुजर रहा है तो ऐसा फैसला क्यों किया गया। देश में बड़े पैमाने पर मक्का की खेती होती है। अगर हम मक्का पर आयात शुल्क घटाएंगे तो हमारे मक्का उत्पादकों का क्या होगा। ’’ राव ने कहा कि राज्यसभा में इन विधेयकों का विरोध होना चाहिए क्योंकि इससे कृषि क्षेत्र को बड़ा नुकसान होगा। राज्यसभा में टीआरएस के सात सदस्य हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं: