गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रु प्रति क्विंटल की वृद्धि - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 22 सितंबर 2020

गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रु प्रति क्विंटल की वृद्धि

wheat-msp-50-rupees-increase
नयी दिल्ली,21 सितंबर, केन्द्र सरकार ने वर्ष 2020-21 के लिए रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की सोमवार काे घोषणा कर दी जिसमें 50 रुपये से लेकर 300 रुपये प्रति क्विंटल तक की वृद्धि की गयी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति की यहां हुई बैठक में गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50 रु, जौ 75 रु, चना 225 रु, मसूर 300 रु, सरसों 225 रु और सूरज मुखी के मूल्य में 112 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि करने का निर्णय लिया गया। कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने यहां बताया कि केंद्र सरकार ने 2019-20 में गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1925 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया था जिसे अब बढ़ाकर 1975 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। इसी तरह जौ का मूल्य 1575 रु से बढ़ाकर 1600 रु प्रति क्विंटल कर दिया गया है। चना के मूल्य 4875 रु से बढ़ाकर 5100 रु, मसूर के मूल्य 4800 से बढ़ाकर 5100 रु, सरसों के मूल्य 4425 से बढ़ाकर 4650 रु और सूरजमुखी के मूल्य 5215 रु से बढ़ाकर 5327 रु प्रति क्विंटल कर दिये गये हैं। सरकार ने इस बार सबसे अधिक मसूर के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 300 रु प्रति क्विंटल तथा चना और सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 225-225 रु प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की है। श्री तोमर ने बताया कि रबी फसलों की बुवाई से काफी पहले ही सरकार ने इनके न्यूनतम समर्थन मूल्य का फैसला कर लिया है जिससे किसानाें को इन फसलों की खेती करने के बारे में निर्णय लेने का पर्याप्त समय मिल सकेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: