बिहार : विधानसभा और विधान परिषद का चुनाव की डुगडुगी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 10 अक्तूबर 2020

बिहार : विधानसभा और विधान परिषद का चुनाव की डुगडुगी

शिक्षक  निर्वाचन क्षेत्र की सीटों में पटना, दरभंगा, तिरहुत व सारण की सीटें इनमें शामिल हैं.वहीं, स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में पटना, दरभंगा, तिरहुत व कोसी की सीटें इनमें शामिल हैं.इन सभी सीटों के निर्वाचित सदस्यों का कार्यकाल 06 मई 2020 को ही समाप्त हो चुका है.... 

bihar-election-2020

पटना.
बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा एलान कर दिया है. चुनाव आयोग के आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बिहार चुनाव की घोषणा कर दी है. अरोड़ा ने कहा कि बिहार में तीन चरण में चुनाव होगा. 28 अक्टूबर को बिहार में पहला चरण का चुनाव होगा. इसको लेकर एक अक्टूबर को नामांकन की प्रक्रिया शुरू होगी. 3 नवंबर को दूसरे चरण का मतदान होगा. 7 नवंबर को तीसरे चरण का मतदान होगा. पहले चरण में  71, दूसरे चरण में 94, तीसरे चरण में 78 सीटों पर चुनाव होगा.  10 नवंबर को वोटों की गिनती की जाएगी पहले चरण में 71 सीटों पर होगा चुनाव. अधिसूचना 1 अक्टूबर होगा, नामांकन 8 अक्टूबर को होगा. 9 अक्टूबर को स्कूटनी, 12 अक्टूबर को नाम वापसी, 28 अक्टूबर को मतदान होगी. दूसरे चरण में 94 सीटों पर चुनाव होगा. अधिसूचना 9 अक्टूबर होगा, नामांकन 16 अक्टूबर को होगा. 17 अक्टूबर को स्कूटनी, 19 अक्टूबर को नाम वापसी, 3 नवंबर को मतदान होगी. तीसरे चरण में चुनाव 78 सीटों पर होगा. अधिसूचना 13 अक्टूबर होगा, नामांकन 20 अक्टूबर को होगा. 21 अक्टूबर को स्कूटनी, 23 अक्टूबर को नाम वापसी, 7 नवंबर को मतदान होगा. चुनाव आयोग ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर 7 लाख सैनिटाइजर, 46 लाख मास्क का इंतजाम किया गया है. चुनाव आयोग ने कहा कि कोरोना काल में बिहार में सबसे बड़ा चुनाव हो रहा है. सुबह सात बजे से 6 बजे तक वोटिंग होगी.  बिहार में कुल 7 करोड़ 89 लाख हैं. जिसमें पुरूष 3 करोड़ 39 लाख और महिला वोटरों की संख्या 3 करोड़ 30 लाख के करीब हैं. उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन करेंगे. अगर अधिकारी के पास जाते हैं तो उनके साथ सिर्फ 5 लोग ही होंगे. चुनाव आयोग ने कहा कि डोर टू डोर जन संपर्क के दौरान सिर्फ 5 लोग ही एक साथ जा सकते हैं. चुनाव आयोग ने कहा कि कोरोना के कारण ही एक घंटे समय दिया गया है. सुबह 7 से शाम 6 बजे तक समय दिया गया है. चंद्रभूषण को बिहार चुनाव की जिम्मेवारी आयोग ने सौंपी है. चुनाव आयोग ने साफ कहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव में रैली नहीं होगी. रैली सिर्फ वर्चुअल ही होगी. रोड शो, रैली की इज्जात कोरोना संकट को लेकर नहीं दी है. आयोग ने कहा कि कोरोना संक्रमित एरिया में सरकार का जो एसओपी है इसका पालन करना होगा. 

आयोग ने कहा कि आपराधिक मामले वाले उम्मीदवार को अपने क्राइम हिस्ट्री के बारे में अखबार और चैनलों पर उनको चुनाव प्रचार के दौरान प्रसारित करना होगा. बताना होगा कि उनके खिलाफ किस-किस तरह का मामला दर्ज है. आयोग ने कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का गलत इस्तेमाल करने वालों पर आयोग की नजर रहेगी. कोई भी अगर गलत इस्तेमाल करता है तो उसके खिलाफ आयोग कार्रवाई होगी. फेक न्यूज वालों पर भी नजर रहेगी. आयोग ने कहा कि मतदान के अंतिम समय में कोरोना संक्रमित अपना वोट डाल सकेंगे, जिनके लिए अलग से व्यवस्था होगी. हर पोलिंग बूथ पर साबुन, सैनिटाइजर समेत अन्य चीजों की व्यवस्था की जाएगी. बिहार विधानसभा चुनाव में एक तरफ नीतीश कुमार की अगुआई में जेडीयू, बीजेपी, हम जैसे दल हैं तो महागठबंधन की अगुआई लालू यादव के बेटे तेजस्वी संभाले हुए हैं. महागठबंधन में आरजेडी के साथ कांग्रेस है. एनडीए में लोजपा तो महागठबंधन से रालोसपा की खटपट चल रही है. एक तरफ नीतीश अपने 15 साल के कामकाज के आधार पर वोट मांगने जनता के बीच जाएंगे तो अपने पोस्टरों से लालू यादव को हटा चुके तेजस्वी यादव जनता का भरोसा जीतने को पूरा दमखम लगाएंगे. नीतीश कुमार को जहां बीजेपी के संगठन और पीएम मोदी की लोकप्रियता का फायदा मिलने की उम्मीद होगी तो आरजेडी को अपने परंपरागत वोटर्स को मजबूती से जोड़े रखना होगा.आज नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव केंद्र सरकार पर लगातार हमला बोल रहे हैं.इसी कड़ी में बुधवार को ट्रैक्टर चलाकर तेजस्वी ने किसान बिल का विरोध किया.उन्होंने दिखा दिया है कि बिहार के चुनावी माहौल में ड्राइवरी सीट पर बरकरार हैं.बिहार के स्नातक एवं शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से बिहार विधान परिषद के चुनाव को लेकर 22 अक्टूबर को मतदान होगा.शुक्रवार को भारत निर्वाचन आयोग ने राज्य के चार शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र की सीटों एवं चार स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के सीटों के चुनाव को लेकर कार्यक्रम की घोषणा की शिक्षक  निर्वाचन क्षेत्र की सीटों में पटना, दरभंगा, तिरहुत व सारण की सीटें इनमें शामिल हैं.वहीं, स्नातक निर्वाचन क्षेत्र में पटना, दरभंगा, तिरहुत व कोसी की सीटें इनमें शामिल हैं.इन सभी सीटों के निर्वाचित सदस्यों का कार्यकाल 06 मई 2020 को ही समाप्त हो चुका है.  आयोग के अनुसार इन सीटों के चुनाव को लेकर 28 सितंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी और इसके साथ ही नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे.नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 05 अक्टूबर, नामांकन पत्रों की जांच 06 अक्टूबर और नामांकन पत्रों की वापसी की अंतिम तिथि 08 अक्टूबर निर्धारित की गयी है.  आयोग के अनुसार इन सीटों के लिए 22 अक्टूबर को सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक मतदान होगा. 12 नवंबर को मतगणना के बाद परिणाम जारी कर दिए जाएंगे.इस चुनाव को लेकर भी कोरोना से बचाव को लेकर जारी किए गए दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं: