आईपीएल में तम्बाकू विज्ञापन, प्रचार और प्रायोजन पर लगे प्रतिबन्ध : मुकेश कुमार सिन्हा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 28 अक्तूबर 2020

आईपीएल में तम्बाकू विज्ञापन, प्रचार और प्रायोजन पर लगे प्रतिबन्ध : मुकेश कुमार सिन्हा

deamnd-ban-on-tobacco-ads-in-ipl
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में तम्बाकू उत्पादों के प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष विज्ञापन, प्रचार और प्रायोजन पर लगे प्रतिबन्ध ,भारत में क्रिकेट की लोकप्रियता आईपीएल के माध्यम से बढ़ी है और साथ ही दुनिया भर के दर्शकों को भी आकर्षित किया है जिसमें बच्चे, नौजवानों  के साथ साथ हर वर्ग के दर्शक शामिल हैं I वैश्विक स्तर पर वयस्कों में समय से पहले मौत का सबसे बड़ा कारण तंबाकू का उपयोग हैI कैंसर, तपेदिक और अन्य बीमारियों में इसका प्रमुख योगदान है। वर्तमान महामारी के दौरान, भारत में तंबाकू उत्पादों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया गया और इसका निर्माण और बिक्री भी वर्जित की गयी।  यह अच्छी तरह से स्थापित है कि प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से तम्बाकू विज्ञापन युवाओं और युवा वयस्कों के बीच तंबाकू के उपयोग और आकर्षण का प्रमुख कारण है। तम्बाकू/पान मसाला उत्पादों के प्रचार-प्रसार के लिए वर्तमान आईपीएल  (IPL 2020) के दौरान विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल किया गया है I सिगरेटऔरअन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम, COTPA 2003 की धारा 5 दृश्य श्रव्य और अन्य मीडिया के सभी रूपों में किसी भी प्रकार के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तंबाकू के विज्ञापन, प्रचार और प्रायोजन को प्रतिबंधित करती है। तंबाकू कंपनियां एक ही लोगो, टैगलाइनों और ब्रांड रंग का उपयोग कर के अपने उत्पादों के विज्ञापन और प्रचार के लिए अप्रत्यक्ष विज्ञापन विधियों का उपयोग कर रही हैं। मौजूदा आईपीएल सीज़न के दौरान, कुछ तम्बाकू/पान मसाला कम्पनियां अपने उत्पादों को अप्रत्यक्ष विज्ञापन के माध्यम से प्रचारित और बढ़ावा दे रही हैंI तम्बाकू उत्पादों का प्रचार सीधे टीमों और खेल उपकरण के प्रायोजक के रूप में या समाचार, खेल और मीडिया चैनलों के माध्यम से अप्रत्यक्ष रूप में विज्ञापन किया जाता है। मध्यप्रदेश वॉलेंट्री हेल्थ एसोसिएशन के कार्यकारी निदेशक मुकेश कुमार सिन्हा ने बताया की भारत सरकार का सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम, 2003 (COTPA) ओंर तंबाकू नियंत्रण पर WHO- फ्रेमवर्क कन्वेंशन (WHO FCTC), तम्बाकू आपदा को कम करने के लिए प्रतिबद्ध  हैं। मजबूत कानून होते हुए भी कई तरह के तम्बाकू उत्पादों /पान मसाला आदि पदार्थों का अप्रत्यक्ष रूप से विज्ञापन खेल आयोजनों में होता हैI चूँकि खेलों के माध्यम से बच्चों एवं युवाओं का स्वास्थ्य अच्छा होता है और हमारी संस्कृति में खेलों का विशेष महत्व रहा है ऐसे मे यदि खेलों के माध्यम से ही स्वास्थ्य को हानि पहुँचाने वाले उत्पादों का प्रचार होगा तो इससे बच्चों और युवाओं में गलत सन्देश जायेगा I स्वदेश ग्रामोत्थान समिति के संचालक व मप्र वोलेंट्री हेल्थ एसोसिएशन के गवर्निंग बोर्ड सदस्य रामजीशरण राय एक नागरिक एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्यरत सदस्य के रूप में कम से कम खेलों के माध्यम से तम्बाकू उत्पादों का प्रचार प्रसार न करने की अपील करता हूँI तम्बाकू नियंत्रण से जुड़ी सामाजिक संस्थाओं ने भी आईपीएल सहित सभी तरह के टूर्नामेंट से तम्बाकू उद्योग के प्रचार प्रसार को हटाने लिए भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड से आग्रह भी किया हैI हम समझते है की  यह कदम सार्वजनिक स्वास्थ्य के हित में तम्बाकू नियंत्रण में अहम् भूमिका निभाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: