चिदंबरम के बयान पर आक्रामक हुए मध्यप्रदेश के भाजपा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 18 अक्तूबर 2020

चिदंबरम के बयान पर आक्रामक हुए मध्यप्रदेश के भाजपा

mp-bjp-aggrasive-on-chidambaram
भोपाल, 18 अक्टूबर, पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम के जम्मू कश्मीर से जुड़े मुद्दे पर ट्वीट के बाद मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने आक्रामक रुख अपनाते हुए कांग्रेस के नेतृत्व से मांग की है कि उन्हें इस संबंध में अपना मत स्पष्ट करना चाहिए। श्री चिदंबरम के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। कांग्रेस नेता श्री चिदंबरम के बयान से उस पार्टी का 'हिडन एजेंडा' सामने आ गया है। कांग्रेस नेता का इस तरह का बयान चीन और पाकिस्तान की भाषा की तरह है। कांग्रेस को इस पर शर्म आना चाहिए। श्री चौहान ने एक बयान के जरिए कहा कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने का पूरे देश ने स्वागत किया था। देश में वर्षों का सपना साकार हुआ था, लेकिन कांग्रेस नेता की इस तरह की हरकत से अलगाववादियों को बल मिला है। श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस को स्पष्ट करना चाहिए कि वह किसके साथ है। देश की जनता कांग्रेस को कभी माफ नहीं करेगी। राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट के जरिए कहा कि कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व को कश्मीर में अनुच्छेद 370 बहाल करने के बारे में श्री चिदंबरम के बयान पर अपनी राय साफतौर पर जाहिर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश जानना चाहता है कि इस मुद्दे पर कांग्रेस अलगाववादियों के साथ है या देशभक्तों के साथ। श्री चिदंबरम ने कल अपने ट्वीट में लिखा है कि कांग्रेस जम्मू कश्मीर के लोगों की स्थिति और अधिकारों की बहाली के लिए दृढ़ है। मोदी सरकार द्वारा 05 अगस्त 2019 काे लिए गए मनमाने और असंवैधानिक फैसलों को रद्द किया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी लिखा है कि केंद्र सरकार को जम्मू कश्मीर की मुख्यधारा के दलों और लोगों को अलगाववादी या राष्ट्रविरोधी के रूप में देखना बंद करना चाहिए। मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा उपचुनावों के लिए प्रमुख दलों की तैयारियों के बीच भाजपा के अन्य नेताओं ने भी इस मुद्दे पर आक्रामक रुख अपनाते हुए बयान दिए हैं।  

कोई टिप्पणी नहीं: