गया : मोदी हैं तो मुमकिन है और नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा ही - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

गया : मोदी हैं तो मुमकिन है और नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा ही

nadda-in-gaya-attack-lalu
गया. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिहार में चुनावी अभियान की शुरुआत करते हुए कहा कि मोदी हैं तो मुमकिन है और नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा, इसको याद रखना.   बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की ओर से रविवार को शंखनाद हो गया. लोकनायक जयप्रकाश नारायण के जन्मोत्सव पर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने रविवार को किया.वर्चुअल  के साथ एक्चुअल रैली  को संबोधित करने भाजपा अध्यक्ष  जेपी नड्डा मोक्ष नगरी गया के गांधी मैदान पहुंचे. उन्होंने कहा कि किसान कानून लाकर नरेंद्र मोदी ने भारत के किसान को आजाद कर दिया.अब अन्नदाता को अपनी मेहनत का हिसाब लेने के लिए जगह-जगह भटकना नहीं पड़ेगा.कांग्रेस पर हमला करते हुए हुए उन्होंने कहा कि 70 साल में उन्होंने (कांग्रेस) केवल जात के आधार पर राजनीति की. नड्डा ने कहा कि एनडीए की सरकार ने शिक्षा के लिए बेहतर कार्य किए। बिहार में एनडीए के राज में 14 मेडिकल कॉलेज खोले गए.हमने पांच साल में छात्रों के लिए अलग बजट बनाए.उन्होंने कहा कि बिहार के विकास के लिए बीजेपी हमेशा आगे रही. नड्डा ने कहा नीतीश सरकार ने बिहार की तस्वीर बदल दी है.बिहार ने कई आइएस-आइपीएस दिए.उन्होंने कहा कि मोदी हैं तो मुमकिन है और नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा, इसको याद रखना. उन्होंने विपक्षियों पर तंज कसते हुए कहा कि चुनाव विकास के लिए होता है. नड्डा ने कहा कि पहले के बिहार और आज के बिहार में बहुत अंतर है.एनडीए के राज में बिहार में विकास के नए आयाम लिखे जा रहे हैं. इस विकास को चलायमान रखना ये हमारी और आपकी जिम्मेदारी है.नड्डा ने एनडीए सरकार के किए गए कार्यों को भी याद दिलाया.उन्होंने कहा कि गया में आइआइएम, राजकीय नेशनल हाईवे, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, बिहार सेंट्रल यूनिवर्सिटी, रसलपुर रेलवे ओवरब्रिज, डांडी बाग पुल और धोबी-पटना फोर लेन जैसे अनेकों काम हुए हैं और हो रहे हैं. बिहार विधानसभा चुनाव में पहले चरण का नामांकन खत्म होने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा अपने एक दिवसीय बिहार दौरे पर आज सुबह पटना पहुंचे. जेपी नड्डा ने यहां पर स्थित हनुमान मंदिर में पूजा अर्चना की और फिर गया के लिए रवाना हो गए. राजद पर निशाना साधते हुए जेपी नड्डा ने कहा कि जय प्रकाश नारायण के शिष्य होने के बावजूद कांग्रेस को गले लगाकर चल रहे है. सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने एक बार फिर लालू राज की याद दिलाई. जेपी नड्डा ने कहा कि उनके राज में कैसे बिहार छोडकर कारोबारी चले गए. बिहार में डॉक्टरों का अपहरण होता था. घर से निकलना संभव नहीं था. उन्होंने कहा कि आज बहुत ही बिहार के लिए खास दिन है. जो 60 साल के होंगे वह लोकनायक जय प्रकाश को जानते होंगे. आज उनको याद करता हूं.

उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ बिगुल फूंका था. लेकिन आज उनके शिष्य कांग्रेस के साथ गले लगाकर राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बिहार के युवाओं को सही दृष्टि लेकर आगे बढना चाहिए. आज से पहले जाति, मजहब के आधार पर कांग्रेस पार्टी राजनीति करती थी. मोदी जी ने इस दौर को बदल दिया है. पिछले पांच सालों में किसानों, शिक्षा, स्किल डेवलपेंट और हेल्थ के क्षेत्र में बडे पैमाने पर काम हुआ है.  जेपी नड्डा ने कहा कि जब बिहार का भविष्य हैं तो बिहार के युवाओं को भी सही फैसला लेना होगा. आज से पहले चुनाव होता था तो हर विधानसभा में जाति के आधार पर राजनीति होती थी, लेकिन पीएम मोदी ने चुनाव और देश की संस्कृति को बदल दी. पीएम मोदी कहते हैं कि चुनाव में जाएंगे तो जाति नहीं बल्कि अपनी कामों के रिपोर्ट कार्ड लेकर जाएंगे. जेपी नड्डा ने कहा कि पीएम मोदी ने देश के गरीबों को जन धन खाते खुला रहे थे तो राहुल गांधी और प्रियंका गांधी उसका मजाक उडाते थे, लेकिन लॉकडाउन के दौरान इस खाते के माध्यम से ही बहनों के खाते में 500-500 रुपए तीन महीना तक भेजा गया. यह जन धन खाते के ही शक्ति ही है. लेकिन दोनों भाई बहनों को इसके बारे में कोई ज्ञान नहीं है. उन्होंने का कि उजाले की इज्जत तब तक होती है जब तक अंधेरे का अहसास न हो. लालू राज में कई कारोबारी बिहार छोडकर चले गए. डाकबंगला चौराहा पर शाम को खड़ा नहीं हो पाता था. डॉक्टर बाहर निकलते थे उनको यह डर होता था कि शाम को वह अपने परिजनों के साथ रात मे खाना खा पाएंगे की नहीं है. लेकिन अब बिहार बदल गया है.  जेपी नड्डा आज सुबह करीब 10 बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचे. यहां से वह सीधे पटना जंक्शन से सटे हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना आए. इसके बाद उन्होंने जय प्रकाश नारायण की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर गया के लिए रवाना हो गए. इस दौरान उनके साथ बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी भी मौजूद थे. इस मौके पर मीडिया से संक्षिप्त बातचीत के दौरान नड्डा ने कहा कि कांग्रेस के थोपे गए आपातकाल के दौरान जेपी को बहुत यातनाएं दी गईं, पर वह सच्चाई के मार्ग से नहीं हटे. कांग्रेस के भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, बेरोजगारी के खिलाफ उसकी नींव हिलाने का काम जेपी ने काम किया. 

यहां बता दें कि बिहार में चुनावी सभा की आज से हुई शुरूआत के बाद अब अगले हफ्ते भाजपा के दूसरे बड़े नेता पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी बिहार में जनसभाएं करने वाले हैं. कोरोना वायरस महामारी के बीच चुनाव आयोग ने प्रचार अभियान को लेकर दिशानिर्देश जारी किए थे. महामारी के संक्रमण को देखते हुए पहले की तरह बडे स्तर चुनाव प्रचार और रैलियों की इजाजत नहीं दी गई है. लेकिन कुछ नियमों के साथ रैली, जनसभा और रोड शो किए जा सकते हैं. नड्डा के भाषण से साफ़ था कि जहां एक ओर भाजपा के नेता मोदी सरकार के कामों पर वोट मांगेंगे वहीं नीतीश कुमार की सरकार की भी तारीफ करेंगे और वोटर को यही याद दिलाएंगे कि कितना काम किया गया. कोविड के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कामों के बारे में नड्डा ने कहा कि सभी लोगों की चिंता की गई. जो बाहर थे उनकी भी चिंता नीतीश जी ने की और उनके खाते में पैसा भेजा गया. जेपी नड्डा ने गया की इस सभा में लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान का नाम लिए बिना कहा कि चुनाव दोस्ती यारी का नहीं होता, जात-बिरादरी का नहीं होता, बल्कि चुनाव इलाके के विकास से जुड़ा होता है. नड्डा ने कहा कि आगामी चुनाव में मतदान आपके भविष्य से जुड़ा है. इस सभा में जनता दल यूनाइटेड के प्रधान महासचिव आरसीपी सिंह भी उपस्थित थे. नड्डा के भाषण से साफ़ था कि जहां एक ओर भाजपा के नेता मोदी सरकार के कामों पर वोट मांगेंगे वहीं नीतीश कुमार की सरकार की भी तारीफ करेंगे और वोटर को यही याद दिलाएंगे कि कितना काम किया गया. कोविड के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कामों के बारे में नड्डा ने कहा कि सभी लोगों की चिंता की गई. जो बाहर थे उनकी भी चिंता नीतीश जी ने की और उनके खाते में पैसा भेजा गया. जदयू के खिलाफ लोजपा की खुली अदावत के बाद राजग के लिए अपने वोटों को सहेज रखने की चुनौती है. इसकी महती जिम्मेदारी भाजपा की है.मतदाताओं में सकारात्मक संदेश के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक साथ जनसभा को संबोधित करने वाले हैं.हालांकि अभी तारीखें तय नहीं हुई हैं, लेकिन पूरी तैयारी है कि हर चरण में नरेंद्र-नीतीश दो-तीन संयुक्त जनसभा को अवश्य संबोधित करें.इससे राजग के कोर वोट बैंक से उस भ्रम के दूर होने की संभावना है, जो लोजपा द्वारा पैदा किया गया है. उल्लेखनीय है कि लोजपा ने अपने कार्यकर्ताओं और पारंपरिक मतदाताओं से जदयू के विरुद्ध मतदान की अपील की है. इस अपील से आगे बढ़ते हुए वह भाजपा के बागियों को लगातार अपना सिंबल दे रही.

कोई टिप्पणी नहीं: