श्रीनगर में एक प्रतिष्ठित अखबार का दफ्तर सील - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 20 अक्तूबर 2020

श्रीनगर में एक प्रतिष्ठित अखबार का दफ्तर सील

news-paper-sealed-in-srinagar
श्रीनगर, 19 अक्टूबर, जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में अधिकारियों ने एक प्रतिष्ठित अखबार के दफ्तर को सोमवार को सील कर दिया। दैनिक समाचार पत्र का कार्यालय यहां एक सरकारी इमारत में आवंटित किया गया था। अखबार के मालिक ने दावा किया कि कानूनी प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि संपदा विभाग ने यहां प्रेस एन्क्लेव में स्थित 'कश्मीर टाइम्स' का दफ्तर सोमवार को सील कर दिया। उन्होंने सरकार की कार्रवाई का कोई कारण नहीं बताया। इस अंग्रेजी अखबार का मुख्यालय जम्मू में है और यह केंद्र शासित प्रदेश के दोनों क्षेत्रों से प्रकाशित होता है। 'कश्मीर टाइम्स' की मालकिन अनुराधा भसीन ने फोन पर पीटीआई-भाषा को बताया, ' श्रीनगर में हमारे दफ्तर पर कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बिना ताला डाल दिया गया है। (आवंटन) रद्द करने या खाली करने का कोई नोटिस हमें नहीं दिया गया था। ' उन्होंने कहा, 'हम संपदा विभाग गए और उनसे (कार्यालय खाली करने) इस संबंध में आदेश देने को कहा, लेकिन उन्होंने आदेश जारी नहीं किया। इसके बाद हमने अदालत का रुख किया लेकिन वहां से भी कोई आदेश नहीं आया।'भसीन ने इस कदम को अपने खिलाफ " प्रतिशोध" बताया, क्योंकि वह सरकार के खिलाफ बोलीं थी और उन्होंने पिछले साल अनुच्छेद 370 हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर में मीडिया पर लगाई गईं पाबंदियों के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया था। उन्होंने कहा, " पिछले साल जिस दिन मैं न्यायालय गई थी, उसी दिन कश्मीर टाइम्स को मिलने वाले राज्य सरकार के विज्ञापनों को रोक दिया गया था।"

कोई टिप्पणी नहीं: