तय स्थान पर एकत्र हों किसान, सरकार बातचीत के लिए तैयार : शाह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 नवंबर 2020

तय स्थान पर एकत्र हों किसान, सरकार बातचीत के लिए तैयार : शाह

government-ready-for-talk-amit-shah
नयी दिल्ली 28 नवम्बर, सरकार ने दिल्ली कूच के लिए राजधानी के बार्डरों पर डेरा जमाये बैठे आंदोलनकारी किसानों से दिल्ली पुलिस द्वारा निर्धारित स्थान पर एकत्र होने का अनुरोध करते हुए कहा है कि किसानों के इस स्थान पर आते ही उनकी मांगों और समस्याओं पर उनके साथ बातचीत की जायेगी। सूत्रों के अनुसार केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने किसान नेताओं से अपील की है कि उनके सीमाओं और राजधानी के बार्डरों पर एकत्र होने से आने जाने वाले लोगों तथा किसानों को भी असुविधा हो रही है। सूत्रों ने बताया कि श्री शाह ने कहा है कि सरकार किसानों ही हर समस्या तथा मांग पर उनके साथ बातचीत के लिए तैयार है और कृषि मंत्री ने इसके लिए तीन दिसम्बर की तारीख तय की है। उन्होंने कहा कि यदि किसान चाहते हैं कि सरकार उनसे तीन तारीख से पहले बात करे तो सभी किसान नेताओं से अनुरोध है कि वे किसानों को लेकर दिल्ली पुलिस द्वारा निर्धारित स्थान पर एकत्र हो जायें और सरकार तुरंत आपकी समस्याओं और मांगों पर बातचीत लिए तैयार है। उन्होंने किसान नेताओं से कहा है कि वे शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से अपना आंदोलन जारी रखें और बातचीत को भी आगे बढायें लेकिन इसके लिए उन्हें निर्धारित स्थान पर एकत्र होना होगा इसमें किसानों को भी सुविधा रहेगी और सड़कों पर आने जाने वाले लोगों को भी सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि वह किसान नेताओं को आश्वस्त करते हैं कि उनके यहां आते ही तुरंत उनके साथ बातचीत होगी । श्री शाह ने कहा कि निरंकारी संत समागम मैदान में शौचालय , पानी और अन्य सुविधाओं के साथ साथ किसानों की सुरक्षा का भी उचित बंदोबस्त किया गया है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस ने किसानों से बुराड़ी के निकट स्थित निरंकारी संत समागम मैदान में एकत्र होने के लिए कहा है। किसानों ने अब तक इस मांग को नहीं माना है और वे राजधानी में इससे आगे जाकर सरकार तक अपनी बात पहुंचाने की मांग पर अड़े हैं। किसान संगठन हाल ही में सरकार द्वारा लाये गये तीन नये कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए इनका विरोध कर रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं: