बदलते परिवेश में करवाचौथ व्रत का भी हो गया है ग्लोबल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 नवंबर 2020

बदलते परिवेश में करवाचौथ व्रत का भी हो गया है ग्लोबल

karwa-chautha
बदलते परिवेश में करवाचौथ व्रत का भी अब ग्लोबलाइजेशन हो गया है। अब करवाचौथ का पर्व देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मनाया जाने लगा है। करवाचौथ के दिन सुहागिन स्त्रियां पति की दीर्घायु और खुशहाल दाम्पत्य जीवन की कामना के लिए बुधवार को सदियों पुराना करवाचौथ का पारंपरिक व्रत रखेंगी। कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाने वाला करवाचौथ पर्व पति के प्रति समर्पण का प्रतीक हुआ करता था लेकिन आज यह पति.पत्नी के बीच के सामंजस्य और रिश्ते की ऊष्मा से दमक और महक रहा है। आधुनिक दौर भी इस परंपरा को डिगा नहीं सका है बल्कि इसमें अब ज्यादा संवेदनशीलता, समर्पण और प्रेम की अभिव्यक्ति की गहराई दिखाई देती है। करवाचौथ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मनाया जाने लगा है। करवाचौथ शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। करवा यानी मिट्टी का बरतन और चौथ यानि चतुर्थी। इस त्योहार पर मिट्टी के बरतन यानी करवे का विशेष महत्व माना गया है। इस व्रत में भगवान शिव शंकर माता पार्वती कार्तिकेय, गणेश और चंद्र देवता की पूजा-अर्चना करने का विधान है। माना जाता है करवाचौथ की कथा सुनने से विवाहित महिलाओं का सुहाग बना रहता है। उनके घर में सुख, शान्ति, समृद्धि और सन्तान सुख मिलता है। सभी विवाहित स्त्रियां साल भर इस त्योहार का इंतजार करती हैं। करवाचौथ का त्योहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है। उत्तर प्रदेश में प्रयागराज निवासी डाॅ रश्मि सिंह ने “यूनीवार्ता” को यहां बताया कि पिछले कुछ वर्षों से करवाचौथ का त्योहार का भी ग्लोबलाइजेशन हो गया है। अब करवाचौथ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मनाया जाने लगा है। विदेशों में महिलाएं बखूबी संतुलन बनाये रखती हैं। पश्चिमी परिधानों की आदी हो चुकी ये महिलाएं जब भी धार्मिक और सांस्कृतिक सभ्यता की बात आती है तो उनका देशी लुक पूर्ण रूप से भारतीय हो जाता है।


करवाचौथ पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान समेत अन्य कई प्रदेशों के साथ इंग्लैंड अमेरिका, यूरोप, कैनेडा और सूरीनाम आदि देशों में रहने वाले भारतीय परंपरागत ढंग से मनाते हैं। उन्होंने बताया कि इस पर्व को पहले पत्नियां ही करती थी लेकिन बदलते परिवेष में पति भी अपने सफल दाम्पत्य जीवन के लिए पत्नी के साथ निर्जला व्रत का पालन करने लगे है। मोबाइल फोन और इंटरनेट के दौर में करवाचौथ के प्रति महिलाओं में किसी भी प्रकार की कमी नहीं आयी बल्कि इसमें और आकर्षण बढ़ा है। टीवी धारावाहिकों और फिल्मों से इसको अधिक बल मिला है। करवाचौथ भावना के अलावा रचनात्मकताए कुछ-कुछ प्रदर्शन और आधुनिकता का भी पर्याय बन चुका है। डाॅ सिंह ने बताया कि इस पर्व की महत्ता न केवल महिलाओं के लिए बल्कि पुरूषों के लिए भी है। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत करती हैं और छलनी से चंद्रमा को देखती हैं और फिर पति का चेहरा देखकर उनके हाथों से जल ग्रहण कर अपना व्रत पूरा करती हैं। उन्हाेंने बताया कि इस व्रत में चन्द्रमा को छलनी में देखने का विधान इस बात की ओर इंगित करता है कि पतिण्पत्नी एक दूसरे के दोष को छानकार सिर्फ गुणों को देखें जिससे दाम्पत्य के रिश्ते प्यार और विश्वास की डोर से मजबूती के साथ बंधे रहे। पति और पत्नि गृहस्थी रूपी रथ के दो पहिया हैं। किसी एक के भी बिखरने से पूरी गृहस्थी टूट जाती है। डाॅ रश्मि सिंह ने बताया कि पौराणिकता के साथ-साथ इसमें आधुनिकता का प्रवेश हो चुका है और अब यह त्योहार भावनाओं पर केंद्रित हो गया है। हमारे समाज की यही खासियत है कि हम परंपराओं में नवीनता का समावेश लगातार करते रहते हैं। यह पर्व पति-पत्नी का बन चुका है क्योंकि दोनों गृहस्थी रुपी गाड़ी के दो पहिए है। निष्ठा की धुरी से जुड़े हैं इसलिए संबंधों में प्रगाढ़ता के लिए दोनों ही व्रत करते हैं।


उन्हाेंने बताया कि बदलाव आधुनिकता का जरूर है लेकिन संस्कृति और परंपराओं के निभाने की पूरी ललक विवाहिताओं में साफ दिखाई दे रही है। आजकल के मॉडर्न जमाने में भी करवा चौथ त्योहार मनाने को लेकर पीढ़ी अंतराल के बावजूद कोई खास बदलाव नहीं आया है। रिश्तों और पुरानी परंपराओं को सहेजने में नई पीढ़ी भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही है। करवाचौथ को अधिक बल फिल्मों और टीवी धारावाहिकों से मिला है। करवाचौथ के व्रत का आरम्भ कब से शुरू हुआ इसकी सटीक विवरण उपलब्ध नहीं है। इसका विवरण शास्त्रों, पुराणों और महाभारत में मिलता है। श्वामन पुराण में भी करवा चौथ व्रत का वर्णन मिलता है। करवा चौथ से जुड़ी अनेक कथायें भी प्रचलित हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार देवताओं और दानवों के साथ युद्ध से भी जुड़ा है इसका इतिहास। एक बार देवताओं और दानवों में युद्ध शुरू हो गया और उस युद्ध में देवताओं की हार हो रही थी। ऐसे में देवता ब्रह्मदेव के पास गए और रक्षा की प्रार्थना की। ब्रह्मदेव ने कहा कि इस संकट से बचने के लिए सभी देवताओं की पत्नियों को अपने.अपने पतियों के लिए व्रत रखना चाहिए और सच्चे दिल से उनकी विजय के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। ब्रह्मदेव ने वचन दिया कि ऐसा करने पर निश्चित ही इस युद्ध में देवताओं की जीत होगी। ब्रह्मदेव के इस सुझाव को सभी देवताओं और उनकी पत्नियों ने खुशी-खुशी स्वीकार किया। ब्रह्मदेव के कहे अनुसार कार्तिक माह की चतुर्थी के दिन सभी देवताओं की पत्नियों ने व्रत रखा और अपने पतियों यानी देवताओं की विजय के लिए प्रार्थना की। उनकी यह प्रार्थना स्वीकार हुई और युद्ध में देवताओं की जीत हुई। माना जाता है कि इसी दिन से करवाचौथ के व्रत के परंपरा शुरू हुई। 

कोई टिप्पणी नहीं: