नई शिक्षा नीति भारत को विश्वगुरु बनने में सहायक साबित होगी : डॉ. निशंक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 6 नवंबर 2020

नई शिक्षा नीति भारत को विश्वगुरु बनने में सहायक साबित होगी : डॉ. निशंक

new-education-policy-will-made-india-wold-leader-nishank
नयी दिल्ली, 06 नवंबर, केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा है कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्ट-अप इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के मिशन को साकार बनाने के लिए मानवीय मूल्यों के साथ ज्ञान-विज्ञान-अनुसंधान, प्रौद्योगिकी तथा नवाचार को समाहित करते हुए भारत के विश्वगुरु बनने के संकल्प में सहायक साबित होगी। डॉ निशंक ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के कार्यान्वयन को लेकर एमिटी यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए आज कहा “मुझे उम्मीद है कि सम्मेलन में डिजिटल माध्यम से उपस्थित देश-विदेश के शिक्षाविद, कुलपति गण, वैज्ञानिक, प्रशासक, शोधार्थी, विद्यार्थीसभी मिलकर हमारी नई नीति के क्रियान्वयन संबंधी एक सार्थक विचार-विमर्श करेंगे जिससे एक ज्ञान का प्रकाश पुंज बाहर निकलेगा, वह हमारे देश को ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था तथा ज्ञान की दुनिया के सबसे बड़े नायक के रूप में स्थापित करेगा।” उन्होंने लीडरशिप की भूमिका पर जोर देते हुए कहा कि नीति निर्माण एक मूलभूत एवं नीतिगत विषय है और नीति क्रियान्वयन रणनीतिक विषय है। इन दोनों के बीच सबसे अहम रोल लीडरशिप का होता है, ऐसी लीडरशिप जो नीति को ज़मीन पर उतार सके। सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के कुलपति, निदेशक, महानिदेशक एवं विभागाध्यक्षों का आह्वान करते हुए उन्होनें कहा कि आप सभी लीडरों से यह अपेक्षा है कि भारतीय शिक्षण प्रक्रिया का विकेंद्रीकरण और सशक्तिकरण आपके माध्यम से होगा और शिक्षा की नई लहर भारत के हर छात्र और हर कोने तक पहुंचेगी।

डॉ निशंक ने छात्रों एवं शिक्षकों को नई शिक्षा नीति का ब्रांड एंबेसडर बताया और उनसे इस नीति के लिए कार्य योजना बनाने का आग्रह किया। उन्होनें कहा, “इस नीति के लिए न केवल कार्य योजना बनानी है बल्कि उसे समयबद्ध कर किस प्रकार क्रियान्वित किया जा सकता है, इस पर भी काम करने की जरूरत है। हम विश्वविद्यालय, संस्थानों की स्वायत्त्ता, उनके प्रशासन, उनके सशक्तिकरण और विकेंद्रीकरण के लिए प्रतिबद्ध हैं।” उन्होनें कहा कि हम इस बात के लिए प्रतिबद्ध हैं कि भारत 'ज्ञान महाशक्ति' के रूप में उभरे और उसके लिए जरूरी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास' को हम बिना पूर्वाग्रह के अपनाये तथा 'टीम इंडिया' के रूप में 'इंडिया फर्स्ट' की सोच के साथ आगे बढ़कर अपना योगदान दें। डॉ. निशंक ने सभी कुलपतियों, संस्थाओं, शिक्षाविदों एवं नागरिक समाज से जुड़े सभी लोगों से आग्रह किया कि वे इस नीति के कार्यान्वयन पर बिना किसी संकोच और पूर्वाग्रह के अपने सुझाव दें क्योंकि यह देश की नीति है जिसमें सबका हित निहित है। जिस प्रकार का विस्तृत विमर्श, मंथन और चिंतन नीति के प्रथम चरण में मिला वैसी ही समावेशी सोच के साथ क्रियान्वयन में भी हमें सबका साथ, सबका विश्वास मिलेगा। एमिटी इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित इस वर्चुअल सम्मेलन यूजीसी के अध्यक्ष प्रो. डी.पी. सिंह, गोविंद बल्लभ पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. तेज प्रताप, यूजीसी के उपाध्यक्ष डॉ. भूषण पटवर्धन, एमिटी के संस्थापक अध्यक्ष डॉ. अशोक कुमार चौहान, एमिटी के कुलाधिपति डॉ अतुल कुमार चौहान, कुलपति प्रो. बलविंदर शुक्ला के साथ साथ देश-विदेश के हजारों शिक्षार्थी, व्यवसायी और शोधार्थी भी जुड़े। 

कोई टिप्पणी नहीं: