मुख्यमंत्री का काफिला इस एलिवेटेड सड़क पुल से होकर दीघा की ओर कूच कर गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 नवंबर 2020

मुख्यमंत्री का काफिला इस एलिवेटेड सड़क पुल से होकर दीघा की ओर कूच कर गया

nitish-inaugrate-aiims-elevator
पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को 12 बजकर 30 मिनट पर बहुप्रतीक्षित दीघा-एम्स एलिवेटेड रोड का फीता काटकर और रिमोट से उद्घाटन किया। जमीन से 80 फीट ऊंचाई पर निर्मित बिहार के सबसे लम्बे एलिवेटेड सड़क पुल पर रोमांचक सफर के लिए अब वाहन फर्राटा भरेंगे। उत्तर बिहार को दक्षिण बिहार से जोड़ने वाली दीघा-सोनपुर पुल के पास जाकर मिलने वाली इस अति महत्वाकांक्षी परियोजना के उद्घाटन समारोह में सीएम नीतीश कुमार के साथ ही उपमुख्यमंत्री तारकेश्वर प्रसाद व रेणु देवी एवं पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडे, सांसद रामकृपाल यादव समेत पूरा प्रशानिक अमला के साथ मुख्यमंत्री का काफिला इस एलिवेटेड सड़क पुल से होकर दीघा की ओर कूच कर गया। उद्घटान के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा की एम्स-दीघा एलिवेटेड कॉरिडोर निर्माण का उदेश्य पटना स्थित एम्स हॉस्पिटल को बिहार राज्य के सुदूर क्षेत्रों एवं उत्तर बिहार को दक्षिण बिहार से द्रुत गति सम्पर्कता प्रदान करने हेतु किया गया है। इसके निर्माण के लिए उन्होंने सात वर्ष पहले जो सपना देखा था, आज उसे पूरा कर एम्स पटना आने वाले मरीजों के लिए वरदान का रूप दिया है। साथ ही पटना से उत्तर बिहार आने जाने वालों और दक्षिण क्षेत्र से गंगा पार आने जाने वालों को काफी सहूलियत और कम समय मे आवागमन हो सकेगा। सीएम ने कहा कि हमारा सपना था कि बड़े शहरों की तरह पटना में भी पुल के ऊपर पुल का रोमांचक सफर हो, जिसे आज पूरा कर जनता को समर्पित किया गया। यह परियोजना बिहार में इस प्रकार की पहली एलिवेटेड परियोजना है। इस परियोजना में सोन नहर ( खगौल-दीघा नहर ) के ऊपर 8.45 किमी की 4 लेन एलिवेटेड रोड एवं इसके पहुँच पथ में 2 लेन एवं 4 लेन पहुँच पर्थ का निर्माण किया गया है। इस परियोजना का निर्माण बिहार सरकार के उपक्रम बिहार राज्य पथ विकास निगम लि. द्वारा कराया गया है। इस परियोजना में पटना-मुगलसराय रेलखंड ( दानापुर रेलवे स्टेशन के निकट ) के ऊपर एक आरओबी का निर्माण किया गया है, जिसकी लम्बाई 106 मी. है और यह आईओबी हिन्दुस्तान का सबसे लम्बा सिंगल स्पैन ओपन वेब स्टील ग्रीडर आरओबी है। इस एलिवेटेड परियोजना के निर्माण से पटना शहर को जाम से छुटकारा प्रदान करने में काफी मददगार साबित होगी, साथ ही जेपी सेतु से परिचालित होने वाले यातायात को उत्तर बिहार जाने एवं उत्तर बिहार से नौबतपुर, औरंगाबाद इत्यादि जगहों पर जाने में काफी सहुलियत प्रदान करेगी।


गौरतलब है कि देश के सबसे बड़ी दीघा-एम्स एलिवेटेड सड़क परियोजना नवंबर 2013 में शुरू हुई थी। इसका शिलान्यास सीएम नीतीश कुमार ने ही वाल्मी कैम्पस में आयोजित एक भव्य समारोह में किया था। एनएच 98 के एम्स गोलंबर से शुरू होकर जेपी सेतु के दक्षिणी छोर तक बने इस सड़क की कुल लंबाई 12.7 किलो किलोमीटर है। परियोजना के तहत शहर पर 8.45 किलोमीटर में फोरलेन एलिवेटेड रोड का निर्माण किया गया है जबकि इसके 3.75 किलोमीटर पहुंच पथ में दो व चार लेन सड़क का निर्माण किया गया है। इस नई सरकार में यह पहली परियोजना है, जिसका उद्घाटन सीएम नीतीश कुमार ने किया है। एनडीए की सरकार आने के बाद राजधानी के लोगों को सीएम नीतीश कुमार की पहली सौगत आज मिल गई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार यानी आज बिहार के सबसे लंबे एम्स-दीघा एलिवेटेड पथ का उद्घाटन किया। इसके साथ ही इस पथ पर वाहनों का आवागमन शुरू हो गया। आवागमन शुरू होते ही पुल से गुजरने का सिलसिला भी शुरू हो गया। पुल पर आई छात्रा संध्या कुमारी ने कहा कि बिहार के लोगों को बड़ी सौगात मिली है। पुल बनने से राजधानी में जो जाम लगते हैं उससे सबसे पहले निजात मिलेगी। सबसे ज्यादा मरीजों को सुविधा होगी जो गंगा पार से आते थे। वो जल्द ही एम्स पहुंच जाएंगे। इसके अलावा छात्रों को भी सुविधा होगी। वहीं छात्रा के साथ आई साधना देवी ने कहा कि नीतीश कुमार बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और उनकी सरकार में बिहार में विकास हो रहा है।  महिलओं ने बातचीत के दौरान पुल के फायदे के साथ-साथ मुख्यमंत्री के कार्यकाल की भी सराहना की।  बता दें कि आज यानी सोमवार को एम्स-दीघा ऐलिवेटेड पुल का उद्घाटन किया। इस पुल पर सफर करने में महज 8 मिनट का समय लगेगा और 12.5 किलोमीटर का सफर खत्म हो जाएगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस पुल के उद्धाटन से राजधानीवासियों का चिर-प्रतीक्षित सपना पूरा हो गया। यह राज्य की जनता के लिए नई सरकार का पहला उपहार है।  इसके शुरू होने से जेपी सेतु के तरफ जाने वाले वाहनों को उत्तर बिहार जाने में सहूलियत होगी। वहीं उत्तर बिहार से पटना, बिहटा, एम्स या अरवल, औरंगाबाद जाने के लिए आसानी हो जाएगी। इससे पटना सहित उत्तर बिहार की यात्रा सुगम होगी। उत्तर बिहार के लोगों को दक्षिण बिहार और एम्स पहुंचने में ज्यादा लंबी दूरी तय नहीं करनी होगी।  वहीं, बिहार राज्य पथ विकास निगम (बीएसआरडीसी) के एमडी संजय अग्रवाल ने बताया कि यह बिहार का सबसे लम्बा ऐलिवेटेड पथ होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: