इस बार ननकाना साहिब जाने वाला सिख जत्था छोटा होगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 20 नवंबर 2020

इस बार ननकाना साहिब जाने वाला सिख जत्था छोटा होगा

small-team-for-nankana-saheb
नयी दिल्ली 19 नवंबर, सिखों के प्रथम गुरू नानक देव की 551 वें प्रकाश पर्व पर भारत से पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब के लिए इस बार कोविड महामारी के कारण सिखों का छोटा जत्था जाएगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने यहां संवाददाताओं को बताया कि भारत एवं पाकिस्तान के बीच 1974 के धार्मिक यात्राओं के द्विपक्षीय प्रोटाेकॉल के तहत इस साल 27 नवंबर से एक दिसंबर के बीच सिखों का एक जत्था ननकाना साहिब के लिए जाएगा। जत्था कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन करेगा और इस बार यह जत्था छोटा होगा। करतारपुर साहिब की यात्रा के बारे में पूछे जाने पर प्रवक्ता ने कहा कि इस बारे में गृह मंत्रालय संबंधित विभागों के साथ बातचीत कर रहा है। जैसे ही निर्णय होगा, उसकी जानकारी दी जाएगी। पाकिस्तानी फौज द्वारा जम्मू कश्मीर में स्थानीय निकाय के चुनावों के पहले संघर्ष विराम के उल्लंघन की घटनाओं के बारे में एक सवाल के जवाब में श्री श्रीवास्तव ने कहा कि बार बार संयम बरतने की अपील के बावजूद पाकिस्तानी सेना घुसपैठियों को कवर फायर देने में लगी है। यह घुसपैठ जम्मू कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ाने के लिए करायी जा रही है। पाकिस्तानी सेना की शह के बिना यह संभव नहीं है। गत 13 नवंबर को नियंत्रण रेखा पर कई जगहों पर एक साथ अंधाधुंध फायरिंग को लेकर पाकिस्तान उच्चायोग के प्रभारी को विदेश मंत्रालय ने 14 नवंबर को तलब करके फटकार भी लगायी थी। उस फायरिंग में चार नागरिक मारे गये थे और 19 अन्य घायल हो गये थे। प्रवक्ता ने कहा कि भारत पाकिस्तान के सीमापार से आतंकवादियों की घुसपैठ कराने का कड़ा विरोध करता है। पाकिस्तान को फिर आगाह किया जाता है कि वह अपने द्विपक्षीय वायदे को निभाये और अपने नियंत्रण वाले इलाके से भारत के विरुद्ध किसी भी प्रकार से आतंकवाद की अनुमति नहीं दे। 

कोई टिप्पणी नहीं: