साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में 200 फिल्मों की आधिकारिक प्रविष्ठि - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 दिसंबर 2020

साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में 200 फिल्मों की आधिकारिक प्रविष्ठि

200-film-in-cinecine-award
साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल के प्रथम सत्र 2020 में दुनियाँ के कोने-कोने से लगभग 200 फिल्मों की आधिकारिक प्रविष्ठि हुई । जिसमें अलग-अलग भारतीय भाषाओं की फ़ीचर फिल्में और हिंदी फ़ीचर फिल्में शामिल है, इस तरह साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में लगभग 60 फ़ीचर फिल्मों की आधिकारिक प्रविष्ठि हुई जिनमें से स्क्रीनिंग के लिए लगभग 20 फिल्मों का आधिकारिक चयन हुआ है । प्रथम सत्र के लिहाज से देखा जाए तो साइनसिने की ये शानदार उपलब्धि है, इतना ही नहीं साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल में दुनियाँ के कोने-कोने से आए शार्ट फिल्मों की संख्या लगभग 140 है जिसमे से लगभग 60 फिल्मों का स्क्रीनिंग के लिए आधिकारिक रूप से चयन किया गया है साथ ही इस फेस्टिवल में लगभग 20 डॉक्यूमेंट्री फिल्मों की भी आधिकारिक प्रविष्ठि हुई जिसमें से लगभग 10 फिल्मों का स्क्रीनिंग के लिए आधिकारिक रूप से चयन किया गया, जिसकी आधिकारिक घोषणा आज मंगलवार 16 दिसम्बर 2020 को की गई । कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच प्रथम सत्र में दुनियाँ के कोने-कोने से इतनी ज्यादा संख्या में फिल्मों की प्रविष्ठि और आंतरिक टीम द्वारा इतनी ज्यादा संख्या में फिल्मों का प्रदर्शन करना एक अतुलनीय कार्य है । जिस तरह पूरी दुनियाँ के फिल्मकारों ने इस वैश्विक महामारी के बीच अपने-अपने फिल्मों की प्रविष्ठि कराई है, उसे देखते हुए लगता है कि साइनसिने फिल्म फेस्टिवल का बहुत ही भव्य आयोजन होगा । लेकिन इस वैश्विक महामारी के बीच साइनसिने के आयोजकों के लिए फेस्टिवल का आयोजन एक चुनौती भरा कार्य है मगर साइनसिने फ़िल्म फेस्टिवल के कोर टीम की कार्य कुशलता और लगन को देखते हुए लगता है कि फेस्टिवल का आयोजन शांतिपूर्ण और भव्य आयोजन होगा ! दुनियाँ के उन सभी फिल्मकारों का फिल्मों के प्रति अगाध प्रेम झलकता है जिन्होंने इतना बढ़-चढ़ कर इस महामारी के बीच फेस्टिवल में हिस्सा लिया । इस अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल में जिन फिल्मकारों के फिल्मों का चयन नहीं हुआ उनके लिए भी मेरी शुभकामनाऐं हैं कि वे पूरी लगन से अपने कार्य में लगे रहें और आगे  ईश्वर उन्हें सफलता दिलाए ।

कोई टिप्पणी नहीं: