कोरोना संक्रमितों में 63 प्रतिशत पुरुष - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

कोरोना संक्रमितों में 63 प्रतिशत पुरुष

63-percent-covid-effected-male
नयी दिल्ली 29 दिसंबर, देश में कोरोना वायरस कोविड-19 से अब तक संक्रमित हुए एक करोड़ से अधिक व्यक्तियों में से 63 प्रतिशत पुरूष हैं और मात्र 37 प्रतिशत महिलाएं हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की नियमित साप्ताहिक प्रेस वार्ता में मंगलवार को स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने जानकारी दी कि देश में कोरोना संक्रमण के शिकार हुए 1,02,24,303 व्यक्तियों में से 63 प्रतिशत पुरूष हैं और 37 प्रतिशत महिलाएं हैं। श्री भूषण ने कहा कि अगर कोरोना संक्रमण के मामलों को आयुवर्ग के आधार पर देखा जाये तो 17 वर्ष से कम आयु के लोगों में संक्रमण के मामले आठ प्रतिशत, 18 से 25 वर्ष के आयुवर्ग में 13 प्रतिशत, 26 से 44 वर्ष के आयुवर्ग में 39 प्रतिशत , 45 से 60 वर्ष के आयुवर्ग में 26 प्रतिशत तथा 60 साल से अधिक के आयुवर्ग में 14 प्रतिशत हुए हैं। उन्होंने कहा कि 18 से 25 और 25 से 44 आयुवर्ग के व्यक्ति काम के कारण बाहर निकलते हैं और इसी वजह से 52 प्रतिशत संक्रमण के मामले 18 से 44 वर्ष के आयुवर्ग के हैं। स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण होने वाली मृत्यु की स्थिति संक्रमण के मामलों से भिन्न हैं। लिंग के आधार पर कोरोना संक्रमण के कारण जान गंवाने वालों में 70 प्रतिशत पुरुष और 30 प्रतिशत महिलाएं थीं। उन्होंने बताया कि आयुवर्ग के आधार पर अगर मृत्यु के आंकड़ों को देखा जाये तो 17 साल से कम के आयुवर्ग में कोरोना संक्रमण के कारण मौत के मामले एक प्रतिशत, 18 से 25 साल के आयुवर्ग में एक प्रतिशत, 26 से 44 वर्ष के आयुवर्ग में 10 प्रतिशत, 45 से 60 वर्ष के आयुवर्ग में 33 प्रतिशत तथा 60 से अधिक वर्ष के आयुवर्ग में 55 प्रतिशत रहे। श्री भूषण ने कहा कि 18 से 44 साल के आयुवर्ग में भले ही संक्रमण के मामले अधिक पाये गये लेकिन इस आयुवर्ग में संक्रमण के कारण मौत के मामले अपेक्षाकृत काफी कम हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: