धर्म के लिए परिश्रम करने की जरूरत है : मोहन भागवत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

धर्म के लिए परिश्रम करने की जरूरत है : मोहन भागवत

need-hard-work-for-relegion
कोझिकोड 29 दिसंबर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा है कि ‘केसरी’ का उद्देश्य धर्म के मार्ग की स्थापना करना है, विजय मिलना या न मिलना मायने नहीं रखता है। डॉ. भागवत ने कहा कि सभी कठिनाइयों के बावजूद हमें अपने लक्ष्य, साथी तथा धर्म के लिए प्रयास करते रहना चाहिए। उन्होंने मंगलवार को कोझिकोड के नजदीक चलपपुरम के सरी मीडिया अध्ययन एवं अनुसंधान केंद्र का उद्घाटन करते हुए कि ‘केसरी’ पत्रिका के भारत के उत्थान पर केंद्रित कुछ विचार रखें। डॉ. भागवत ने कहा कि नयी पीढ़ी को उस संघर्ष को याद रखना चाहिए, जिसके माध्यम से संगठन पिछले 70 वर्षों के दौरान आगे बढ़ा है। उन्होंने कहा कि एक समय था जब सत्य को प्रकाशित करने के लिए अनुमति लेने की जरूरत पड़ती थी लेकिन सच्चाई में विश्वास और कड़ी मेहनत करने से सच्चाई की जीत होगी और आज ऐसा ही हुआ है। उन्होंने कहा कि केरल का मीडिया देश के दूसरों राज्यों की घटनाओं पर ध्यान देता है, लेकिन राज्य की घटनाओं को उजागर करने में बुरी तरह से विफल साबित होता है। 

कोई टिप्पणी नहीं: