बिहार : दो में से एक को जरूर ही मुख्यमंत्री बनाएं मंत्री : संदीप चित्रांश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 6 दिसंबर 2020

बिहार : दो में से एक को जरूर ही मुख्यमंत्री बनाएं मंत्री : संदीप चित्रांश

demand-one-minister-from-betiya
बेतिया. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पश्चिम चम्पारण जिला भाता है.जब भी वे यात्रा पर निकलते हैं तो इसी जिले से शुरूआत करते हैं.तभी तो उन्होंने  भीष्म सहनी को विधान परिषद में भेजने का काम किया.अति पिछड़ा समुदाय के जदयू के विधान पार्षद हैं श्री भीष्म सहनी.इनके साथ बिहार स्टेट शूटिंग चैंपियनशीप के रजत पदक विजेता वाल्मीकिनगर के माननीय विधायक श्री धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ रिंकू सिंह को एनडीए सरकार के द्वितीय मंत्रिमंडल विस्तार में  जदयू कार्यकर्ताओं ने मजबूती से जगह देने की मांग कर रहे हैं.जदयू कार्यकर्ताओं का कहना हैं कि अगर दोनों को एक साथ मंत्री बनाना संभव न हो सही तो कम से कम सामाजिक समीकरण के हिसाब से किसी एक को भी मंत्री बनाकर माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी जदयू को चम्पारण में मजबूत करने का काम करेंगे. जदयू कार्यकर्ताओं का कहना है कि बगहा पुलिस जिले के अंतर्गत आने वाली सभी तीन विधान सभाओं में एनडीए के प्रत्याशियों सहित लोकसभा उपचुनाव में भी जदयू प्रत्याशी की जीत होने से इस जिला इकाई का हक तो बनता ही है. मतलब यह है कि यहाँ की जीत का प्रतिशत सौ फीसदी है.पश्चिम चम्पारण जिले में भाजपा से उपमुख्यमंत्री तो बगहा संगठन जिले से जदयू का एक मंत्री होना न्यायसंगत है. बाकी यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है, वह जो उचित समझें. हम सभी कार्यकर्ता उनके हर निर्णय का स्वागत करेंगे.


बता दें कि बगहा के रतनमाला निवासी भीष्म साहनी जदयू के एक मजबूत कार्यकर्ता हैं. समता पार्टी के समय से ही नेता और दल से जुड़े हैं.2015 विधानसभा चुनाव में जदयू के टिकट पर बगहा से चुनाव लड़ा था और 7100 वोट से हार गए थे.प्रदेश संगठन सचिव समेत कई जिलों के संगठन प्रभारी रहे हैं.अभी मोतिहारी जिले का संगठन देख रहे हैं. उन्होंने अपने चयन पर कहा कि जदयू के जमीनी कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर है माननीय नीतीश कुमार अति पिछड़ों, वंचितों और जमीनी कार्यकर्ताओं की चिंता करते हैं. वहीं विधायक श्री धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ रिंकू सिंह दूसरी बार बिहार विधानसभा सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण किया है. उन्होंने सभी क्षेत्रवासियों के प्रति आभार व्यक्त किये हैं, क्योंकि उन्होंने मुझ पर लगातार दूसरी बार विश्वास कर विधानसभा में भेजने का काम किया.सभी क्षेत्रवासियों को विश्वास दिलाया कि जिस प्रकार आज तक वाल्मीकिनगर विधानसभा एवं क्षेत्र की जनता के विकास के लिए तत्परता से काम करता आया हूँ एवं जिस आशा और उम्मीद से उन्होंने मुझे एक बार फिर से विधानसभा भेजा है मैं उनके उम्मीदों पर खरा उतरूंगा.अंतिम कड़ी में उन्होंने कहा कि वाल्मीकिनगर विधानसभा की प्रत्येक जनता की समस्या का समाधान ही हमारा उद्देश्य है.


बता दें कि 30 वीं बिहार स्टेट शूटिंग चैंपियनशीप 2019 के दो दिवसीय प्रतियोगिता में वाल्मीकिनगर के विधायक धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ रिंकू सिंह को रजत पदक मिला.इसको लेकर जिलेवासियों में खुशी की लहर दौड़ गई.प्रतियोगिता में सफलता हासिल करने के बाद बेतिया लौटे विधायक का भव्य स्वागत किया गया.जबकि इस प्रतियोगिता में जिले के 9 प्रतिभागियों ने भाग लिया.इसकी जानकारी देते हुए बेतिया राईफल क्लब के कार्यवाहक सचिव सैयद शब्बर अली उर्फ सैयद गुड्डु ने बताया कि विधायक धीरेंद्र प्रताप सिंह को वेटरेन राईफल प्रतियोगिता में रजत पदक प्राप्त हुआ.इन्होंने 50 मीटर ओपेन प्रोन राईफल में भाग लिया. इसके अलावे अन्य प्रतिभागियों में अमीत कुमार जायसवाल, शाहबाज जमील, अभिषेक कुमार, कुलदीप अरोड़ा, रंदिप सिंह, सैयद गुजार मेंहदी, एवं मोहम्मद इस्तेयाकुल ने हिस्सा लिया.विधायक रिंकू सिंह को रजत पदक पहनाकर सम्मानित किया गया. संदीप चित्रांश ने कहा है कि भाजपा से अति पिछड़े कोटे से उप मुख्यमंत्री है, तो जदयू के सवर्ण कोटे से माननीय विधायक रिंकू सिंह जी का मंत्री बनाना लगभग तय है.संजय कुमार यादव ने कहा कि वह शत प्रतिशत सही है. लेकिन विधानसभा में सीट 43 होने से मंत्रिमंडल का समीकरण जो बन रहा है उस हिसाब से असंभव लग रहा है.जदयू के खाते में 9 मंत्री पद आ रहा है.इसलिए मंत्रिमंडल विस्तार में भी जगह बहुत सारे वरिष्ठ नेताओं का नहीं बन रहा है. किसी आयोग के अध्यक्ष बन सकते हैं लेकिन मंत्री पद मिलना मुश्किल लग रहा है. हां में हां मिलाकर मनोज पटेल कहते हैं कि प.चम्पारण को उपमुख्यमंत्री का पद प्राप्त होने के कारण मंत्री पद मिलना मुश्किल प्रतीत होता है.पवन कुमार सिंह ने कहा कि सहनी समाज का बहुत अधिक वोट सुनील जी को नहीं मिला जबकि सहनी को सरकार  MLC  दिया.थारू समाज में गुस्सा है टिकट या मंत्री मंडल में जगह नहीं मिलने का जो आपना ताकत दिखा दिया. कुमी समाज को छोड़ लगभग सभी जातियों में नीतीश जी के प्रति नफरत बढ़ रहा है,कुछ नया करें.

कोई टिप्पणी नहीं: