कोहली के कप्तानी में अब भी सुधार की जरूरत : लक्ष्मण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 दिसंबर 2020

कोहली के कप्तानी में अब भी सुधार की जरूरत : लक्ष्मण

kohli-need-improvement-laxman
नयी दिल्ली, 16 दिसंबर, पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण का मानना है कि विराट कोहली अपने साथियों के लिये आदर्श ‘रोल मॉडल’ हैं लेकिन उनकी कप्तानी में अब भी सुधार की गुंजाइश है। लक्ष्मण ने कहा कि जहां तक अपने कार्य के प्रति समर्पण की बात है तो कोहली ने उदाहरण बनकर नेतृत्व किया है लेकिन वह क्षेत्ररक्षण सजाने में थोड़ा रक्षात्मक रहते हैं और इसके अलावा टीम में भी लगातार बदलाव करते रहते हैं। लक्ष्मण ने स्टार स्पोर्ट्स के कार्य ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ में कहा, ‘‘मैं पहले भी कई बार कह चुका हूं कि जब वह मैदान पर होते हैं तो पूरी तरह खेल में डूब जाते हैं और उनके हाव भाव से भी इसका पता चलता है फिर चाहे वह बल्लेबाजी हो या क्षेत्ररक्षण। वह उदाहरण बनकर नेतृत्व करते हैं और इससे अन्य खिलाड़ियों पर भी बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ’’उन्होंने कहा, ‘‘इससे उनके सभी साथी प्रेरित होते हैं और इसलिए वह कप्तान के तौर पर आदर्श ‘रोल मॉडल’ हैं। जहां तक कप्तानी की बात है तो उसमें अब भी कुछ सुधार की जरूरत है। मेरा मानना है कि विराट कोहली सुधार कर सकते हैं। ’’लक्ष्मण ने कहा कि कोहली के कप्तान बनने के बाद लगातार प्रयोग किये गये हैं जिससे खिलाड़ियों में असुरक्षा की भावना पैदा होती है। कोहली ने 2014 में टेस्ट कप्तानी संभाली थी और 2017 से वह सीमित ओवरों की टीम के भी कप्तान है। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ अवसरों पर मुझे लगता है कि वह थोड़ा रक्षात्मक हो जाता है विशेषकर क्षेत्ररक्षण सजाने में।’’लक्ष्मण ने कहा, ‘‘ दूसरी चीज अंतिम एकादश में लगातार बदलाव करना है। अपने अनुभव से मैं कह सकता हूं कि कोई भी खिलाड़ी चाहे वह नया हो या अनुभवी वह स्थिरता, सुरक्षा चाहता है जिससे वह टीम के लिये सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर ध्यान दे सके। इस क्षेत्र में विराट को निश्चित तौर पर सुधार करने की जरूरत है। ’’

कोई टिप्पणी नहीं: