कोविड काल में रेलवे ने खुद को दशकों के लिए तैयार किया : गोयल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

कोविड काल में रेलवे ने खुद को दशकों के लिए तैयार किया : गोयल

railway-preapare-self-in-covid-era-goyal
नयी दिल्ली 31 दिसंबर, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने गुरूवार को कहा कि भारतीय रेलवे चुनौतियों के वर्ष 2020 को अवसर में बदलने में कामयाब रही और यात्रियों, अर्थव्यवस्था, कारोबार, उद्योगों को संतुष्ट करके खुद को आने वाले दशकों की जरूरतों के लिए तैयार किया। श्री गोयल ने भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) की टिकटिंग वेबसाइट के नये आधुनिक एवं यूजर फ्रेंडली संस्करण के लोकार्पण के मौके पर ये बात कही। रेल भवन में आयोजित एक संक्षिप्त समारोह में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनोद कुमार यादव, रेलवे बोर्ड में सदस्य (कारोबार विकास) पी एस मिश्रा और आईआरसीटीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक एम पी मल्ल मौजूद थे। क्रिस ने कृत्रिम मेधा एवं अन्य आधुनिक तकनीक के साथ वेबसाइट को इस प्रकार से विकसित किया है जिससे कन्फर्म टिकट के विकल्प खोजने और बुकिंग करने में कम समय लगे। वेबसाइट एक जनवरी 2021 से लोगों के लिए उपलब्ध होगी। रेल मंत्री ने कहा कि वर्ष 2020 चुनौतियों का वर्ष था। रेलवे के समक्ष यात्रियों की सेवा एवं देश की व्यवस्था को बनाये रखने की दोहरी चुनाैती थी। भारतीय रेलवे ने अपने साढ़े बारह लाख कर्मियों के साथ इस चुनौती को अवसर में बदला। श्रमिक स्पेशल गाड़ियों और पार्सल एवं मालगाड़ियों के तत्परता से परिचालन किया। लाखों श्रमिकों को गंतव्य तक पहुंचाया और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बरकरार रखी। देश की जनता, उद्योग व्यापार एवं आर्थिक जगत को संतुष्ट किया और आधारभूत ढांचे को तेजी से उन्नत करके रेलवे को आने वाले दशकों के लिए तैयार किया। श्री गोयल ने आशा व्यक्त किया कि अगला वर्ष अच्छा और समृद्धि भरा होगा। भारतीय रेलवे देश की जनता के जीवन को आसान बनाने में योगदान कर रही है। भारतीय रेलवे ने किसान, मजदूर, छोटे उद्योगों आदि तकरीबन क्षेत्र के लिए कोविड काल में समस्याओं से आगे बढ़ कर आत्मनिर्भरता हासिल करने की संभावनाओं को खोला है। इससे पहले श्री यादव ने कहा कि कोविड काल के पहले इलैक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म पर टिकट बुकिंग 73 प्रतिशत होती थी जो कोविड काल में 83 प्रतिशत हो गयी। आने वाले दिनों में यह अनुपात बढ़ेगा। इसलिए वेबसाइट की क्षमता एवं यात्रियों की सुविधा बढ़ाने की जरूरत हो गयी थी। इसलिए क्रिस ने सभी पक्षकारों की जरूरतों एवं तकनीकी विशेषज्ञाें के परामर्श से इस वेबसाइट का नया संस्करण तैयार किया है। 

कोई टिप्पणी नहीं: