रजनीकांत ने राजनीतिक पदार्पण का इरादा बदला - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

रजनीकांत ने राजनीतिक पदार्पण का इरादा बदला

rajinikanth-not-entering-politics
बेंगलुरु, 29 दिसंबर, तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने राजनीतिक दल की स्थापना से मंगलवार को पीछे हटने का फैसला लिया है, जिसका उनके बड़े भाई सत्यनाराणय राव समर्थन किया है। राव (77) ने कहा कि यह उनके भाई की इच्छा है और कोई उन्हें फैसला बदलने को मजबूर नहीं कर सकता। राव ने रजनीकांत के राजनीतिक पदार्पण से जुड़ी लोगों की 'बहुत सारी उम्मीदों' के बारे में बताते हुए 'पीटीआई-भाषा' से कहा, 'हम भी यही चाहते थे (कि वह पार्टी की स्थापना करेंगे)। उन्होंने (रजनीकांत ने) स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया है। लिहाजा हम उन्हें मजबूर नहीं कर सकते। यह (पार्टी की स्थापना नहीं करना) उनकी इच्छा है। वह जो भी फैसला लेंगे, बिल्कुल सही होगा।' राव ने कहा कि उन्होंने सोमवार को रजनीकांत से बात कर उनका हालचाल जाना है। इस महीने की शुरुआत में रजनीकांत अपने भाई के पास बेंगलुरु आए थे, जहां उनकी परवरिश हुई है। 70 वर्षीय अभिनेता ने अपने भाई का आशीर्वाद लिया था। भाई ने उनके अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु की कामना की थी। राव ने शहर में बीते रजनीकांत के बचपन को याद किया था। यहीं पर उनका जन्म हुआ था और वह 22 साल की उम्र तक यहीं रहे तथा बाद में चेन्नई चले गए। राव ने कहा, 'उनपर (रजनीकांत) गुरुकृपा है। ' रजनीकांत ने मंगलवार को घोषणा की कि उन्होंने स्वास्थ्य कारणों के चलते राजनीति में पदार्पण करने और पार्टी बनाने का इरादा बदल दिया है। रजनीकांत को रक्तचाप संबंधी परेशानी का इलाज कराने के बाद रविवार को हैदराबाद के एक अस्पताल से छुट्टी दी गई थी।

कोई टिप्पणी नहीं: