बिहार : शिक्षा मंत्री की फटकार, नहीं खुलेंगे स्कूल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 17 दिसंबर 2020

बिहार : शिक्षा मंत्री की फटकार, नहीं खुलेंगे स्कूल

school-will-not-open-in-bihar
पटना : बिहार में प्राइवेट और सरकारी स्कूल फ़िलहाल खुलने वाले नहीं हैं। शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने प्राइवेट स्कूल संचालकों के मांगों को ठुकरा दिया है। इसके अलावा उन्होंने सरकार से मुआवजा मांग रहे हैं प्राइवेट स्कूल संचालकों को जमकर फटकार लगाई। अशोक चौधरी ने कहा कि कोरोना का नेचर बदल रहा है।अभी दिल्ली में पहले कोरोना संक्रमण कुछ कम हुआ और फिर उसके मामले तेजी से बढ गये। अगर ऐसे में सरकार स्कूलों में बच्चों को आने की इजाजत दे दे और कुछ हुआ तो सरकार ही जिम्मेवार मानी जायेगी। सरकार बच्चों की जान के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकती। लिहाजा अभी स्कूलों को खोलने की इजाजत नहीं दी जा सकती। इसके आगे उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों वाले सरकार से पैसे की मांग कैसे कर सकते हैं क्या उन्होंने जब पैसे कमाए थे तो सरकार को उसका मुनाफा अधिक दिए थे। दरसअल प्राइवेट स्कूलों के संचालकों ने सरकार से आर्थिक मदद की मांग की है। उनका कहना है कि कोरोना के कारण स्कूलों को काफी क्षति हुई है इसलिए सरकार को प्राइवेट स्कूलों को पैसा देना चाहिये। इसके अलावा उन्होंने कहा कि सरकार बहुत जल्द क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक करेगी, उसमें ये देखा जायेगा कि समस्याओं को कैसे शॉर्टआउट किया जा सकता है। इसके आगे उन्होंने कहा कि बिहार में शिक्षा व्यवस्था कैसे पटरी पर आये सरकार इस पर काम करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्राइवेट स्कूल का एक एक्ट बनाया है। इसका मकसद ये है कि निजी स्कूलों में एक पारदर्शी व्यवस्था हो सके।

कोई टिप्पणी नहीं: