सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 15 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 15 दिसंबर 2020

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 15 दिसंबर

कन्फेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के तत्वाधान में सौंपा ज्ञापन

ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा एफडीआई नीति और अन्य कानूनों का उल्लंघन

sehore news
सीहोर। मंगलवार को कन्फेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के तत्वाधान में अनेक व्यापारियों और क्षेत्रवासियों ने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम कार्यालय में पहुंचकर नायाब तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर कन्फेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) अध्यक्ष समाजसेवी पंकज गुप्ता ने बाया कि देश के ई कॉमर्स व्यापार में अनुचित व्यापारिक वातावरण को बढ़ावा देने के लिए बैंकों और अमेजन और फ्लिपकार्ट के बीच एक कार्टेल बनाने का भी आरोप लगाया है। इस तरह की सांठगांठ भारत में छोटे व्यवसायों के लिए मौत की घंटी साबित हो रही है। श्री गुप्ता के साथ पहुंचे व्यापारियों का कहना है कि लोकल पर वोकल और आत्मनिर्भर भारत अभियान को सुदृढ़ डिजिटल इंडिया तेजी से अपनाने के लिए आपके आह्वान  के मद्देनजर देश भर के व्यापारियों ने कन्फेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के देशव्यापी अभियान के अंतर्गत डिजिटल कॉमर्स को उत्साहपूर्वक अपनाया है। हालाँकि, हमें यह बताते हुए अत्यंत पीड़ा हो रही है की बड़ी विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों  ने अपने असीमित संसाधनों के बल पर सरकार की एफडीआई नीति और सम्बंधित कानूनों, नियमो का निरंतर उल्लंघन करते हुए भारत के ई-कॉमर्स व्यवसाय और करोड़ों व्यापारियों द्वारा खुदरा व्यापार करते हुए अपनी रोजी रोटी कमाने को बर्बाद करने तथा देश के रिटेल व्यापार पर अपना  एकाधिकार बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है, यह बहुत ही खेदजनक है की उनके खिलाफ कई शिकायतें करने के बावजूद उनके खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है और इसलिए  यह विषय देश भर के छोटे व्यापारी के लिए ऑनलाइन व्यापारिक गतिविधियों से जुडऩे तथा डिजिटल कॉमर्स  में आत्मनिर्भर बनने के लक्ष्य में बेहद रूकावट बन गया है। हमारा आपसे अनुरोध है की ऐसी ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए तथा भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय को विनियमित करने और निगरानी करने के लिए एक सशक्त रेगुलेटरी अथॉरिटी  के स्पष्ट प्रावधान के साथ एक ई-कॉमर्स नीति को तुरंत घोषित किया जाए। यह भी अनुरोध है कि एफडीआई नीति के प्रेस नोट 2 की विसंगतियों और असमानताओं को दूर करते हुए और सरकार को एक नवीन एवं स्पष्ट प्रेस नोट जारी किया जाना चाहिए। इस मौके पर बड़ी संख्या में व्यापारी और क्षेत्रवासी शामिल थे। 


पेंशन सुधार और आईपीओ वापस लेने की मांग  एलआईसी अधिकारियों कर्मचारियों ने किया  प्रदर्शन 


sehore news
सीहोर । एलआईसी कार्यालय में अधिकारियों कर्मचारियों विकास अधिकारियों के संयुक्त मोर्चा ने बेहद लंबे समय से लंबित जायज वेतन निर्धारण की मांग को लेकर एवं ओल्ड पेंशन स्कीम सभी कर्मचारियों को देने पारिवारिक पेंशन में सुधार करने एवं भारतीय जीवन बीमा निगम का आईपीओ लाने के खिलाफ आज दोपहर भोजन अवकाश के दौरान जोरदार प्रदर्शन किया गया प्रदर्शन करने वाले साथियों को संबोधित करते हुए शाखा के शाखा प्रबंधक स्वर्ण प्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम ने अपनी सेवाओं से हमेशा देश का दिल जीता है एवं कोविड-19 के दौरान भी अभूतपूर्व प्रदर्शन कर इतिहास रचा है हमने देश की तमाम डूबती हुई संस्थानों को बचाने में अभूतपूर्व योगदान दिया है पंचवर्षीय योजनाओं में भारी-भरकम योगदान देकर जनता की सेवा की है इसलिए हम एक जायज वेतन निर्धारण के हकदार हैं  हम भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा आयोजित हाय का एक मामूली सा हिस्सा ही मांग रहे हैं । लगभग 40 माह पूर्व हो जाने वाले वेतन निर्धारण को 40 माह से प्रबंधन व सरकार ने लटका कर रखा है जो अब हमें कतई मंजूर नहीं हैं हमारा वेतन निर्धारण यथाशीघ्र होना ही चाहिए ।  यूनियन के संयुक्त सचिव राजीव कुमार गुप्ता ने संबोधित करते हुए कहा कि सरकार व प्रबंधन हमारी जायज मांगों को लगातार अनदेखा कर रहा है सरकार व प्रबंधन हमारी मांगों का शीघ्र निराकरण करें उक्त मांगों को लेकर 22 दिसंबर को हम सभी अधिकारी कर्मचारी एवं विकास अधिकारी 2 घंटे की बहिरगमन हड़ताल 22 दिसंबर को करने जा रहे हैं यह संघर्ष का शंखनाद है यदि सरकार जायज वेतन निर्धारण सहित अन्य बेहद न्याय संगत मांगों को पूरा नहीं करती है तो आने वाले समय में और भी भीषण संघर्ष के लिए हम सभी ने कमर कस ली है । आज द्वार प्रदर्शन में अभूतपूर्व गगनभेदी नारे बाजी की गई नारेबाजी करने वालों में प्रमुख रूप से विजय कुमार मांझी रवि कांत कुमरे गौरव वर्मा नितेश अतुलकर के के श्रीवास्तव  राकेश राठौर हेमलता वशिष्ठ जाह्नवी ओथले सुमतलाल उइके संतोष परते योगेंद्र दुबे बृजलाल पटेल गणेश प्रसाद महेश सोनी बहादुर सिंह पौडवाल लक्ष्मीनारायण उमेश कुशवाहा बालमुकुंद मिश्रा रूमाना कुरैशी सहित भारी संख्या में अभिकर्ता साथी मौजूद थे 


दलित विरोधी टिप्पणी को लेकर सासंद प्रज्ञा ठाकुर का सेवादल कांग्रेस अध्यक्ष नरेंद्र खंगराले के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने बस स्टेंड पर फूंका पुतला

sehore news
सीहोर। भोपाल सासंद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के द्वारा विगत दिवस राजपूत  समाज के कार्यक्रम में दलित विरोधी टिप्पणी किए जाने पर प्रदेश में निवासरत दलित समाज  में  सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के प्रति  आका्रेश  बढ़ता  जा  रहा है। इसी को लेकर सेवादल कांग्रेस  जिलाध्यक्ष नरेंद्र खंगराले के नेतृत्व में भारी संख्या में महिला एवं कांग्रेस के आक्रोशित कार्यकर्ताओं के द्वारा बस स्टेंड पर सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर का पुतला जलाते हुए संविधान  निर्माता डॉ अम्बेडकर अगर रहे सोनिया गांधी, राहुल गांधी कमलनाथ, दिग्विजय  सिंह  जिंदाबाद, सासंद प्रज्ञा सिंह ठाकुर मुर्दाबाद के गगन भेदी नारों के साथ सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर का पुतला दहन किया गया। इस अवसर पर सेवादल कांग्रेस जिलाध्यक्ष  श्री खंगराले ने भारत के राष्ट्रपति रामनाथ  से  दलित  समाज पर अभद्र टिप्पणी करने वाली सासंद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को  अनुसुचित जाति जनजाति  अत्याचार अधिनियम की धारा के तहत गिरफतार कर लोकसभा की सदस्यता समाप्त की जाए। इस अवसर पर प्रमुख रूप से जिला कांग्रेस  अध्यक्ष डॉ  बलबीर सिंह तोमर, पूर्व विधायक रमेश सक्सेना,  शेलेंद्र पटेल, कैलाश परमार, गोपाल इंजीनियर,दर्शन सिंह वर्मा,राजेंद्र सिंह ठाकुर, सीताराम भारती, डॉ अनीस खान,भूरा यादव, प्रीतम दयाल चौरसिया, ममता त्रिपाठी,राजाराम बडेभाई, गुलाब बाई ठाकुर,पार्षद आरती नरेंद्र खंगराले, पवन राठौर,विवेक राठौर,रामू चौधरी राजीव गुजराती,रमेश राठौर, देवेंद्र सिंह ठाकुर, ममता कीर,हरभजन सिंह,मांगीलाल टिमरई,पंकज शर्मा, मु़केश ठाकुर, मीरा रेकवार, नीतू सिंह, मीरा  टिमरई, कमल सिेंह सूर्यवंशी, दीपक सोनकर, मना वर्मा   आदि कार्यकर्ता शामिल रहे।  

आज किया जाएगा भगवान गणेश के प्रसंग का वर्णन
भगवान शंकर और पार्वती जी के विवाह का प्रसंग बहुत मंगलकारी-पंडित प्रदीप मिश्रा
sehore news
सीहोर। जिला मुख्यालय के समीपस्थ चितोडिया हेमा स्थित निर्माणाधीन मुरली मनोहर एवं कुबेरेश्वर महादेव मंदिर में जारी सात दिवसीय शिव महापुराण कथा के तीसरे दिन भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा ने भगवान शिव और पार्वती विवाह की कथा सुनाई। संगीत की स्वरलहरियों पर विवाह की जीवंत प्रस्तुति से भक्त भाव विह्वल हो झूम उठे। भगवान शंकर और पार्वती जी के विवाह का प्रसंग बहुत मंगलकारी है। जो इस कथा को सुनता है, उसके मनोरथ पूर्ण होते हैं। मंगलवार को पंडित श्री मिश्रा ने कहकि शिव पुराण में इसकी अति महत्ता बताई गई है। भगवान शंकर बारात के साथ हिमाचल के यहां जाते हैं। हिमाचल उनकी आवभगत करते हैं। बारात तो विलक्षण थी। ऐसी बारात न किसी ने देखी और न देखेंगे। मदमस्त शिव के गण। कोई मुखहीन। कोई विपुल मुख। भस्म लगाए हुए शंकरजी। शंकर जी दूल्हा थे। लेकिन सांसारिक नहीं। वह अविनाशी और प्रलंयकर के रूप में थे। सब कहने लगे, दूल्हा भी कभी ऐसा होता है क्या। गले में सर्पहार। शरीर पर भस्म लपेटे हुए। उनको क्या पता था कि वह दूल्हे के नहीं बल्कि साक्षात शंकर जी के दर्शन कर रहे हैं। तीन दिन तक बारात ने वहां प्रवास किया। अब तो बारात कुछ घंटों की होती है, लेकिन शास्त्रीय परंपरा के अनुसार तब बारात कई दिन ठहरती थी। सारे मंगल कार्य विधि विधान से होते थे। हिमालय ने विवाह के लिए बड़ी धूम-धाम से तैयारियां की। शंकरजी का करोड़ों कामदेवों को लजाने वाला सोलह वर्ष की अवस्था का परम लावण्यमय रूप देखा तो वे देह-गेह की सुधि भूल गईं। शंकर पर अपनी कन्या के साथ ही साथ अपनी आत्मा को भी न्योछावर कर दिया। इस संबंध में जानकारी देते हुए विठलेश सेवा समिति के मीडिया प्रभारी प्रियांशु दीक्षित ने बताया कि बुधवार को भगवान श्री गणेश के प्रसंग का वर्णन किया जाएगा। मंगलवार को जिला मुख्यालय के समीपस्थ चितोडिया हेमा स्थित निर्माणाधीन मुरली मनोहर एवं कुबेरेश्वर महादेव मंदिर में जारी सात दिवसीय शिव महापुराण कथा में भगवान शिव और माता पार्वती के दिव्य विवाह का वर्णन करते हुए कहा कि भगवान शिव का विवाह श्रद्धा और विश्वास का प्रतीक है। 

कोविड-19 वैक्सिन की तैयारियों को लेकर जिला टास्क फोर्स की बैठक संपन्न
  • करीब 5500 स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रथम फेज में लगेगा कोविड-19 टीका
कोविड-19 टीकाकरण को लेकर आज कलेक्टर श्री अजय कुमार गुप्ता की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स की बैठक कलेक्‍ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में कोविड-19 टीके को लेकर विस्तृत कार्ययोजना प्रस्तुत एवं अनुमोदित की गई। प्रथम फेज में कोविड-19 वैक्सीन जिले में कार्यरत स्वास्थ्य विभाग के करीब 5500 स्वास्थ्य कर्मचारियों को लगाई जाएगी। जिला टास्क फोर्स की बैठक में विस्तृत जानकारी प्रस्तुत करते हुए विश्‍व स्वास्थ्य संगठन के राज्य सर्वेलेश  अधिकारी डॉ.एस.एम.जोषी ने जानकारी दी कि एसडीएम की अध्यक्षता में विकासखण्ड स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक कर विकासखण्ड स्तरीय कार्ययोजना तैयार की जाएगी। बैठक में मॉनिटरिंग प्रोसेस, सूक्ष्म कार्ययोजना, संचार कार्ययोजना, कोल्ड चैन तथा लाजिस्कि के संबंध में जरूरी दिशा निर्देश विभागीय अमले को कलेक्टर द्वारा दिए गए। वैक्सीनेशन टीम, अधिकारी/कर्मचारियों का समयबद्ध प्रशिक्षण, सोशल मोबीलाईजेशन, ट्रांसपोर्ट, अंतर विभागीय तथा अंतर सेक्टोरल समन्वय को लेकर भी विस्तार से चर्चा की गईं। कोविड-19 का टीकाकरण तीन फेज में किया जाएगा। प्रथम चरण में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी, द्वित्तीय फेज में भारत सरकार से प्राप्त निर्देशानुसार अन्य विभागीय कर्मचारी तथा तृतीय फेज में 50 वर्ष से उपर के नागरिको को टीकाकरण की कार्ययोजना भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार तैयार की जा रही है। तृतीय चरण के वैक्सीनेशन के लिए हितग्राही को कोविन एप में जानकारी अपलोड करनी होगी इस संबंध में भी विस्तार  जानकारी एसएमओ डॉ.जोशी द्वारा प्रदान की गई। वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर जरूरी दिशा निर्देश कलेक्टर श्री गुप्ता द्वारा स्वास्थ्य विभाग अन्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को दिए गए। जिला टास्क फोर्स की बैठक में श्री हर्ष सिंह मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, श्रीमती गुंचा सनोवर अपर कलेक्टर सीहोर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया, डॉ.आनंद शर्मा सिविल सर्जन, श्री आदित्य जैन एसडीएम सीहोर, डॉ.एम.चंदेल जिला टीकाकरण अधिकारी, श्रीमती सुमन तनेजा प्राचार्य पीजी कॉलेज, एसडीओपी सीहोर, श्री आरके बांगरे प्राचार्य उत्कृष्ट विद्यालय, जिला श्रम पदाधिकारी प्रियंका बंशीवाल, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी  रचना बुधोलिया,सहायक संचालक जनसंपर्क सुश्री अनुभा सिंह,  सहायक संचालक अल्पसंख्यक पिछडा वर्ग विभाग श्री प्रवीण कुमार श्रीवास्तव,डीपीएम श्री धीरेन्द्र आर्य सहित अन्य विभागीय अधिकारी एवं धर्मगुरू बैठक में उपस्थित थे। 

आदतन अपराधी को छह माह के लिए किया जिला बदर

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री अजय गुप्ता द्वारा पुलिस अधीक्षक के प्रतिवेदन से संतुष्ट होकर मध्यप्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम 1990 की धारा 5 के अंतर्गत विजय जाटव पिता कमल सिंह जाटव निवासी ग्राममंझेडा थाना अहमदपुर को 6 माह के लिए जिला बदर किया गया है। विजय जाटव के विरुद्ध लगातार गाली गलौच करने, मारपीट करने, शस्त्र लेकर घूमने, जुआ-सट्टा द्वारा अवैध रूप से धन अर्जित करना जैसे प्रकरण पंजीबद्ध किए गए हैं। विजय जाटव की आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए इसके विरुद्ध समय-समय पर प्रतिबंधात्‍मक कार्रवाई भी की गई फिर भी इसके द्वारा अपनी आदत में कोई सुधार नहीं लाया जा रहा है। विजयजाटव के विरुद्ध निरंतर चोरी, नकाबजनी, लूट जैसी घटनाओं का आदतन अपराधी है। पुलिस अधीक्षक द्वारा दिए गए प्रतिवेदन से संतुष्ट होकर कलेक्टर द्वारा यह कार्रवाई की गई है। विजय जाटव को भोपाल, रायसेन, होशंगाबाद, हरदा, देवास, शाजापुर एवं राजगढ़ जिले की राजस्व सीमाओं से 6 माह के लिए निष्कासित किया गया है। विजय जाटव जहां भी रहेगा वहां के पुलिस अधीक्षक को उस क्षेत्र में उपस्थिति की निरंतर सूचना देता रहेगा यदि उसके विरुद्ध किसी न्यायालय में प्रकरण विचाराधीन हो तो उसकी सुनवाई में भी उपस्थित रहने के लिए पुलिस अधीक्षक सीहोर तथा थाना प्रभारी आष्टा को सूचित करेगा।

एड्स रोग विषय पर जेल जिला में कार्यशाला आयोजित

sehore news
विश्‍व एड्स दिवस पर मंगलवार को जिला जेल में एड्स पीडित व्‍यक्तियों के विधिक सहायता व साक्षरता कार्यक्रम का आयोजन किया गया, आई.सी.टी.सी काउन्‍सलर पुष्‍पा साहू के द्धारा बताया की एच.आई.वी संक्रमित/एड्स से बचने हेतु एकमात्र एड्स के सम्‍बन्‍ध में समुचित जानकारी होना ही इससे बचने का उपाय है। एच.आइ.वी. संक्रमित अधिकांश लोगो में कई सालो तक बीमारी का कोई लक्षण दिखाई नही देता हैं पर आगे चलकर बीमारी के लक्षण प्रकट हो जाते है। जो एड्स की अवस्‍था बनाते हैं। विधिक साक्षरता कार्यक्रम में एड्ससे फैलने के कारण , बचाव, सरक्षण एवं अपचार की जानकारी देकर जागरूक किया। सा‍थ ही गोपनीयता के बारे में बताकर बेहतर जीवन के जीने की कला के बारे में बताया। एस.टी.आई. काउन्‍सलर के द्धारा जानकारी दी गई।कार्यक्रम में जिला जेलर श्री अजय खरे, प्रमोद नोडीया, नोडल अधिकारी जागेश्‍वर दयाल कोरी, श्रीमति पुष्‍पा साहू आई.सी.टी.सी काउन्‍सलर, कुलदीप तिग्‍गा ,लैब टैक्‍नीश्यिन कमिनी गौंड एवं जिला जेल के समस्‍त कर्मचारी उपस्थित थें। 

05 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई वर्तमान में कोरोना एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 107 है

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि पिछले पिछले 24 घंटे के दौरान 05 व्यक्तियों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है। सीहोर के रेल्‍वे कॉलोनी, फ्रींगजसीहोर, वार्ड नंबर 23, बडा बाजार एवं गंगाआश्रम निवासी 1-1  संक्रमित मिला है।   जिले में एक्टिव/संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 107  है। आज कुल  18  व्यक्तियों को रिकवर होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया। कुल रिकवर की संख्या 2381  है। 48 संक्रमितों की उपचार के दौरान मृत्यु हुई है। आज 372  सैम्पल लिए गए है । सीहोर शहरी क्षेत्र से 49 सैम्पल लिए गए, नसरूल्लागंज 70 आष्टा से 83, इछावर से 46, श्यामपुर से 100,  बुदनी से 27 सैम्पल लिए गए है ।  आज पॉजीटिव मिले नए कंटेनमेंट जोन सहित समस्त कंटेनमेंट एवं बफर जोन में स्वास्थ्य दलों द्वारा सघन स्वास्थ्य सर्वे किया जा रहा है। वहीं पॉजीटिव मिले व्यक्तियों के करीबी संपर्क वाले व्यक्तियों की पहचान कर उनकी सूची तैयार की जा रही है। प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में सर्वे के लिए एक से दो दल लगाए गए है । सर्वे दल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को बनाया गया है तथा स्वास्थ्य सर्वे दल में ए.एन.एम. आशा कार्यकर्ता, आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 2536 है जिसमें से 48 की मृत्यु हो चुकी है 2381 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है तथा वर्तमान में एक्टिव/ पॉजीटिव की संख्या 107 है। आज 372 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 50365 हैं जिनमें से 47386  सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 383 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 372 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में है उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 काल सेंटर स्थापित किया गया है जिसका संपर्क नंबर-7247704181 है कोविड-19 से संबंधित जानकारी इस संपर्क नंबर पर ली व दी जा सकती है। वहीं जिला चिकित्सालय सीहोर में टेलीमेडिसीन के लिए संपर्क नंबर 07562-401259 जारी किया गया है तथा राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर काल करके भी टेलीमेडिसीन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी सेवा हेतु www.esanjeevaniopd.in पंजीयन कराया जा सकता है। कलेक्टेट कार्यालय में भी जिला स्तरीय काल सेंटर बनाया गया है जिसका संपर्क नंबर 07562-226470 है तथा होम क्वारंटाइन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है जिस पर संस्थागत क्वारंटाइन अथवा होम क्वारंटाइन व्यक्ति या उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साईकोलाजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से निःशुल्क प्राप्त कर सकते है ।

नवोदय विद्यालय श्यामपुर में कक्षा 6वीं में प्रवेश हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि 29 दिसंबर एवं 9वीं में आवेदन की तिथि 31 दिसंबर की गई।

जवाहर नवोदय विद्यालय श्यामपुर प्राचार्य ने जानकारी देते हुए बताया कि जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा 2021 कक्षा छठवीं एवं नवमीं में प्रवेश के लिए आवेदन आमंत्रित किए जा रहे हैं। सत्र 2021-22 के लिए ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया नि:शुल्क है जो 22 अक्टूबर 2020 से शुरू है। इसे नवोदय विद्यालय समिति की वेबसाइट www.navodaya.in पर भरा जा सकता है। ऑनलाइन आवेदन भरने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2020 निर्धारित की गई थी जिसे बढाकर कक्षा 6 के लिए 29 दिसंबर 2020 एवं कक्षा 9 के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथ 31 दिसंबर 2020 हो गई है। सत्र 2020-21 कक्षा पांचवी के वहीं छात्र आवेदन के पात्र होंगे जो सरकारी मान्यता प्राप्त विद्यालय में अध्ययनरत हो अभ्यर्थी जिस नवोदय विद्यालय में आवेदन कर रहा है उसी जनपद के सरकारी या मान्यता प्राप्त विद्यालय के सत्र 2020-21 के कक्षा पांचवी का छात्र होना आवश्यक है। अभ्यर्थी की जन्म तिथि 1 मई 2008 से 30 अप्रैल 2012 के मध्य होना आवश्यक है। परीक्षा का प्रारूप और विस्तृत जानकारी के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय समिति की वेबसाइट www.navodaya.in  एवं जवाहर नवोदय विद्यालय श्यामपुर की वेबसाइट http://navidaya.gov.in/nvs/nvs-school/sehore/en/home का अवलोकन कर सकते हैं। 

महाविद्यालयों में एक जनवरी से शुरू की जायें प्रायोगिक कक्षाएँ - मुख्यमंत्री श्री चौहान
उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में दिये निर्देश

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में आयोजित उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान महाविद्यालयों में एक जनवरी, 2021 से प्रायोगिक कक्षाओं का संचालन करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की गाइड-लाइन को ध्यान में रखते हुए 50 प्रतिशत क्षमता के साथ सामाजिक दूरी का का पालन करते हुए तीन-तीन दिन के लिये बैच निर्धारित कर कक्षाएँ शुरू की जायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उच्च शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक विद्यार्थियों को बेहतर सुविधाएँ दिलाई जायें। उन्होंने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा दिया जाये, ताकि विद्यार्थियों को रोजगार प्राप्त करने एवं अपना व्यवसाय स्थापित करने में आसानी हो सके। उन्होंने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की दिशा में विभाग के लिये तय किये गये बिन्दुओं पर सुव्यवस्थित ढंग से कार्य करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि समय-सीमा तय कर विभागीय लक्ष्यों को पूरा करें। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के हितों एवं भविष्य को ध्यान में रखते हुए आवश्यतानुरूप महाविद्यालयों का युक्ति-युक्तकरण व्यवस्थित ढंग से किया जाये। इसी तरह एकल संकाय वाले महाविद्यालयों का बहुसंकायी महाविद्यालयों में उन्नयन आवश्यकतानुसार किया जाये। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक विद्यार्थियों को महाविद्यालयों में उपलब्ध सीट के अनुसार प्रवेश दिया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 200 शासकीय महाविद्यालयों का इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित करने की कार्यवाही शुरू की जाये, जिससे विद्यार्थियों को वर्चुअल लर्निंग एवं स्मार्ट क्लॉस-रूम जैसी सुविधाएँ मिल सकें। उन्होंने कहा कि 100 से कम विद्यार्थी संख्या वाले 51 शासकीय महाविद्यालयों को निकटस्थ बड़े महाविद्यालयों में विलय करने पर विचार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि 37 निजी विश्वविद्यालयों पर नियंत्रण रखने की जिम्मेदारी सरकार की है। उन्होंने कहा कि भवनविहीन महाविद्यालयों के लिये किराये से भवन लेने पर विचार किया जायेगा। उन्होंने विभाग के निर्माण कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास एवं हितलाभ वितरण स्थानीय विधायक एवं अन्य जन-प्रतिनिधियों की मौजूदगी में ही करने के निर्देश दिये। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने विभागीय गतिविधियों की जानकारी देते हुए कहा कि 73 प्रतिशत विद्यार्थी शासकीय महाविद्यालयों में प्रवेशरत हैं। इस वर्ष 4.37 लाख विद्यार्थियों ने स्नातक एवं 1.30 लाख विद्यार्थियों ने स्नातकोत्तर कक्षाओं में प्रवेश लिया है। बैठक में प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा श्री अनुपम राजन ने ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन एवं ई-प्रवेश तथा अन्य विभागीय गतिविधियों की जानकारी दी। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बोर्डिंग स्कूलों की समीक्षा के दौरान कहा कि फिलहाल जनवरी माह तक बोर्डिंग स्कूल नहीं खोले जायेंगे। फरवरी माह में इनके खोले जाने पर विचार करेंगे,जिसकी जवाबदेही स्कूल प्रबंधन की होगी।

राज्य सरकार का लक्ष्य गरीब परिवारों के लिये बेहतर रोजगार - मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये कि स्ट्रीट वेण्डर योजना के अंतर्गत अधिक से अधिक हितग्राहियों का चयन कर उन्हें लाभान्वित किया जाये। राज्य सरकार का लक्ष्य गरीब परिवारों को बेहतर रोजगार प्रदान करना है। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप में रोजगार के अवसरों में वृद्धि करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि इस योजना के अच्छे परिणाम मिले हैं। योजना का दायरा बढ़ाया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वित्त श्री मनोज गोविल और विभागीय अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि छोटे-छोटे व्यवसाय शुरू करने के लिये शासकीय मदद पहुंचायी जाये। इसे अभियान के स्वरूप में किया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम के एकीकृत क्लस्टर तैयार किये जाये। बताया गया कि विभाग द्वारा 19 एकीकृत क्लस्टर के प्रस्ताव तैयार किये गये हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि जिलों में वहां पैदा होने वाली सामग्री, कृषि उत्पादों पर आधारित एकीकृत क्लस्टर विकसित किये जाये। वनवासियों तथा किसानों को योजना का लाभ मिले। बताया गया कि इस योजना में अधोसंरचना विकास, डिस्प्ले तथा मार्केटिंग को भी शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि जो बच्चे इन्नोवेटिव आइडिया रखते हैं उन्हें स्टार्टअप शुरू करने में पूरी मदद दी जाये। बताया गया कि प्रदेश में 1132 पंजीकृत स्टार्टअप है और 39 इंक्यूबेशन सेंटर हैं। इन सभी स्टार्टअप और सेंटर्स को सुदृढ़ किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निर्यात के लिये उच्च गुणवत्ता का उत्पाद बनाने के लिये लघु उद्यमियों को मदद देकर प्रोत्साहित किया जाये। ऐसे उत्पादों का चयन किया जाये जिनको निर्यात के लिये विकसित किया जा सकता है। इस योजना में लघु उद्यमियों को शामिल किया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि छोटी-बड़ी सभी औद्योगिक इकाइयों की स्थापना की प्रक्रिया को और सहज-सरल बनाया जाये। सभी स्वीकृतियां 30 दिनों के अंदर जारी हो जाये। जिसमें 30 दिन बाद औद्योगिक इकाइयाँ कार्य करना प्रारंभ कर सकें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों में उद्यमियों को आवंटित भूमि का उपयोग केवल उद्योग स्थापना में ही होना चाहिये। यदि कोई उद्यमी इस भूमि का अन्य उद्देश्य से उपयोग करता है तो उक्त भूमि को उससे खाली कराया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के लघु उद्यमियों द्वारा तैयार उत्पादों को ऑनलाइन मार्केटिंग कम्पनियों से जोड़ने के लिये विभाग समन्वयक का कार्य करें। महाविद्यालयीन विद्यार्थियों को भी इसमें जोड़ा जा सकता है। औद्योगिक इकाइयों को फेसिलिटेट करने के लिये लाइफ सायकल पोर्टल बनाया जा रहा है। जो कि सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यमों के लिये सुदृढ़ इको सिस्टम के रूप में कार्य करेगा। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 1896 निवेशक चिन्हाकित किये गये हैं। जिनके द्वारा 5355 करोड़ का पूंजी निवेश होगा और करीब 85 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। लॉकडाउन अवधि में बंद उद्योगों को पुन: चालू करने में शासकीय मदद पहुंचायी गयी। प्रदेश में लगभग सभी औद्योगिक इकाइयां पुन: प्रारंभ हो चुकी हैं। सात नवीन औद्योगिक क्षेत्र चिन्हांकित किये गये हैं, जिसका विकास किया जा रहा है। भारत सरकार के सहयोग से ग्वालियर में अपेरल सेक्टर पर आधारित इंक्यूबेशन सेंटर का निर्माण किया गया है।

लोक सेवा प्रबंधन विभाग से संबंधित जानकारियां अब व्हाट्सएप पर प्राप्त  करें राज्य स्तरीय व्हाट्सएप नम्बर 0755-2775227 जारी

राज्य लोक सेवा अभिकरण मध्यप्रदेश द्वारा आम नागरिकों के लिये लोक सेवा प्रबंधन विभाग अंतर्गत संचालित लोक सेवा केन्द्रों  व उनकी उपलब्ध  सेवाओं की जानकारी को मोबाइल के माध्यम से व्हाट्सएप पर प्राप्त करने हेतु राज्य स्तरीय नम्बर 0755-2775227 जारी किया गया है। इसके लिये जिले के नागरिकों को सबसे पहले इस नम्बर को अपने मोबाइल में सेव (सुरक्षित) करना होगा, उसके बाद व्हा्ट्सएप के माध्यम से इस नम्बर पर Hi / Hello मैसेज भेजना होगा। नागरिक के मैसेज भेजने के उपरांत नागरिक के पास विभिन्न विकल्पों  के चुनाव करने हेतु मैसेज आयेगा, जिसमें नागरिक लोक सेवा केन्द्रों अथवा एमपी डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर दर्ज कराये गये आवेदन के निराकरण की स्थिति, जारी किये गये प्रमाण पत्र पर लगे डिजीटल हस्ताक्षर का सत्यापन, लोक सेवा केन्द्रों  पर उपलब्ध नागरिक सेवाओं की जानकारी, नजदीकी लोक सेवा केन्द्र की जानकारी एवं शासन के लिये महत्वपूर्ण  सुझाव व फीडबैक दर्ज कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: