वीर कुंवर सिंह पर विवादित बयान देने से घिरी मंत्री शीला मंडल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 5 दिसंबर 2020

वीर कुंवर सिंह पर विवादित बयान देने से घिरी मंत्री शीला मंडल

shila-mandal-on-kunwar-singh-statement
पटना : मंत्री शीला मंडल के बयान को जदयू ने बताया गलत। पूर्व मंत्री जय कुमार सिंह का बयान।किसी शहीद की  तुलना दूसरे से करना ठीक नहीं। बाबू वीर कुंवर सिंह 1857 की क्रांति के महानायक थे। ऐसे महानायक के बारे में बयान देना उचित नहीं। रामफल मंडल भी शहीद थे, उनका सम्मान होना चाहिए। शीला मंडल जिम्मेवार पद पर हैं, उन्हें संभल कर बयान देना चाहिए। अब मंत्री ने माफी मांग ली, इस्तीफे की जरूरत नहीं। मंत्री को आगे से ऐसा बयान नहीं देना चाहिए। भाजपा नेता और पूर्व मंत्री राणा रणधीर ने भी निंदा की। किसी शहीद के बारे में इस तरह का बयान ठीक नहीं। हर शहीद का सम्मान होना चाहिए, सबका अपना योगदान। मंत्री जैसे पद वाले व्यक्ति को ऐसा नहीं बोलना चाहिए। जिम्मेदार पद पर बैठे व्यक्ति की जिम्मेदारी भी ज्यादा होतो है। भाजपा के वरिष्ठ नेता सचिंद्र प्रसाद सिंह ने भी किया विरोध। बोले- किसी शहीद के बारे में ऐसा बयान ठीक नहीं। देश मे हर व्यक्ति के योगदान का सम्मान होना चाहिए। राजद एमएलए चेतन आनंद का शीला मंडल का बयान। मंत्री को इस बयान पर इस्तीफा दे देना चाहिए। बाबू वीर कुंवर सिंह किसी एक जाति के लिए लड़ाई नहीं लड़ी थी। शीला मंडल राजपूत जाति की बात कर रही हैं। आखिर कोई मंत्री किसी समाज और उसके महापुरुष के बारे में ऐसा बयान कैसे दे। सकता है। शीला मंडल को मंत्री बने रहने का अधिकार नहीं। आपको बता दें कि बीते दिनों बिहार सरकार की परिवहन मंत्री शीला मंडल बिहार के सीतामढ़ी के बाजपट्टी प्रखंड में शहीद रामफल मंडल को श्रद्धांजलि गई थीं, जहां उन्होंने बाबू वीर कुवर सिंह को लेकर विवादित बयान दिया था। शीला मंडल ने कहा कि बाबू वीर कुंवर का एक हाथ कटा तो उनका देश दुनिया में नाम हो गया। बच्चे-बच्चे उनके बारे में जानते और पढ़ते हैं। लेकिन रामफल मंडल जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपनी जान दे दी, उन्हें कोई नहीं जानता। फिर बाद में उनोहने अपने उस बयान पर आपत्ति जताते हुए बोली कि मेरा इरादा कहीं से भी किन्ही के भावनओं को ठेंस पहुंचाने का नहीं था। मेरे दिल में वीर कुंवर सिंह के प्रति असीम श्रद्धा है। मेरे उस बयान से जिनकी भी भावना को ठेंस पहुंची है, उनके लिए मैं खेद प्रकट करती हूं.”

कोई टिप्पणी नहीं: